ताऊ की चौपाल मे : दिमागी कसरत - 1

ताऊ की चौपाल मे आपका स्वागत है. ताऊ की चौपाल मे सांस्कृतिक, राजनैतिक और ऐतिहासिक विषयों पर सवाल पूछे जायेंगे. आशा है आपको हमारा यह प्रयास अवश्य पसंद आयेगा.

सवाल के विषय मे आप तथ्यपुर्ण जानकारी हिंदी भाषा मे, टिप्पणी द्वारा दे सकें तो यह सराहनीय प्रयास होगा.


आज का सवाल नीचे दिया है. इसका जवाव और विजेताओं के नाम अगला सवाल आने के साथ साथ, इसी पोस्ट मे अपडेट कर दिया जायेगा.

आज का सवाल है :-

भीम के उस पौत्र का क्या नाम था? जो महाभारत के युद्ध मे अश्वत्थामा के द्वारा मारा गया था?


अब ताऊ की रामराम.

उत्तर :-

उपरोक्त सवाल का सबसे पहले सही जवाब दिया
प्रकाश गोविंद ने और फ़िर
जी. के. अवधिया ने. सही जवाब है अंजनपर्वा, जो कि घटोत्कच का पुत्र और भीम का पौत्र था, सही उत्तर है। अंजनपर्वा का वध महाभारत के 14वें दिन के युद्ध में अश्वत्थामा के हाथों हुआ था।

कृपया प्रकाश गोविंद जी की दूसरी टिप्पणी और जी के अवधिया की टिप्पणी इसी पोस्ट पर देखें.

9 comments:

  Nirmla Kapila

29 November 2009 at 08:58

ghatoykach \ tau jee ram ram

  ललित शर्मा

29 November 2009 at 09:04

बर्बरीक

  प्रकाश गोविन्द

29 November 2009 at 09:46

जवाब :
भीम के उस पौत्र का नाम था - घटोत्कच
जो महाभारत के युद्ध मे अश्वत्थामा के द्वारा मारा गया था

  प्रकाश गोविन्द

29 November 2009 at 10:00

पहला जवाब निरस्त किया जाए !
सही जवाब :
भीम के उस पौत्र का क्या नाम था - अंजनपर्वा !
जो की घटोत्कच का पुत्र था और महाभारत के युद्ध मे अश्वत्थामा के द्वारा मारा गया था !

  Udan Tashtari

29 November 2009 at 11:58

घटोत्कच ----क्या टाईम भी बदल दिया...वो तो बाई द वे चले आये...

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

29 November 2009 at 11:58

हमें तो लग रहा है कि आज की पहेली के विजेता जरूर श्री प्रकाश गोविन्द जी ही बनेंगें....

  मिस. रामप्यारी

29 November 2009 at 12:41

@ उडनतश्तरी अंकल,

समय नही बदला है. यह ताऊ की चौपाल सुबह के सत्र में चलेगी और वो खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी अपने नियत समय पर ही चलेगा.

  रंजन

29 November 2009 at 12:49

ताऊ ये महाभारत, रामायण.. उसका बेटा कौन उसका बाप कौन.. अपने तो समझ के परे है..

  जी.के. अवधिया

29 November 2009 at 16:47

प्रकाश गोविन्द जी का दूसर उत्तरा अर्थात् अंजनपर्वा, जो कि घटोत्कच का पुत्र और भीम का पौत्र था, सही उत्तर है। अंजनपर्वा का वध महाभारत के 14वें दिन के युद्ध में अश्वत्थामा के हाथों हुआ था।

बर्बरीक भी घटोत्क का पुत्र था किन्तु उसकी मृत्यु श्री कृष्ण के सुदर्शन चक्र से हुई थी और उसे कटे हुए सिर ने सम्पूर्ण महाभारत का युद्ध देखा था। आज बर्बरीक को खाटूश्याम जी के नाम से भी जानते हैं और राजस्थान के सीकर जिले में उनका प्रसिद्ध मन्दिर स्थित है।

Followers