रामप्यारी का सवाल - 93

हाय….आंटीज..अंकल्स एंड दीदी लोग..या..दिस इज मी..रामप्यारी.. आज शाम के नये सवाल मे आपका स्वागत है. तो आईये अब शुरु करते हैं आज का “कुछ भी-कही से भी” मे आज का सवाल.

सवाल है : ये दो मीनार जैसी क्या चीज हैं? बताईये.



तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. तब तक रामप्यारी की रामराम.


Promoted By : ताऊ और भतीजा

86 comments:

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:00

baajaraa

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:00

बाजरा

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:00

This comment has been removed by the author.
  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:01

बाजरा का सिट्टा

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:01

This comment has been removed by the author.
  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:01

@sameer uncle

lo ji ho gai hattrick ...........badhai ho

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:02

badhayee sameer ji

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:03

aaj itna asaaan sawal rampyari?

  M VERMA

25 October 2009 at 18:03

baajaraa hai

  M VERMA

25 October 2009 at 18:04

समीर जी को बधाई.

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:04

aaj itna asaaan sawal rampyari?

no comment ....

ha ha .....

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:06

हा हा!! हवन बड़ा सिद्ध निकला!! ओम नमः स्वाहाः!!


जय हो!!

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:07

ab agli paheli poochho Rampyari...
iska nateeja nikal to 5 min mein nikal gaya..:D

  प्रेमलता पांडे

25 October 2009 at 18:07

अरे! हवन का ये असर!
बाजरे की बालों को यूं पहचान लिया!

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:08

आज मुरारी भाई कहाँ है...?? ये कमेंट किसके डिलिट हो गये शुभम! :)

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:08

correction-

ab agli paheli poochho Rampyari...
iska nateeja to 5 min mein nikal gaya..:D

-------------------------

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:09

संगीता जी ने मंत्र दिया है..

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:12

yah comment maine delete kiya tha--

Bajra likha tha [100% ki bajay 1005 likh gayee...]..dekha to 2-3 jawab aa gaye--isliye delete kiya...koi fayda nahin tha is jawab ka..

main to soch rahi thi aap ki hattrick todi jaye...lekin aap ki net speed meri net speed se tez hai..kya karen...ha ha ha!

-------------
Murari ji aur Sangeeta ji aayenge to kya boojhenge..
isliye rampyari ko kah rahi hun..agli paheli abhi poochh lo..moderation laga kar...

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:12

पूछो पूछो!! :) पहले ’सुपर महा ताऊ’ तो घोषित किया जाये तीन बार हैट्रिक लगाने की. है न अल्पना जी??

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:14

Waise....'Mahatau ki upadhi ek bar hi --ek vyakti ko deni chaheeye...

ab ki to Super Mahataau ki upadhi milegi..:D

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:15

Jee bilkul..sahi farmayaa...abhi commenttee bithayegi..Rampyari madam..:)

..ab hai tea time..main chali..

  मिस. रामप्यारी

25 October 2009 at 18:16

@ प्रतिभागियों से निवेदन : कृपया नतीजा खुद ही घोषित ना करें.

हो सकता है ये बाजरा ना होकर कोई और कलाक्रुति हो?

समीर अंकल की हेट्रिक बिगाडने की साजिश तो नही है ये कहीं?

समीर अंकल से निवेदन है कि वो अपने स्व-विवेक से निर्णय लें

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:16

correction--
**committee

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:17

Sameer ji ab google baba ki sharan mein jayen...LOL!

  दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

25 October 2009 at 18:20

ब्लागवाणी पर पोस्ट आई उस से पहले पन्द्रह टिप्पणियाँ!
अपना तो जीतने का कोई चांस नहीं। क्यों बताएं कि बाजरी के भल्डे हैं।

  दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

25 October 2009 at 18:23

मेहंदी के झाड़ से बने खंबे हैं जी!

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:29

hmmmmmmmm

paheli me twist ......

chal bhai mera naya jawab

CORN YA BHUTTA

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:31

ओम नमः स्वाहाः!!

...........

mantr ne kaam kiya .............

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:33

mera jawab-

Ornamental Millet

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:33

lekin 99 % baajra hi lag raha hai ji .....

Note- ise jawab na mana jaaye .....

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:34

Sameer ji ka bajra khane wala tha..

main jo bataa rahi hun..wah rang birangi grass hai..[ornamental grass]jis ka naam hai--

Ornamental Millet

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:36

lo ab to Alpana ji bhi jawab khozne me lag gai ........

sameer uncle saavdhan .....

ओम नमः स्वाहाः!!

:) :) :) :) :)

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:37

बड़ा दुख हो रहा है कि यह क्या हो गया? किसकी नजर लग गई.

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:37

Shubham yah mera fool and final jawab hai..:D..no more search.

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:39

hmmmmmmmmm

Google baba to ab baajra hi bata rahe hain .....

sameer uncle chinta na karo .....

  प्रेमलता पांडे

25 October 2009 at 18:39

ha ha

ye bajare ki bali hai

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:40

Ornamental Millet..

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:41

Millet तो बाजरा ही हुआ.

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:41

link dene ke liye Rampyari ne manaa kiya hai..isliye nahin de rahi--Sameer ji aap ki hattrick tootne ke poore asaar hain...ha haha

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:41

nahin yah ek Ornamental grass hai..

naam par kyun jaate hain..

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:43

mil gaya mil gaya ........

Hybrid Bjara / Hybrid millet

ye hai ji .....pakka

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:44

अब चाहे कलाकृति हो या सजावटी या ओरीजनल...है तो बाजरे का सिट्टा...गाय ओरीजनल खड़ी कर दो या पेन्टिंग में...गाय तो गाय ही कहायेगी...


आन्दोलन की चिंगारी बस भड़कने को ही है....:)

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:45

फिर चाहे Hybrid ही क्यूँ न हो.. :)

  शुभम आर्य

25 October 2009 at 18:45

@ sameer uncle

ha ha ........

badiya dialogue

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:46

Moderation hata kar sab ko mushkil mein daal diya Rampyari..

  काजल कुमार Kajal Kumar

25 October 2009 at 18:46

sponge है पर रामप्यारी इस बाजरा समझ रही है :)

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:47

Sponge???
ek naya jawab?

:)

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:48

Ornamental Millet..

..

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:49

आंदोलन का नारा:

गाँधी जी की मूर्ति को पत्थर का गाँधी नहीं कहते, वो फिर भी गाँधी जी कहलाते हैं, जब भी पूछा जाता है कि कौन है...


जिन्दाबाद!!!

जिन्दाबाद!!

  Nirmla Kapila

25 October 2009 at 18:51

राम प्यारी चल इन सब को जवाब खोजने दे । सब ने कहा बाजरा तो चलो मैं तुम्हें बाजरे पर पंजाबी गीत के दो बोल सुना देती हूँ
बाजरे दा सिट्टा ,बाजरे दासिट्टा वे असाँ तली ते मरोडिया बाजरे दा सिट्टा
रुसिया जान्दा माहिया वे असां गली विचों मोडिया बाजरे दा सिट्टा
बस अब खुश?

  makrand

25 October 2009 at 18:52

समीर अम्कल संघर्ष करो हम आपके साथ हैं...रामप्यारी हाय हाय..

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:52

क्रान्ति का बिगुल बज चुका है...


आज ज्ञानी जी भी नहीं आये, अज्ञानियों को प्रकाश दिखाने. लगता है ज्ञान पुंज में तेल खत्म हो गया है. :)

  makrand

25 October 2009 at 18:53

ये आऊट आफ़ रूल है, जब सबने समीर अंकल को जीता घोषित कर दिया तो अब कुछ और हो ही नही सकता.

समीर अंकल जिंदाबाद जिंदाबाद

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 18:56

पंजाबी गीत से पहेली को जोर मिला है...समस्त पहेलीबाज निर्मला जी के आभारी है...और साथ सुर मिलाकर गाते हैं::

बाजरे दा सिट्टा ,बाजरे दासिट्टा वे असाँ तली ते मरोडिया बाजरे दा सिट्टा
रुसिया जान्दा माहिया वे असां गली विचों मोडिया बाजरे दा सिट्टा SSSsssssssssssss

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:57

Nirmala ji ne geet sunaya..waah!kya bat hai!
aap hi sahi hain Sameer ji...Andolan kahe karte hain..!

  makrand

25 October 2009 at 18:58

ये तीसरे और पांचवें नम्बर का कमेंट कौन डिलीट मार गया भाई? शायद शुभम जी थे वहां तो...रामप्यारी ये क्या हो रहा है?:)

  अल्पना वर्मा

25 October 2009 at 18:59

Ornamental Millet

  makrand

25 October 2009 at 19:00

रामप्यारी ये पहेलीयां कहां से लाई? फ़िल्मी ही पूछा कर तू तो.

  makrand

25 October 2009 at 19:01

समीर अंकल जीत गये भई जीत गये. समीर अंकल जिंदाबाद..जिंदाबाद...समीर अंकल संघर्ष करो ..हम आपके साथ हैं...आंदोलन शुरु हो..

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 19:03

फिल्मी ज्यादा ठीक रहती हैं..जिन्होंने फिल्मी का विरोध किया था वो तो आना ही बंद कर दिये...


फिल्मी वापसी के लिये आंदोलन की राह ली जाये क्या??

  makrand

25 October 2009 at 19:05

बिल्कुल..रामप्यारी फ़िल्मी पहेली शुरु करो..शुरु करो...आम्दोलन का आगाज कर दिया है...जब तक फ़िल्मी पहेली शुरु ना हो हमारा आंदोलन जारी रहेगा..जारी रहेगा..जारी रहेगा...

इंकलाब जिंदाबाद..जिंदाबाद.

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 19:09

आवाज उठाओ...मुरारी पारीक जी को लाओ भूख हड़ताल पर बैठाने..सम उनके साथ हैं. :)

  संगीता पुरी

25 October 2009 at 20:09

आज आने में दो घंटे लेट हुई .. इतना कुछ हो गया !!

  संजीव गौतम

25 October 2009 at 20:17

छ: बजे से पहले जवाब कैसे दिया जाय?

  Mishra Pankaj

25 October 2009 at 20:25

बाजरा

  Mishra Pankaj

25 October 2009 at 20:27

मै ६ बजे था नहीं नहीं तो समीर जी की हैट्रिक नहीं हो पाती :)
पर खुश हु भाई अपने साहब जो ठहरे

  Mishra Pankaj

25 October 2009 at 20:28

समीर जी कही ये डिलीट कमेन्ट भी तो किसी ज्ञानी महाराज के नहीं थे ?:)

  Mishra Pankaj

25 October 2009 at 20:31

अरे पूरा पढा नहीं थी ये कमेन्ट तो अल्पना जी का था माफी
मै सोचा ज्ञानी था :)

  Mishra Pankaj

25 October 2009 at 20:33

मुरारी पारीक जी आप कहा है मंच पर कार्यक्रम शुरू हुए काफी समय हो गया आप जल्दी पधारे :)

  Mishra Pankaj

25 October 2009 at 20:34

मुरारी पारीक जी आप कहा है मंच पर कार्यक्रम शुरू हुए काफी समय हो गया आप जल्दी पधारे :)

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

25 October 2009 at 21:56

बाजरे का भुट्टा है जी!

  Murari Pareek

25 October 2009 at 22:13

jawaar ka bhutta

  Murari Pareek

25 October 2009 at 22:21

bhai sunday ko aur sat day hum aa nahi paate ate hi humne jawaab de diyaa hai dekh lijiye !!!

  Mishra Pankaj

25 October 2009 at 22:23

मुरारी भाई रुकिए समीर जी भी आ रहे है और मै तो आ गया,,,
और बताइये

  Murari Pareek

25 October 2009 at 22:32

ha..ha.. sameerji mujhe pitenge unki haitrick ko khtraa paidaa ho gaya|

  Murari Pareek

25 October 2009 at 22:34

मिश्राजी रविवार को ७ बजे से १० बजे तक ओन एयर में रहता हूँ ! उसके बाद खाना खुद बनाता हूँ अभी खाना बनाना है इसलिए जाना हो गा कल मिलेंगे सबेर सबेर !!!

  Mishra Pankaj

25 October 2009 at 22:48

ठीक है भाई दो रोटी मेरी तरफ से भी खा लेना :)

  Anil Pusadkar

25 October 2009 at 23:14

रोज़ टाईम पर आओ तो कठीन सवाल और जिस दिन लेट हो तो सरल सवाल लगता है टाईम ही खराब चल रहा है।संगीता जी और वत्स जी से कन्फ़र्म करके ही अब पहेलियां बुझाने आऊंगा।वेसे ये ज्वार तो नही है और बाज़रे का ही भुट्टा है।

  ललित शर्मा

25 October 2009 at 23:28

रामप्यारी जी आज सबसे आखिर मे फ़ायनल एक जवाब दे रहा हुँ ये हमारे खेत मे लगा "बाजरे का सिट्टा" है, हमेशा समीर भाई को विजयी घोषित करते हो, कभी हमारे को कर दो, वैसे आज का जवाब सही है- जय हो

  ललित शर्मा

25 October 2009 at 23:29

एक लोहार की फ़ायनल चोट "बाजरे का सिट्टा"

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 23:35

लोहार की चोट से कहराते हुए डले हैं, मुरारी भाई..खाने के साथ जरा काढ़ा भी चढ़ा देना... :)

हैट्रिक तोड़ने का सपना भी तो आयेगा आज आपको. दबा के खाना खा लेना. :)

  Udan Tashtari

25 October 2009 at 23:39

पंकज भाई का तो ६ बजे न आने के लिए जितना आभार कहा जाये, कम है... :)

ज्ञानी जी आज नहीं आये, रविवार की छुट्टी रहती है ज्ञान बांट संस्थान में. हा हा!! :)

  Mishra Pankaj

26 October 2009 at 00:01

मेरे गाव में आज बिरहा का प्रोग्राम है सुना है ज्ञान जी वही गए है :)

  Mishra Pankaj

26 October 2009 at 00:07

चलिए भाई मै तो सोने जा रहा हु आप लोग जागो ,,,जागो........जागो...
अब कल से मुझे पहरेदार मत बोलने लगना भाई :)

  Murari Pareek

26 October 2009 at 11:12

bajraa aur jawaar ek jaise hi dikhte hain. phir raampyaari ka comment!!! samer ji bhookh hadtaal par baithane ke liye khaanaa wanaa banaa kar baithnaa padega!!

  Mishra Pankaj

26 October 2009 at 12:05

मुरारी भाई मै तो चक्कर में हु की किस किस बात के लिए भूख हड़ताल करेगे :)

Followers