रामप्यारी का शतकीय सवाल - 100

हाय….आंटीज..अंकल्स एंड दीदी लोग..या..दिस इज मी..रामप्यारी.. आज रामप्यारी के सौवें सवाल मे आपका हार्दिक स्वागत है.

रामप्यारी ने ताऊजी डाट काम का चार्ज लिया है तबसे रामप्यारी द्वारा पूछी जाने वाली यह सौवी पहेली है. आज के विजेता को दिया जायेगा जिनियस गोल्डन सर्टीफ़िकेट.

तो आईये अब शुरु करते हैं आज का “कुछ भी-कही से भी” मे आज का सवाल.


सवाल है : बताईये, ये क्या हैं?




तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. तब तक रामप्यारी की रामराम.


Promoted By : ताऊ और भतीजा

48 comments:

  Udan Tashtari

1 November 2009 at 18:06

हाथी

  ललित शर्मा

1 November 2009 at 18:06

uunt

  ललित शर्मा

1 November 2009 at 18:06

rajsthan me saja huaa uunt

  ललित शर्मा

1 November 2009 at 18:08

जय हो ऊंट ही है-कुबड़ पे सीसा भी लगा रखा है

  ललित शर्मा

1 November 2009 at 18:08

@समीर भैया -राम राम जल्दी मे राम-राम भी भुल ग्या।

  M VERMA

1 November 2009 at 18:10

हाथी है. समीर जी को बधाई शतकीय पहेली के विजेता

  काजल कुमार Kajal Kumar

1 November 2009 at 18:10

हाधी भी हो सकता है उंट भी, पर बात ये है कि ये 26 जनवरी या 15 अगस्त के समारोह में भाग ज़रूर ले रहा है.

  makrand

1 November 2009 at 18:11

ये जुलुस के ताजिये दिखते है.

  ललित शर्मा

1 November 2009 at 18:13

@ काजल भैया-हाथी की पीठ इससे चौड़ी होती है
ये 200% ऊँट ही है।

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

1 November 2009 at 18:18

पक्का, ये डायनासोर है :)

  M VERMA

1 November 2009 at 18:23

शर्मा जी
कल आपने बताया 'डायना' आज बता रहे है 'डायनासोर'

  POTPOURRI

1 November 2009 at 18:25

haathi ya phir hathni jo kisi jhanki ya procession mein nikla/nikali hai

  Udan Tashtari

1 November 2009 at 18:40

राम राम ललित भाई..और बाकी सबको भी राम राम

  M VERMA

1 November 2009 at 18:41

समीर जी को राम राम और फिर से बधाई

  संजय तिवारी ’संजू’

1 November 2009 at 18:48

यह बैल को सजाया गया है.

  Udan Tashtari

1 November 2009 at 18:50

आज बहुत लोग एबसेन्ट हैं. कहाँ गये???????

  Udan Tashtari

1 November 2009 at 18:51

वर्मा जी, राम राम...कोई भरोसा नहीं..अभी डॉक्टर झटका आयें और पौंछ जायें...शनि भारी चल रहा है. :)

  Gagan Sharma, Kuchh Alag sa

1 November 2009 at 18:54

26 जनवरी की परेड़ में वीर बच्चों को ले जाता हाथी।

  M VERMA

1 November 2009 at 18:54

शनि नहीं आज तो रवि है

  ललित शर्मा

1 November 2009 at 18:57

@ SAMIR BHAIYA- aapne aaj pahale hi shattar gira diya, ab chlte hai..... kl milte hain, jab aap niyam se "vijeta" ghoshit kiye jaoge. "alankaran samaroh" ka nimantran dena naa bhulna,

  ललित शर्मा

1 November 2009 at 19:01

रामप्यारी -हमारा जवाब लाक किया जाये
"ऊँट"यह नही बदलेगा-वैसे भी हमने बदला
नही है।

  Udan Tashtari

1 November 2009 at 19:09

अरे, ललित भाई....रुको...ऊँट है क्या पक्का!!


द्वारका में बैल भी ऐसे ही ही सजाते हैं...संजू भईया बता गये...

  Udan Tashtari

1 November 2009 at 19:11

माथा तो देखो..हाथी ही होगा ललित भाई..

  Udan Tashtari

1 November 2009 at 19:13

अब ललित भाई नहीं मान रहे...तो एक काम करो..हम जबाब


ऊँट

दे रहे हैं आपका वाला.

आप हमारा वाला हाथी दे दो..जो जितेगा, आधा आधा... कैसी रहेगी:


ऊँट

अब आप बदलो.. :)

  makrand

1 November 2009 at 19:29

आपस मे आधा आधा ऊंट और हाथी बदलना मना है . मेनका जी आजायेंगे आधा आधा का सोचा भी तो.

  makrand

1 November 2009 at 19:30

वैसे मेरा जवाब लाक करें जयपुर के गणगौर जुलुस मे सजाया हुआ हाथी है.

  महेन्द्र मिश्र

1 November 2009 at 19:33

ये हाथी का हौदा है जिसमे बच्चे तिरंगा लेकर बैठे है ...... .

  Pandit Kishore Ji

1 November 2009 at 20:13

haathi hain

  अजय कुमार झा

1 November 2009 at 20:19

तो काहे न टीप टीप के आज सेंचुरी भी मारिये दी जाए...

ई बकरी है जी..बिल्लन का सारा दूध पीकर मुटिया गई है..तभिये हाथी और ऊंट दिख रही है...ई डायनासोर कौन कह रहे हैं जी...देखिये बिल्लन विदेशी जंतु से परिचित नहीं है..ई बकरी ही है...अभी अभी खुद बिल्लन ने बताया है जी ..सो इनाम पर हमरा हक नहीं रहा...आप लोग जौन बकरी कहेंगे..ऊ का ईनाम पकिया है..
एलियन जी हम हाजिर हूं ..एब्सेंट नहीं लगाया जाए..हमरा जी..

  makrand

1 November 2009 at 20:41

लो जी झा जी कह रहे हैं तो हम भी अपना जवाब बदल कर बकरी कर रहे हैं

  cmpershad

1 November 2009 at 20:53

सौ सवाल कर दिए! बधाई:)

हम तो एक भी न हल कर पाए:(

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

1 November 2009 at 20:59

"रामप्यारी का शतकीय सवाल - 100"
के लिए बधाई!
रामप्यारी हाथी पर बैठ कर क्या करोगी?

  महफूज़ अली

1 November 2009 at 21:24

Arey! Bhai......... aaj hum late ho gaye.......

aaj sunday tha..... to socha ki aaj khana baahar khayen......... to hum kha ke aa gaye......... aur seedha aapke sawaal pe hi koodey hain...

to bhai.......... hamara jawab yeh hai ki yeh

ooont hai.... isko lock kar diya jaye....... aur aaj phir hum dead sure hain......

  रंजन

1 November 2009 at 21:35

पहली नजर में हाथी... दुसरी में ऊंट.. जो सही हो मान लो..

  दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

1 November 2009 at 21:41

ये सोवाँ सवाल है जी, हाथी है जी ऐरावत बना दिया है।

  Mishra Pankaj

1 November 2009 at 22:01

मन्ने तो उट लागे है ......

  संगीता पुरी

1 November 2009 at 22:04

हाथी , घोडा , उंट या पालकी .. इन्‍हीं मे से कोई होना चाहिए !!

  'अदा'

1 November 2009 at 22:16

i uunt hi hai....
bas ऊंट
...na haathi, na ghoda na palki...
i to bas ऊंट hai..

  शुभम आर्य

1 November 2009 at 22:39

हुम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म

आज देर हो गयी |

लग रहा है किसी वाहन जैसे बस को सजाया गया है |

  Devendra

1 November 2009 at 23:16

यह कोई जानवर नहीं है। किसी राष्ट्रीय समारोह में देशवासियों द्वारा द्वारा निकाली गई झांकी है।

  'अदा'

2 November 2009 at 04:45

Ye Puskar ke mele mein sajaaya hua Uunt hai ji...pakka

  प्रेमलता पांडे

2 November 2009 at 09:47

घोड़ा !

  अजय कुमार झा

2 November 2009 at 10:00

बिल्लन लो हम फ़िर आ गये ..का करें हमरी बकरी के फ़ेवर में कौनो अईबे नहीं किया है..अरे हम कह रहे हैं न ई बकरी है जी.....बिल्लन फ़ोटो ही ऐसे एंगल से लेती है कि ..बकरी हाथी लगती है और हाथी चुहिया...
अच्छा बिल्लन इसकी ड्रेस बदलो फ़िर बताएंगे...सारी कंफ़्यूजन ही ड्रेस के कारण है..अपना फ़्राक पहना दो इसको फ़िर बताएंगे..

  वन्दना

2 November 2009 at 12:52

oont hi lag raha hai vaise hathi bhi ho sakta hai.

  Dr Ankur Rastogi

2 November 2009 at 12:59

hai to yeh oonth hi par saja dusshere ki haathi ki tarah hai.

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

2 November 2009 at 14:33

आज तो जरूर सब के सब फेल होंगें :)

  Arvind Mishra

2 November 2009 at 17:56

कम से कम इस शतकीय पहेली में तो हिस्सा ले लूं -मानने को तो किसी राजस्थानी समारोह में सजे ऊँट लगे है !

  Ram Chander Agarwal

24 September 2010 at 20:54

ye 15 august samaroh me saja camel he

Followers