रामप्यारी का सवाल - 97

हाय….आंटीज..अंकल्स एंड दीदी लोग..या..दिस इज मी..रामप्यारी.. आज शाम के नये सवाल मे आपका स्वागत है. तो आईये अब शुरु करते हैं आज का “कुछ भी-कही से भी” मे आज का सवाल.


सवाल है : इन को पहचानिये?




तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. तब तक रामप्यारी की रामराम.


Promoted By : ताऊ और भतीजा

67 comments:

  शुभम आर्य

29 October 2009 at 18:00

kutta

  ललित शर्मा

29 October 2009 at 18:01

पामेरियन कुत्ता
मै जवाब बदल भी सकता हु

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

29 October 2009 at 18:01

गधा

  ललित शर्मा

29 October 2009 at 18:02

दो कुत्ते हैं

  शुभम आर्य

29 October 2009 at 18:03

ek kutta aur ek toy hai .........

  शुभम आर्य

29 October 2009 at 18:04

oye aaj sameer uncle kahan rah gaye ??

  Udan Tashtari

29 October 2009 at 18:04

धोड़ा

  Udan Tashtari

29 October 2009 at 18:05

अरे, कहीं उलझे थे...एक मिनट में तो व्यारे न्यारे हो गये.

  Udan Tashtari

29 October 2009 at 18:06

वरना सोचा था कि आज जीत कर फिर से नई हैट्रिक की तैयारी करुँ..

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:06

KHARGOSH

  POTPOURRI

29 October 2009 at 18:07

isme do kutte dikh rahe hai. to jawab hai kutto ki do prajatiyan.

  ललित शर्मा

29 October 2009 at 18:08

लकड़ी की काठी-काठी पे घोड़ा-घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा-दौड़ा दौड़ा .............जय हो समीर भैया

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:11

jawaab aa gayaa hai khachchar ka bachchaa hai

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:12

अब नहीं बदलूंगा ये खच्चर का बच्चा है !! छोटा सा न्यारा सा और प्यारा सा हालाँकि आज देर हो गयी!!!

  डा.. झटका...21 सालों के तजुर्बेकार

29 October 2009 at 18:12

डाक्टर झटका रामप्यारी के सवाल 97 में आपका स्वागत करता है. एक क्ल्यु लिजिये..अभी तक सही जवाब नही आया है. तो सम्मानिय प्रतिभागियों लगे रहो...डाक्टर झटका आपके साथ है. अगर कोई मरीज आया तो मैं थोडी देर अस्पताल जा सकता हूं. पर फ़िकर नाट..मैं जल्दी ही वापस लौटूंगा. मरीज का ईंतजार कर रहा ःऊम...आज कमाई ठीक से नही हूई. घर कैसे जाऊंघा?

  POTPOURRI

29 October 2009 at 18:15

ek paheli mein teen jantu!! yahan par to teen janwar najar aa rahe hai ik to peela, ek safed aur ik kaala to rampyari ji humko kya teeno ko bujhana hai?

  ललित शर्मा

29 October 2009 at 18:21

@वाह डाकदर झटका साब आप तो हमने ही उल्लु बणा रहे सो थारा हस्पताल तो "अंडर कन्सट्रक्सन" सै
उठे बोर्ड लगा राख्या है,मै अपणे "शेरु" नै ले के गया था आज ईलाज कराण। यो बताओ हस्पताल का नाम लेके आप जाओ कठे सो, सुच्ची-सुच्ची बताइयो- हम तो काल हार गे, इब हार के ही सहारे की जरुरत सै........बोलो श्याम प्यारे की जय

  पी.सी.गोदियाल

29 October 2009 at 18:25

गधा और घोडा !

  पी.सी.गोदियाल

29 October 2009 at 18:26

या फिर खच्चर और घोडा

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:29

dr.jhatkaa jhatkaa laga gaye!!!

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:34

abhi bhio sahi jawaab nahi aayaa hai

  शुभम आर्य

29 October 2009 at 18:36

hmmmmmmmmmmm

" रामप्यारी कोई जिम्मेदारी नही लेती कि डाक्टर झटका आपको सही सलाह ही देंगे. आप अपने विवेक से काम लेवें. डाकटर झटका की नियुक्ति इस गप्प गोष्ठी को और मनोरंजक बनाने के लिये की गई है. "

  शुभम आर्य

29 October 2009 at 18:36

ye padha kya ???/

  सुनीता शानू

29 October 2009 at 18:40

समीर भाई आपने धोड़ा क्यूँ लिखा है? यह कौनसा जानवर है? मुझे तो यह सफ़ेद घोड़ा और काले कान नजर आ रहे है

  डा.. झटका...21 सालों के तजुर्बेकार

29 October 2009 at 18:40

@ POTPOURRI

एक बिल्कुल सौ प्रतिशत सही बात : इस चित्र मे तीन नही सिर्फ़ दो ही जंतू हैं.

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:40

lekin jhatkaa saab galat jaankaari nahi denge ye pakka hai

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:42

puppy dog and khachchar ka beta ha..ha..

  डा.. झटका...21 सालों के तजुर्बेकार

29 October 2009 at 18:43

@ मुरारी पारीक

जब हम सौ प्रतिशत कह रहे हैं तो सौ प्रतिशत यकीन किया जा सकता है.

  ललित शर्मा

29 October 2009 at 18:44

फ़ेर तो अपणा जवाब फ़िक्स"दो कुत्ते एक बडा एक छोटा" आपां गाँव देहात के आदमी सां हमने इनकी जाति प्रजाति का पता कोनी- हमारा जवाब............अभी कुछ गुँजाईश है क्या?

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:54

mule deer!!and angora rappid!!!

  Murari Pareek

29 October 2009 at 18:55

जी दाग्धर साब मुझे तो १००% आप पर विश्वास है इसीलिए दुबारा प्रयास कर रहा हूँ !!

  सुनीता शानू

29 October 2009 at 18:55

एक बात आप सभी से बाँटती हूँ। कभी-कभी मुझे लगता है कि पहेली भी एक नशा है। मै जब भी कम्प्यूटर ओपन करती हूँ सबसे पहले यह रामप्यारी का ब्लॉग ही नजर आता है। सारे काम छोड़ कर बस यही देखती हूँ की क्या पहेली आई कौन क्या लिखा, कौन जीता? ्मुझे जवाब आये या न आये जाने क्यों कई बार ब्लॉग देखा जाता है...:)क्या आपके साथ भी ऎसा होता है?

रामप्यारी कैसा जादू किया रे ये तूने...:)

  ललित शर्मा

29 October 2009 at 19:02

दो कुत्ते है। इसे लाक किया जाए।
किसी भले घर के लगते है।

  Murari Pareek

29 October 2009 at 19:02

ji haan @sunitaaji aap bilkul sahi kah rahi hai

  महफूज़ अली

29 October 2009 at 19:03

Yahan do kutte hain....... ek German Shepherd kutta hai...... aur ek lady Pomerenian (Miss) hai.... lady Pomerenian hai jiske galey mein pink colour ki bow lagi hui hai....

  Murari Pareek

29 October 2009 at 19:04

ललित जी इतने लोक रामप्यारी कहाँ से लाये पिछले १घन्ते ४ मिनट में आप तीन चार लोक खराब कर चुके हैं हा..हा..

  महफूज़ अली

29 October 2009 at 19:04

Main Kutta expert hoon..... waise bhi....

  ललित शर्मा

29 October 2009 at 19:04

हो हो हो ये तो वो ही रामप्यारी है मेळे वाली,जलेबी वाली- अरे भाई मै तो वहां जा कै एक कविताई ही रच आया-गए थे हरि भजन को ओंटन लगे कपास्।

  महफूज़ अली

29 October 2009 at 19:06

Maine kasam khayi hui hai..... ek na ek din to pass hounga hi.... aapki paheli mein....

hey ! ishwar..... is baar mujhe jeeta dena...

  Murari Pareek

29 October 2009 at 19:07

lagtaa mehfuj bhaai aaj kuchh jyaada confident hain.....

  ललित शर्मा

29 October 2009 at 19:09

@ भाई मुरारी लाल जी-इब तो एक्सपर्ट भी आगे, हमने दो कुत्ते तो पहले से ही बता राखे हैं जवाब हमने बदला नही सै।
ये हमारा फ़ायनल जवाब से। चलते है। राम-राम
आज तो वि्जेता घोषित किया जाए

  Murari Pareek

29 October 2009 at 19:10

dekhte hain @lalitji kal ka intejaar hi karnaa padegaa!!

  POTPOURRI

29 October 2009 at 19:11

@सुनीता शानू ditto, same to same mera bhi yahi haal hai!:-)

  M VERMA

29 October 2009 at 19:18

कुत्ते भी इतने खूबसूरत

  M VERMA

29 October 2009 at 19:20

लगता है जो भी है उन्हें बहुत लोग पहचानते हैं

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

29 October 2009 at 19:33

क्या करें! हमें आज तक कुत्तों की पहचान करनी न आ सकी :)
लेकिन गधों को जरूर पहचान लेते हैं :)

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

29 October 2009 at 19:39

गधे की पीठ पे कुत्ता बैठा हुआ है...

  POTPOURRI

29 October 2009 at 19:50

gadhe ka baccha aur uski mummy

  Murari Pareek

29 October 2009 at 20:05

dr sahab bich bich me kuchh sarkaa jaaiye

  डा.. झटका...21 सालों के तजुर्बेकार

29 October 2009 at 20:10

आज देव ऊठनी ग्यारस है. और आज लोग फ़टाके छुडाते हैं..अभी अभी एक बच्चा अस्पताल आया है उसका हाथ जल गया है फ़टाके से...वैरी बैड ..वैरी बैड..पेरेंट्स..यू नो? फ़टाके नही छुडाने चाहिये..और बच्चे जिद्द भी करें तो सावधानी रखनी चाहिये.

  Murari Pareek

29 October 2009 at 20:16

देव उठनी ग्यारस में देवताओं को पटाखों से विदा दे रहे हैं क्या !!!!

  डा.. झटका...21 सालों के तजुर्बेकार

29 October 2009 at 20:21

देव्ताओं को विदा नही कर रहे हैं बल्कि वो आज सोकर उठे हैं तो अब आज से शादी का ब्याह का सीजन शुरु हो जायेगा. सो देवताओं का स्वागत किया जारहा है.

  Murari Pareek

29 October 2009 at 20:33

ohh !!! chaliye aakhir dev uthe!!!

  डा.. झटका...21 सालों के तजुर्बेकार

29 October 2009 at 21:20

भाई देव तो ऊठ गये पर जयपुर के सीतापुर इलाके मे ईंडियन आईल कार्पोरेशन के बडे गोदाम मे आग लगने से धमाके से उड गये ..बहुत उंची लपटे ऊठ रही है. यह अपडेट आशीष जी से मिला है. उनका घर तीन किलोमीटर दूर है तब भी उनके खिडकी दरवाजे बज गये.

  Devendra

29 October 2009 at 21:38

मैने कम्प्यूटर देर से खोला .... हाय..! आज तो मैं जीत ही जाता...
दो कुत्ते हैं, भले घर के हैं या नहीं मैं नहीं जानता पर अमीर जरूर लगते हैं।

  Vivek Rastogi

29 October 2009 at 21:40

इधर तो जानवर पहचानने वाले एक से एक एक्सपर्ट लोग हैं, इधर इनसे कुछ सीखने को मिलेगा।

  Vivek Rastogi

29 October 2009 at 21:41

हमें तो यह गधा और खरगोश जैसे दिख रहे हैं।

  डा.. झटका...21 सालों के तजुर्बेकार

29 October 2009 at 22:08

जरुरी हिंट : अब तक आये 54 कमेंट्स मे से एक जवाब बिल्कुल सही लग रहा है अभी तक. अब इससे ज्यादा डाक्टर झटका से आप और क्या उम्मीद करते हैं?

आज देव उठनी ग्यारस का तोहफ़ा है ये डाक्टर झटका की तरफ़ से.

  संगीता पुरी

29 October 2009 at 22:19

विवेक रस्‍तोगी जी का जबाब सही है !!

  Udan Tashtari

30 October 2009 at 00:21

llama

  seema gupta

30 October 2009 at 08:42

http://t1.gstatic.com/images?q=tbn:7pm5N0WcRiNVEM:http://www.dailypets.co.uk/wp-content/uploads/2008/05/donkey2.jpg
raam pyari ye lo link or aadrniy पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ji ko bdhai do..

regards

  seema gupta

30 October 2009 at 08:43

http://www.dailypets.co.uk/wp-content/uploads/2008/05/donkey1.jpg
dog and donkey freindship

regards

  महफूज़ अली

30 October 2009 at 09:20

Mera to badluck hi kharaab hai.... :(

:(
:(
:(


Main hounga kaamyaab , main hounga kaamyaab .....


main hounga kaamyaab S S S S S S S ek din n n n n n n nnn.....

o ho ho ho....

man mein hai vishwaas , man mein hai vishwaas.....

main hoonga kaamyaab ek din......

  संगीता पुरी

30 October 2009 at 09:54

महफूज जी ,
बैडलक खराब हो तो चलेगा .. गुडलक खराब नहीं होना चाहिए !!

  Anil Pusadkar

30 October 2009 at 11:30

गधे हैं।

  Murari Pareek

30 October 2009 at 11:42

PANDIT DK SHARMAAJI KO BADHAAI HO!!!

  ललित शर्मा

30 October 2009 at 12:15

भाई हमने कहा कुता तो गधे निकले
कुछ हमारे साथी ही बड़े सधे निकले
कुते के साथ साथ गदर्भ बंधे निकले
पंड़ित जी के जवाब बड़े जंचे निकले

जय हो-महाराज, विजय हो- दिग्विजय हो,

Followers