खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (127) रामप्यारी

हाय….आंटीज..अंकल्स एंड दीदी लोग..या..दिस इज मी..रामप्यारी.. आज के इस खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी मे रामप्यारी और डाक्टर झटका आपका हार्दिक स्वागत करते है. और अब शुरु करते हैं आज का “खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी” आज का सवाल उडनतश्तरी की पसंद से अंतरिक्ष से है.


आज के "खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी" का चित्र नीचे देखिये और बताईये यह क्या दिखाई दे रहा है?




यहां माडरेशन नही है....यह आपका खेल आप ही खेल रहे हैं... अत: ऐसा कोई काम मत करिये जिससे खेल की रोचकता समाप्त हो ... सारे जवाब सबके सामने ही हैं...नकल करना हो करिये..नो प्राबलम टू रामप्यारी....बट यू नो?..टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.

परेशानी हो...डाक्टर झटका आपकी सेवा मे मौजूद हैं.. २१ सालों के तजुर्बेकार हैं डाक्टर झटका. पर आप अपनी रिस्क पर ही उनसे मदद मांगे. क्योंकि वो सही या गलत कुछ भी राय दे सकते हैं. रिस्क इज यूवर्स..रामप्यारी की कोई जिम्मेदारी नही है.

तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 बजे दिया जायेगा, तब तक रामप्यारी की तरफ़ से रामराम और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.


"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"




Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

102 comments:

  Murari Pareek

28 November 2009 at 18:00

bhanwar

  Devendra

28 November 2009 at 18:01

badh me bhanwar

  Murari Pareek

28 November 2009 at 18:02

whirlpool

  Devendra

28 November 2009 at 18:05

cyclone

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:07

मंगल ग्रह पर मिला गढ्ढे.

  Murari Pareek

28 November 2009 at 18:16

crackers on moon

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 18:17

Von Karman cloud vortices

  Devendra

28 November 2009 at 18:23

मुरारी जी धन्यवाद
आपने जवाब बदल दिया अब मेरे जीतने की संभावना बढ़ गई है
मैं चला सुंदर काण्ड का पाठ करने
नमस्कार।

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:24

Cloud Vortices

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:25

cloud vortices


double row of vortices, which rotate opposite from each other.

:)

  संगीता पुरी

28 November 2009 at 18:28

This comment has been removed by the author.
  Murari Pareek

28 November 2009 at 18:30

devendraji sundar kand kaa path kijiye achhi baat par jeet ki badhaai dete jaaiye!! sameerji raam raam

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 18:32

समीर लाल जी, काला चश्मा लगाकर कईं बार कुछ चीजे स्पष्ट नहीं दिखाई पडती....इसलिए क्या पता ये double rows की बजाए triple rows :)

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 18:33

राम राम भाई लोगों ये तो ब्लेक होल जैसा दिख रहा है।

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 18:35

समीर जी राम
मुरारी जी राम
पं-वत्स जी गोड़ लागी
देवेन्द्र जी राम-राम

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 18:37

पंडित जी कुछ मेरा भी भविष्य देखिए ना, यहां तो शनि-राहु-केतु सारे ही लगे हुए हैं, अभी तक तो एक बार भी जीत नही हुई है। विजयी भव: का आशीर्वाद तो दीजिए।

  Vivek Rastogi

28 November 2009 at 18:38

गूगल मैप से अंटार्कटिका की तस्वीरें ली गईं हैं जहाँ डॉ झटका को ये ५ तेल के कुएँ मिले हैं।

  Gagan Sharma, Kuchh Alag sa

28 November 2009 at 18:42

लाल बुझक्कड़ बुझे और ना बुझे कोई,
ये तो कोई चीज है जो लगती है खोई-खोई।

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:43

सबने घणी राम राम...


मुरारी बाबू को कल की बधाई...आज की भी देने की इच्छा थी लेकिन दिल की तमन्ना दिल में ही रह गई..फिर कभी सही...


आज पंडित जी का शनि उतरेगा..हा हा


ललित बाबू और देवेन्द्र भाई-जय हो!!

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:43

रोहित भाई का स्वागत है.


गगन जी-प्रणाम!!

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:44

आज बाबा जी नहीं आये...लगता है हिमालय तो नहीं चले गये वापस??

  makrand

28 November 2009 at 18:45

अरे अंकलों...कोई तो लिंक दो मेरे को...मुझे जल्दी वापस ट्युशन पर जाना है.

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 18:48

भई ललित जी हमारा आशीर्वाद तो सदैव आपके साथ है... हाँ अगर कुछ नकद नारायण की झलक दिख जाती तो अपना कोई स्पैशल वाला आशीर्वाद दे देते...जिससे कि अगली पहेली से आप ही हर बार विजेता बनेंगें...जिस दिन कोई पहेली की छुटी होगी तो, उस दिन भी विजेता आप ही होगें :)

  makrand

28 November 2009 at 18:49

वत्स जी परणाम...

हमको दिजिये लिंक जरा...फ़िर नकद नारायण का इंतजाम करता हूं?

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 18:50

मकरन्द...आज फिर एक आन्दोलन होने वाला है । कहो तो जलूस में चलने के लिए तुम्हारा नाम लिख लिया जाए :)

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 18:50

@ पंडित वत्स जी म्हारा तो शनि उतारो
कर बद्ध निवेदन है आपसे हाथ गोड़ जोड़ के।

@ गगन शर्मा जी को राम-राम

  Murari Pareek

28 November 2009 at 18:51

laitji ramo raam

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 18:51

समीर जी, हमारा शनि तो पंचों के निर्णय के बाद से ही उतर चुका है :)

  Murari Pareek

28 November 2009 at 18:51

swaami ji chilam ka jugaad bhidaane gaye hain !! sameerji!!

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:52

मकरंद


बेटा पहेली बाद में कर लेना...अभी तो ट्यूशन में जो पढ़ायेंगे उसका लिंक देखो..हा हा!!


जल्दी!!


ये पंडित जी लिंक नहीं देंगे..बस, घुमाते रहेंगे. :)

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:53

अब तो पंडित जी की हैट्रिक लगेगी.... :)

पंडित जी मिठाई खिलाओ!! मेरी मंगलकामनाएँ काम आ गई न आपके!!

  Nirmla Kapila

28 November 2009 at 18:54

raampyaaree smet sab ko raam raam

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 18:54

भई ललित जी....थारा शनि कल से उतर जाएगा...बस एक काम करना होगा..वो ये कि कल से पहेली का जवाब शाम 6 बजे से पहले ही देना पडेगा :)

  makrand

28 November 2009 at 18:54

वत्स जी आंदोलन मे जाने का समय नही है...ट्युशन नही गया तो मम्मी मारेगी...समीर अंकल आप ही दे दिजिये लिंक?

  Murari Pareek

28 November 2009 at 18:55

pandit ji aapki 21 tippaniyaa paidin hain mere paas kahaan deni hai link de dijiye

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:56

मकरंद, हम से सीख कर हम से ही बदमाशी...और जब जलूस निकाला जाता है तो पंडित जी के साथ हाय हाय करते हो... :)



निर्मला जी को प्रणाम!!

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 18:56

समीर जी, मिठाई हैट्रिक होने के बाद ही खिलाएंगें...क्या भरोसा मिठाई खाने के बाद आप कल को अपनी मंगलकामना वापिस ले लो ओर हमारी हैट्रिक बीच में ही रह जाए :)

  makrand

28 November 2009 at 18:58

अरे मुरारी अंकल...आप पंडितजी से लिंक क्यों मांग रहे हैं? पंडितजी तो अब कभी भी लिंक ना देंगे?:) क्यों पंडितजी? या देरहे हों तो बोलिये...मैं रुकू?

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 18:58

अरे नहीं पंडित जी, हम तो आपके भक्त हैं...वो जो मुरारी बाबू २१ टिप्पणी चढ़ाने जा रहे हैं, उसमें ११ मेरी हैं. :)

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 18:59

अलख निरंजन
सब बच्चा लोगो को आशीर्वाद

  makrand

28 November 2009 at 19:00

समीर अंकल हाय हाय के नारे लगाने मे भी मजा तो आता ही है ना? सारी स्कूल की भडास पंडितजी के साथ निकाल लेता हूं...अब मैं चला..

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:00

ये कैसी जगह है कि पहले १५ मिनट

कोई किसी को राम राम नहीं करता...
बाद में फिर कोई भी काम नहीं करता.




शेर पर दाद उठाईये!! :)

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 19:01

बच्चा लोग हमे याद कर रहे थे तनि हमे लेट हो गया, स्वामी समीरानंद ने मुरारी लाल जैसा फ़ोटु खिंचाने कहा था तो हमने आज अपना फ़ोटो मुम्बई के टाप फ़ोटोग्राफ़र से बनवाया है।

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:01

बाय, मकरंद..अच्छे से पढ़ना!!

  makrand

28 November 2009 at 19:01

बाबा जी गोड लागी...मुझे ऐसा आशिर्वाद दिजिये कि मुझे परिक्षा भी नही देनी पडे और मेरी रैंक नंबर वन आजाये.

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 19:02

लो भाई लिंक दे ही देते हैं....धर्म यात्रा

बस अब आप अलग अलग पोस्टों पे अपनी टिप्पणियाँ छाप दें....अगर पोस्ट संख्या कम पड जाए तो बाकी की टिप्पणियाँ आगे भविष्य में कभी एडजस्ट कर लेंगें :)

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:02

जे बात हुई न बाबा!!

चिलम बढ़ाओ...जय बम बम!!

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:03

babaji naye look me aa gaye hain!!

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:03

बाबा जी के पास गोड लगने से ऐसा हो जाता तो पहले तो बाबा ८ वीं पास करते और फिर हम!! :)

जाओ बच्चा, ट्यूशान से बढ़कर कोई मुक्ति मार्ग नहीं इस परीक्षा का!!

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 19:04

मकरन्द...जाते जाते बाबा जी से एक "परीक्षा पास कराऊ ताबीज" जरूर लेते जाना :)

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 19:04

और बच्चा ये क्या हो रहा है, साधु संतो पर भी दंड विधान लागु हो रहा है, 21 टिप्पणी का दंड किस बात का? स्पष्ट किया जाए,अलख निरंजन

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:05

अब बाबाजी से चिलम लेकर एक हाहाकारी सुट्टा लगाना होगा महाराज ज़रा चिलम बधैयेगा ललितजी औए समीरजी भी पियेंगे !!! पंडित जी नहीं लेंगे मकरंद अभी बच्चा हौं !!!

  makrand

28 November 2009 at 19:05

अच्छा बाबा समीरानंद जी महाराज की जय बोलकर परिक्षा कक्ष मे जाता हूं.पर आज मैने होमवर्क नही किया..क्या टीचर की पिटाई से बचने का कोइ फ़रमुला है किसी के पास? हो तो कोई लिंक ही देदिजिये.

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 19:06

समीर जी.....वाह्! वाह्! क्या शेर मारा है! लाजवाब्!


ओर हाँ, पंचों का निर्णय है कि सभी को दण्ड में अपनी अपनी टिप्पणियाँ करनी पडेंगीं...ये घाल मेल नहीं चलेगा :)

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:07

बाब शठेश्वर नाथी जी आपकी नयी फोटू अच्छी लगी पर मुह पर पावडर ज्यादा नहीं हो गया क्या!!

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:08

ठीक है पंडित जी, अलग से २१...अब ठीक...वो मकरंद का होम वर्क करा दिजिये जरा...

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:09

मुरारी बाबू...

क्या भाई भभूत को पाऊडर कहते हो...बाबा जी की वक्र दृष्टि हुई और जीतना मुश्किल हो जायेगा... :)

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:09

बाबा भभूत से मेक अप करते हैं...जय हो!!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 19:10

ये पावडर नही भभुत है। अभी कुंभ के मेले मे आना अपना धुणा वहां लगेगा तुमहारा भी कल्याण होगा बच्चा। साधु संतो से मजाक नही करते।

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:11

ओ०ह सोरी महाराज मुझे नहीं पता था की ये राख्ड़ा है . मतलब भभूत है !!! खैर जो भी है अच्छा है !! महाराज मेरी हत्रिच्क के क्या संभावनाएं हैं!!

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:11

मुझसे भी कोई मजाक न करे...मैं भी भूतपूर्व फुल टाईम और अब पार्ट टाईम साधु हूँ...बाबा समीरानन्द के नाम से स्टाल रहेगा कुंभ में. :)

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 19:12

भई..हम ऊपर की क्लास के अध्यापक हैं...प्राईमरी क्लास के बच्चों का होमवर्क कराना अपने बस का नहीं :)

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:13

पंडितजी बताया नहीं आपकी २१ टिप्पणिया आपके कोंसे ब्लॉग पे देना है !!! १५ मिनट १५ सेकेण्ड में जवाब नहीं आया तो टिप्पणिया नहीं दी जाएँगी पांचो से अनुरोध है मामले पर गौर करें !!!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 19:14

बच्चा मुरारी लाल " तुम्हारा तीसरा हैट्रिक तय है" बस बाबाजी का चिलम भरते रहो, लंगोटी धोते रहो तो कई और हो जायेगे।

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:14

श्री श्री कितना ह़जार आठ ?? स्वामी समीरानन्दजी आप तो मोडेर्ण जमाने के बाबा बन गए हैं!!!

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:14

दे तो दिया पंडित जी ने लिंक...अब क्या घोडए पर बैठा कर ले जायें आपको ब्लॉग तक बैण्ड बाजे के साथ..क्यूँ मुरारी बाबू??

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 19:14

भई मुरारी जी..हम ऊपर अपनी टिप्पणी में बता चुके हैं

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:16

link milaa pandit ji !!!

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 19:16

समीरानद जी....जो ये "श्री श्री 10008 बाबा बोल बचन जी महाराज" के नाम से एक छदम नाम रखे हैं वो काहे नहीं बता रहे हैं :)

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:17

ha haa ha chaliye samerji chalte hain akele jaane ka man nai ho raha||

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 19:17

बाबा जी धोक दयुं,
मुरारी लाल नै तो आशीर्वाद दे दिया, थोड़ा म्हारे लिये भी रखो ना।

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:20

ललितजी बाबाजी के पास दो ही लंगोट हैं एक मैं धौंग्फा दुसरा बाबाजी पहनेंगे !!! आप आपके लिए काम मया बचेगा बाबाजी सोच कर बताएँगे!!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 19:21

वत्स- हमारा नाम बोल बचन महाराज नही है। और ये नाम हमारे परम पुज्य गुरु जी ने दिया है। और हम छद्म भी नही हैं। असल मे हैं। हमारे धुणे पे आईये स्वा्गत है।

  makrand

28 November 2009 at 19:23

बाबा शठाधीश महाराज का पता नोट किया जाये.

धूणापुरम आश्रम

शठाधीश पुरम.

शठाधीश्वर पर्वत की चोटी पर,

हिमालय.

  makrand

28 November 2009 at 19:24

बाबाजी का फ़ोन नम्भर भी किसी को चाहिये तो देदेता हूं?

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 19:27

ओ हो ये मकरंद बच्चा तो बड़ा काबिल है, आगे चल कर अमेरिका का प्रधानमत्री बनेगा। हमारा आशीर्वाद है, अलख निरंजन

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 19:30

देखो बच्चा लोग, हमने पुछा है ये टिपनी का दंड किस लिए है, बाबा लोग स्वय दंड धारण करते है।
तनि खुलासा किजिए, स्वामी समीरानंद ही बताएं संत समाज से है, सही निर्णय देंगे। मान्य होगा

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

28 November 2009 at 19:32

बच्चा मुरारी लाल- सुबह शाम के परसाद का इंतजाम ललित कुमार के पास है। वो जिम्मेदारी थोड़ी खर्चीली है।

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:35

ha..ha.. chaliye lalitji bhi kyaa yaad rakhenege ki chele ki sifaarish se babaji ke dhune pe sewaa mil gayi isiliye kahte hain sangati taare kusangati borey!!

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 19:35

भाई मुरारी लाल जी आज म्हारी ही रोटियां को चक्कर पड़ रह्यो सै, ईं मोड़ा नै कठ्या सुं जिमावां?

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 19:35

इस दंड से आप मुक्त हैं बाबा...ये मुरारी बाबू और उनके चक्कर में हमें भरना है...आम जनों की बातें हैं. आप न चिन्तित हों.

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:37

swaami ji paditji ko dandit krwaane me aap jyaada prabhaawi tha kyunki aap maharaaj hain !! aur ham to aapke pichhey hain kyunki hum chele hain!!

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:38

ललितजी सेवा मुश्किल स्यूं मिली है !! प्रसद्द को इन्तेजाम करो और सग्लान ने अभी बांटो!!!

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 19:39

@ समीर भाई बाबाजी को छुट क्यों उस दिन मरारी लाल और हमने मिल कर 500 किया था। ये ठीक नही है।

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:39

pandit ji raseed dewen 21 tippniyaa shaandaar andaaj me poori hui!!!

  Murari Pareek

28 November 2009 at 19:40

sahi kahaa lalit ji babaji ko chhut denge to babaji naraaj ho sakte hain!!

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 19:52

मुरारी जी समीर भाई से पुछो? बाबाजी को आरक्षण का लाभ कैसे मिल रहा है?

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 19:54

आज तो डाक्टर झटका से तो हिंट मांगा ही नही?
झटका जी हिंट दिजिएएएएएएएएएएएएएएएए

  रंजन

28 November 2009 at 19:56

ताऊ की दाढी़ लग रही सफेद सफेद.. बीच में कुछ काले बाल...:)

  makrand

28 November 2009 at 19:59

मुरारी पारीक

आप कल का विषय लोक कर्वा दिजिये

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 20:08

झटका जी हिंट दिजिएएएएएएएएएएएएएएएए

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 20:12

हिंट क्या देना....पंडित जी से लिंक ही ले लो...

  Murari Pareek

28 November 2009 at 20:24

kal ke liye koi jaanwaar hi rakh dijiye!!

  Murari Pareek

28 November 2009 at 20:24

lekin makrand ye Dr jhtkaa ki tumne kese le li bhaai!!

  Murari Pareek

28 November 2009 at 20:25

Dr saab!!!!!!!!!! kahaan hO>>>>>>>

  Murari Pareek

28 November 2009 at 20:27

तो बहनों'र भाइयों आदमी और लुगाइयों ताऊ और ताइयों हम निकलते हैं शुभ रात्रि <

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 20:29

तो बहनों'र भाइयों आदमी और लुगाइयों ताऊ और ताइयों हम निकलते हैं शुभ रात्रि

  makrand

28 November 2009 at 20:33

डाक्टर झटका कही दिखे नही तो मैने सोचा मैं ही डाक्टर झटका का रोल करलूं.) अभी भी नही दिख रहे हैं.:)

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

28 November 2009 at 20:35

मकरन्द...चलें जलूस में :)

  ललित शर्मा

28 November 2009 at 20:40

चलो सौवी टिप्पणी हम कर देते हैं।

  Udan Tashtari

28 November 2009 at 21:23

101 वीं हम!!

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

28 November 2009 at 21:36

पता नही जी!
शैतान की आँखें जैसी है ये तो।

Followers