रामप्यारी का खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (132) : आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका हार्दिक स्वागत करता हूं.

जैसा कि आप मुझसे भी ज्यादा अच्छी तरह से जानते हैं कि मैं क्यों ५ सप्ताह तक इस खेल का आयोजक रहूंगा. इस खेल के सारे नियम कायदे सब कुछ पहले की तरह ही रहेंगे. सिर्फ़ मैं आपके साथ प्रतिभागी की बजाय आयोजक के रुप मे रहुंगा. डाक्टर झटका भी पुर्ववत मेरे साथ ही रहेंगे.

आशा करता हूं कि आपका इस खेल को संचालित करने मे मुझे पुर्ण सहयोग मिलता रहेगा क्योंकि अबकी बार आयोजकी एक दिन की नही बल्कि ५ सप्ताह की है. और इस खेल मे हम रोचकता बनाये रखें और आनंद लेते रहें. यही इसका उद्देष्य है. तो अब आज का सवाल :-

नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि यह महिला कौन है?





तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 बजे दिया जायेगा, मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.


"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"


.टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.



Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

218 comments:

  Devendra

3 December 2009 at 18:01

nafisa ali

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:04

चालू हो जाईये...आज तो ललित जी की इच्छा पूरी की गई है...उनकी डिमांड पर सवाल है.

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:06

sunita willium

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:07

hilleri clinton

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

3 December 2009 at 18:11

हिलेरी क्लिंटन...फाईटर पाईलेट बनी हुई...

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:12

kisase sambhdhit hai sameer ji ye to bataaiye!!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:15

अरे, आज हमें देख शुरु से ही क्लू मांगने लग गये.

वो मकरंद को खोज रहा हूँ. उसकी कम्पलेंट है.

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

3 December 2009 at 18:17

भई मुरारी...आपके भरोसे हमने भी हिलेरी जवाब लिख दिया है...जरा लाज रख लेना...ऎसा न हो कि तुम्हारे चक्कर में अपनी भी लुटिया डूब जाए :)

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:19

समीरजी देखिये पंडित जी भी मुझसे आस लगा के बैठे हैं कृपया बातैया की किससे सम्बंधित पहेली पूछी गयी है!!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:20

क्लाऊडिया स्वेतलाना (रुसी महिला अंतरिक्ष यात्री)

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:21

mil gayaa link !! bye bye good night!!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:21

समीर जी, मुरारी जी, देवेन्द्र जी, पंडित वत्स जी, राम-राम, बाबा शठाधीश गोड लागै

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:22

पिछली पहेली में विषय निर्धारित किया गया था. :)

यही सिस्टम है मित्रों. :)

  Rekhaa Prahalad

3 December 2009 at 18:22

Namaskar! Eleanor Roosevelt?

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:22

lalit ji raam raam mujhe badhaai de sakte hain bindaas

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:23

राम राम ललित भाई.


मुरारी बाबू, आपको ईमेल पर वो कविता जा चुकी हैं..बता दिजियेगा मुझे.

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:23

kaafi din ho gayethe jeet ka swaad chakhe ha.ha.ha.

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:23

मुरारी भाई को लिंक मिल गया है. बाकी लोग उनसे मांग कर देख लें. :)

  makrand

3 December 2009 at 18:24

यूरी गागरीन है.

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:24

रेखा जी नमस्ते.

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:24

thanks sameerji aaapko monday ko meraa programme sunaa diyaa jayegaa!! many many thanks!!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:24

मुरारी जी काहे की बधाई लिंक हमारे पास भी है। हमारा जवाब सही है, पहले सर्चिया लीजिए ठीक से।

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:24

Senator Hillary Clinton, in explaining all the discrepencies of her "War Story.

  makrand

3 December 2009 at 18:24

अरे मुरारी अंकल ये तो सोचिये कि हिलेरी की फ़ोटो ब्लेक एंड व्हाईट क्यों होगी?

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

3 December 2009 at 18:25

सबको राम-राम जी.....
समीर जी चौबारे पर चढे कितने क्यूट लग रहे हैं :)

  makrand

3 December 2009 at 18:25

सबको रामराम.

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:25

इतनी जल्‍दी इतने जबाब !!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:26

हा.हा.हा. ललित bhaaiji अब तो हड्मांजी भी आ के बोले तो नहीं मानुगा!!!

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:26

सबको राम राम !!

  makrand

3 December 2009 at 18:26

मुरारी अंकल लिंक दिजिये और बधाई लिजिये वर्ना तो ये हिलेरी नही है.

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:27

हिलेरी क्लिंटन है .. मुरारी जी को एडवांस में बधाई !!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:27

संगीताजी धोक दयूं|(चरण स्पर्श)

  makrand

3 December 2009 at 18:27

समीर अंकल नमस्ते. आप चौबारे मे कितने अच्छे लग रहे हैं?:)

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:27

क्यूटनेस ऑफ चौबारा नहीं है...वो तो हमारी नेचुरल है...हा हा!!

  Rekhaa Prahalad

3 December 2009 at 18:28

Valentina Tereshkova!!!!!

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

3 December 2009 at 18:28

हमारे पास तो इसके एक नहीं बल्कि तीन तीन लिंक मौजूद हैं...वो भी कल से, लेकिन क्या करें बस आने में थोडी देर हो गई वर्ना मुरारी लाल की जगह पहला जवाब हमारा ही होता :)

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:28

मकरंद भैया आज रामप्यारी गुस्से में हैं पता नहीं कितनी टिप्पणियों की सजा हो और मैं कभी सजा पूरी किये बिना नहीं रहता !!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:28

मुरारी जी लिंक दीजिए नही तो हमारे से लिजिए। अगर हम पहले दे देगे तो विजयी हमे माना जाए।

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:29

चौबारे में बैठे उनके पोबारह हैं समीरजी!!!

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:29

किसे लिंक चाहिए .. मैं दूं क्‍या ??

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:30

link aap hi dijiye lalit ji!!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:30

मकरंद


कल आपने डॉ झटका जैसे सभ्य और सुसंकृत विद्व जन के लिए क्या क्या कहा दंड भरते समय? क्या इससे आपको पुनः दंडा नहीं लगना चाहिये. कृप्या जबाब दें कि आप अपनी सफाई में क्या कहना चाहते हैं??

----------------
:) आज तो २१ और समझो..अगर सफाई ठीक न रही.

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:30

संगीता जी प्रणाम-आज का परिणाम क्या रहेगा।

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:30

chaliye koi bhi dijiye par dijiye to sahi!!! main to confusion me hun!!!

  Rekhaa Prahalad

3 December 2009 at 18:30

@sameerji namaskar! aaj kaisa lag raha hai:)

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:31

क्यूँ मकरंद...पिछली सूचना के बाद भी हम चौबारे पर क्यूट ही लग रहे हैं क्या?? हा हा!!

  makrand

3 December 2009 at 18:32

संगीता आंटी मुझे चाहिये लिंक. मम्मी मांग रही थी. दिजिये प्लीज

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:32

कल तो नेट की ऐसी की तैसी हो राखी आज फिर वैसी की वैसी हो गयी वरना हम तो निकल लिए होते!!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:33

मकरंद लिंक के ताले आते है वो ले आओ!! झांसे में मत लाओ!!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:33

कैसा लगेगा रेखा जी...रामचन्द्र जी जैसा अहसास भी नहीं है वनवास का. :) बीच शहर का वन है यह तो..सबको खेलते देखो और खुद मन मसोस कर बैठो...५ सप्ताह...हाय!!

  makrand

3 December 2009 at 18:33

समीर अंकल, कल इसके लिये मम्मी ने मुझे बहुत मारा..अब आप तो दंड मत करना...मम्मी ने बोला ..खेल खेल की तरह खेलो..खबरदार आगे से ओछी जबान बोली तो..

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:33

मुरारी पारीक जी जीत चुके तो ललित जी पूछते हैं कि आज क्‍या होगा .. मैने तो उन्‍हें बधाई भी दे दी !!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 18:34

अलख निरंजन बच्चा लोग

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:34

समीरजी चौबारे में ठण्ड तो नहीं है ना!! यहाँ तो निचे ही इतनी ठण्ड है की हीटर जला के बैठे हैं!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:34

मम्मी को बोलो कि लिंक संगीता आंटी से फोन पर ले लें..क्यूँकि तुम्हें सजा होने वाली है वैसे ही. :)

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:35

सबको घणी राम-राम, ताउजी वाले अंदाज में !

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:35

ईमेल एड्रेस भेजो मकरंद .. मैं लिंक भेज देती हूं .. इतनी सजा काटकर भी शांत नहीं हुए !!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:35

होने को बहुत कुछ हो सकता है मैं अपना जवाब बदल भी सकता हूँ!!! अलखनिरंजन बाबाजी आप मुझे माफ़ कर चुके की नहीं!!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:35

बाबा से चिलम ले कर लगा लेता हूँ..ठंड से राहत लगेगी...यहाँ तो तापमान ० डीग्री हुआ है और साथ बारिश भी. :(

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 18:35

अरे ! बच्चा लोग इसको तो हम भी पहचानते है हमारे धुणे पे आई थी,

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:36

और समीर जी को चौबारे की बधाई और पंचबारे के लिए शुभकामनाये !

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:36

मुरारी जी .. इतनी ठंड है वहां क्‍या ??

  makrand

3 December 2009 at 18:37

ये इमेल एडरेस क्या होता है आंटी? आप तो यही लिख दिजिये लिंक..मेरा कोई इमेल नही है

  Rekhaa Prahalad

3 December 2009 at 18:37

Murari ji ko badhai.

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:37

बाबाजी समीरजी को देखने के ऊपर देखना होगा आज कल चौबारे में आराम फार्मा रहे हैं !!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:37

अच्छा हुआ जो मम्मी ने मारा.

आगे से ऐसा नहीं करोगे यह कहो तो हम माफ करा देंगे सजा. :)

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 18:38

मुरारी बच्चा तुम हमारी लंगोटी लाए कि नही? बड़ी ठंड हो गयी है। अब ब्याज के रुप मे एक "जाखट" भी देना पड़ेगा।

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:38

गोदियाल साहब..पचबारे के लिए ५ सप्ताह रुकना पड़ेगा...बाकी अभी की बधाई के लिए आभार.

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:38

संगीताजी सिक्किम की सर्दी तो बहुत भयानक है अभी तो शुरू भी नहीं हुई उस पर ये हाल है हड्डियां गला देती है !!!

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:38

गोदियाल जी नमस्‍कार .. रामप्‍यारी के सवाल के ठीक बीच में ही आप अपना पोस्‍ट डालते हैं .. इसलिए तो जबाब देने में पीछे हो जाते हैं .. पोस्‍ट डालकर प्रतिदिन आते हैं !!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:39

ये लो, बाबा को भी दंडा लगाने की आदत लग गई..जाखट क्या??

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:40

महाराज शाठेश्वर नाथ जी यहाँ ठण्ड आपके अस्राम से अधिक पड़ती है एक जाकेट आपको दे दूँ तो मेरा क्या होगा!!! आप तो वैसे ही ठण्ड प्रूफ हैं!!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:40

ललित भैया कहाँ निकल लिए चिलम का जुगाड़ करने गए दीखते हैं!!!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 18:41

तबही हम सोच रहे थे स्वामी समीरानंद कहा चले गये। अरे! टंकी पे काहे चढे है भाई? ऊ जुता खरीद लिए की नाही? ठंड आ गयी है।

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:41

बाबा निट्ठला नन्द अमरीका वाले आते..तो ठीक रहता. उनसे मिले भी काफी समय बीता..२४ घंटे से उपर हो गये...

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:41

संगीता जी मैंने तो यहाँ जीतने की उम्मीद ही छोड़ दी है इसलिए आराम से निकलता हूँ घर से वोट डालने के लिए ! पहले यह देख लेता हूँ कि समीर जी या किसी बाबा ने कोई फतवा-वातवा तो नहीं जारी कर रखा ! ऊपर से अपने ये ललित साहब है फ्रीफंड में डराते रहते है बच्चो को !

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:41

आज निठल्ला नन्द जी के दर्शन नहीं हुए मन व्याकुल है !!! स्वामी कहाँ हो!!!

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:42

आनेवाले 14 और 15 दिसम्‍बर को ठंड बढानेवाला ग्रहयोग है .. उसके आसपास बहुत ठंड पडेगी .. बारिश और और बर्फ भी पड सकती है .. कुहासा तो रहेगा ही मध्‍य दिसम्‍बर के बाद ठंड थोडा कम हो जाएगा !!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 18:42

टंकी नहीं है बाबा ये...चौबारा है पूस से बना....उसी पर उकडूं बैठे हैं ताकने सबको/

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:43

वैसे ललित जी भी किसी मोड़े से कम नहीं हैं बस राखडा लगाने की देर है !!!

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:43

निठल्लानंद जी, तैयार हो रहे है बस आते हे होंगे ,आज अमेरिका में बर्फ गिरी है, इसलिए गरम कपड़ो का इंतजाम कर रहे है !

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:44

संगीताजी कुछ उपाय भी तो बताइए ठण्ड को रोकने का !!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:45

गोदियाल साब राम -राम हम जरा टिप्पणि मारने चले गये थे गोदियाल साब की पोस्ट पे अपने आदमी हैं ख्याल रखना पड़ता है।

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:46

ये रहा लिंक .. इसे मम्‍मी को पढाओ ..

हम मिलजुलकर शहर की 40 प्रतिशत गंदगी कम कर सकते हें
!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:46

महाराज निठल्ला नंदजी को सर्द गर्म हो गयी !! वो अदरक ज्यादा डाल के चाय लेते हैं इसलिए!!! अभी अभी दाग्धर झटका के डिस्पेंसरी से बोल रहे थे !!!

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:46

ललित जी राम राम, ठीक से मारी या सिर्फ वाह-वाह करके आ गए ?

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:47

मुरारी जी ठंड बढाना है कि ठंड रोकना है .. पूरी दुनिया गर्मी से परेशान है .. आपको ठंड लग रही है तो गर्म जगह पर आ जाइए ना !!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:48

ललित जी स्वामी समीरानन्दजी ने नया आश्रम खोला है " चौबारा धाम" !! चलिए आज की धुनी शाठेश्वर नाथ जी और निठाल्लानंदजी के साथ वही रमाते है !!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:49

भाई गोदियाल जी जो समझ मे आ जाए। उसमे पुरा सारांश जो नही आए उसमे वाह-वाह, हा हा हा

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:49

गर्मी से परेशान तो गर्म में होते हैं ! संगीता जी जाने ज्यादा ठण्ड से जाती हैं या गर्म से !!!

  संजय बेंगाणी

3 December 2009 at 18:50

जब तक ब्लॉगवाणी पर आपकी पहेली दिखती है, उस पर पच्चीस टिप्पणियाँ आ चुकी होती है. क्या गड़बड़ है, जाँचे.

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:50

बुलाओ बाबा लोगों को, हमारे पास तो हमारा जुगाड़ रखा है। समीर भाई का चौबारा जिंदा बाद,

  अल्पना वर्मा

3 December 2009 at 18:51

Tereshkova

Engineer. First woman in space.

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:51

संजय जी गड़बड़ आपके आने में है, कृपया जांचे !

  बाबा निठ्ठल्लानंद जी

3 December 2009 at 18:51

हर हर महदेव,,बच्चा लोग

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:52

अल्पना जी को भी राम-राम !

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:52

संजय जी हम तो पहली टिकिट पहला शो वाले हैं, रात से ही खिड़की के सामने बैठ जाते हैं राशन पानी लेके। बाजार तक पोस्टर जाने से पहले ही हम अंदर हो जाते है।

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:53

संजय बेंगानी जी , 25 टिप्‍पणियां तो इसलिए दिखती हैं .. क्‍यूंकि ब्‍लॉगवाणी में 25 से अधिक टिप्‍पणियां नहीं दिखाता है .. वैसे ब्‍लॉगवाणी में इस पोस्‍ट के आने तक 50 से कम टिप्‍पणियां नहीं होती हैं !!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:53

मारा बेदर्दी तूने हर उस एक शख्स को,
जो समझता था तुझको नादान कल तक !
उसी का लूटा घरबार कुहरे की धुंध में ,
बनकर रहा जिसका तू मेहमान कल तक !!

भाई गोदियालजी की इस बात से बढ़िया और कुछ नहीं हो सकती सचमुच इतनी जबरदस्त लगी हैं उनकी ये रचना की, यहाँ पेस्ट करने का दिल कर गया!!! ये हैं आज के इंसान !!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:53

मुरारी लाल जी चुरमो बणायो के कोनी,

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:53

निठ्ल्लानान्द्द जी भी आ गए , आपकी भी जय हो !

  बाबा निठ्ठल्लानंद जी

3 December 2009 at 18:53

बच्चा आज हम व्यस्त हैं. ओबा मामा ने हमको पाक-अफ़गान सामरिक रणनीती पर विमर्श के लिये बुलाया है.

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:53

100 वीं मेरी होगी क्‍या ??

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:54

अल्पना जी राम-राम

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:54

103 वीं हो गयी .. क्‍या स्‍पीड है टिप्‍पणियों की !!

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:55

घणी शुक्रिया मुरारी जी आपका जो इस नाचीज की रचना को इतनी अहमियत दी !

  makrand

3 December 2009 at 18:55

समीर अंकल, संजय अंकल को जवाब दिजिये कि कहां गडबड है?

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:56

महाराज निठाल्लानान्दजी आप किस काम में फँस गए क्या आप भी काम करते हैं!!!!! दुनिया के आठवें अजूबे की बात हो जायेगी!!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 18:56

बाबा निठ्ल्लानद जी धोक दयुं, कांई हाल चाल छै?

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:56

ललितजी आज चुर्मो छोड़ गे रोट्याँ ही शंशान पड़ता दिखें!!!

  makrand

3 December 2009 at 18:56

संजय अंकल नाम्स्ते?
ताई तो बैलगाडी चलाती है फ़ाईतर नही.:)

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 18:57

संजय जी, क्यों हमारे चेहरे अच्छे नहीं लगे क्या ?

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 18:57

अब ठंड से जानें नहीं जानी चाहिए .. ठंड से बचने की बहुत सुविधा हो गयी है .. वैसे शिमला के बारे में तो नहीं बता सकती !!

  बाबा निठ्ठल्लानंद जी

3 December 2009 at 18:57

ललित बच्चा जीवंता रह...ओबामामा ने परेशान कर रखा है क्या बताये?

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:58

संजय बेगानी जी नमस्कार सलाम ससरियाकाल आदाब वजा लता हूँ| कृपया बाबाजी को कुछ चिलम भर देवें!!!

  अल्पना वर्मा

3 December 2009 at 18:58

sab ko namaste--

yah antrisksh yatri nahi hai-
ye hain 'Amelia Earhart'

  Murari Pareek

3 December 2009 at 18:59

महाराज निठाल्लानान्दजी ओबामा को कभी आश्रम बुला कर निठल्लेपन की दीक्षा क्यों नहीं दे देते!!!

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

3 December 2009 at 18:59

बाबा निट्ठल्लानन्द जी और श्री श्री बाबा शठाधीश जी

को बम बम भोले..बाकी भक्तजनों को आशीर्वाद!!!

  बाबा निठ्ठल्लानंद जी

3 December 2009 at 18:59

मुरारी बच्चा..आजकल हम ओबामामा के पाक अफ़गान रणनीतीकार हैं..बच्चा..मजाक मत उडावो हमारा..वर्ना हम ओबामामा अंकल से शिकायत कर देंगे.

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:00

अब कोरम हुआ ..

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:00

अल्पना जी इतनी जल्दी जवाब नहीं बदलते आपको भी नमस्कार वैसे हारे पास कार तो है नहीं!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:00

hamaare likh tha haare ho gayaa hai!! alpnaa ji!!

  makrand

3 December 2009 at 19:01

मुरारी अंकल, अल्पना जी क्या कह रही हैं? जरा आप वाला लिंक देना जल्दी से...

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 19:01

बच्चा लोग-ये मोनिका लेवेन्स्की है। लगता है एक दिन घाट पे घुमते देखा था इसको, अलख निरंजन

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:01

जय हो बाबाओं के बाबा महा बाबा औघड़ दानी श्री श्री १००००००८ स्वामी स्मीरानादजी की अभी चौबारे का उद्घाटन करवाना है !!!

  बाबा निठ्ठल्लानंद जी

3 December 2009 at 19:02

श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी का स्वागत है

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:02

makrand babaji se poochh kar link deta hun!!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:03

अभी अभी औघड़ स्वामी समीरानन्दजी से सलाह मशविरा करके लिंक देता हूँ!!!

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 19:03

तभी मैं कहूँ कि ये ओबामा चीन के आगे नतमस्तक क्यों हुआ !

  makrand

3 December 2009 at 19:03

लगता है कुंभ मे जाने के पहले ये बाबा लोग ताऊजी डाट काम से होकर गुजर रहे हैं.तीन तीन बाबा एक साथ...

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:03

प्रभु समीरानन्दजी आप चौबारे से बाहर आ गए ??

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

3 December 2009 at 19:04

बाबा शठाधीश घाट पर बैठते हो कि समुन्द्र के बीच पर...?? हर कोई वहाँ चला आता है.

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 19:04

अब समझ में आया अल्‍पना वर्मा जी क्‍यूं सब पहेली जीतती हैं .. सब बैठकर मजाक कर रहे हैं और वे ढूंढ ढूंढकर परेशान है .. बार बार नए नए जबाब ला रही हैं !!

  अल्पना वर्मा

3 December 2009 at 19:04

Hillary Clinton

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:05

chaliye alpnaa ji aapki raag bhi hamaari raag me mil gayii!!! badhaai ho!!

  makrand

3 December 2009 at 19:05

हां मुरारी अंकल जरा लिंक फ़टाफ़ट दिजिये. अब मुझे ट्युशन जाना है. नही तो आज भी मम्मी मारेगी.

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

3 December 2009 at 19:05

चौबारे पर हमारा मानव रुप तुम लोगों के बीच बैठा है...

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:06

हम तो यहीं हैं. चाय पीने चले गये थे. :)

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:06

अब तीनो बाबाजी ज़रा चिलम कश के!! ललित जी कहाँ अंतर्ध्यान हो गए!!!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 19:06

अलख निरंजन, बाबा समीरानद, हमारे शठाश्रम मे आपका स्वागत है। हम आपके आश्रम हो आये हैं।
अलख निरंजन

  अल्पना वर्मा

3 December 2009 at 19:06

Sangeeta jiyah jawab final hai

Hillary Clinton
[correct spelling ke number hote hain na???}}to main jeeti???:)


yah copy kar ke paste kareeye--google mein---yahi tasveer aa jayegi---try--yah sahi jawab hai-Murari ji jeete hote aap aaj..lekin aap ne naam ki spelling galat likhi hai--[:P]

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:07

अल्पना जी प्रणाम. आपको यहाँ देख कर अच्छा लगा इस सजायाफ्ता वनवासी को. :)

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:07

मकरंद लिंक तो दे देता mगर आज खान अभी तक बना हुआ नहीं है !!हा..हा..

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:08

alpna ji ne ek tarah se link di haih daaagdhaar saaaaaaab!!!!!!!!!!

  अल्पना वर्मा

3 December 2009 at 19:09

Chobravasi/Vanvaasi Sameer ji ko pranaam!

5 hafte ke liye [ha ha ha!]poori sahanubhuti hai...

  खुला सांड

3 December 2009 at 19:10

क्या चारा परोसा जा रहा ज़रा हम भी तो देखें !!! ओह बाबाओ की भीड़ कहीं मेरी कोई सवारी ना कर ले!!!

  अल्पना वर्मा

3 December 2009 at 19:10

nahin nahin main ne link nahi di--apne jawab ki pushti karne ki koshish ki hai--spelling wahn se check karen...:)...

  अल्पना वर्मा

3 December 2009 at 19:11

Good night! Shubh ratri!Main chali...

  पी.सी.गोदियाल

3 December 2009 at 19:11

लोजी, आ गए, अब हमें चलना चाहिए !

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 19:12

अलख निरंजन। हिलेरी क्लिन्गटन हम्ने पहले ही कह दिया था। अलख निरंजन, अब बोलो तो हम लिंक दे देते हैं, या अल्पना बहन से ले लो

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:12

डॉक्टर झटका कमेटी अल्पना जी के केस पर विचारार्थ बैठ चुकी है. फैसला कुछ समय में दिया जा रहा है.

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:14

देखिये कम ही लागैयेगा २१ टिप्पी काफी है आखिर हम महिलाओं आदर करते हैं!!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:15

डॉक्टर झटका कमेटी के फैसले में अपनी सलाह देने के लिए मुरारी पारीक को भी सजा दी जा सकती है, इन्तजार किजिये.

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:15

बाबाजी आप तो लिंक मत ही देना क्यूंकि खुद तो कुछ करोगे नहीं चेले चापाटियों को को लगा देने टिप्पणियाँ करने!!!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 19:16

अरे भाई! ये किसका सांड खुल गया, ले जाओ अपणा, इसको चारा पाणी दो। हा हा हा

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:16

समीरजी इस सांड को बांधने के लिए कोई रस्सी है क्या | हा.हा..हा..हा.

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:17

स्वामीजी मैं तो कहता हूँ इस सांड को अपनी कुतिया के आगे बांध लो !!!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 19:18

मुरारी बच्चा! नही तो हमारे धुणे पे छोड आओ, हमे नंदी के लिए बैल की जरुरत है। अलख निरंजन

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:18

कुटीया लिखा था कुतिया हो गया हा..हा.. हा.. !!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:19

मैं रस्सी ले कर आता हूँ महाराज!! कहीं भाग ना पड़े!!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:19

ट और त से इतना भीषण अंतर!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 19:20

भाई हि्लेरी क्लिन्गटन है। बहुत देर मे लिक मिल्या, थोड़ी अंग्रेजी की समस्या है हमारे को, उर्दु होती तो चल जाता,

  खुला सांड

3 December 2009 at 19:21

आईं!!! सांड को बांधने की तैयारी जाल बिछाया जा रहा है !!! अब निकल लेने में ही भलाई है वरना ये मोड़े बाँध के के ही रहेंगे!.....

  खुला सांड

3 December 2009 at 19:22

ओह ललित प्रा लिंक मिल गया, सांकल तो नहीं मिली न!! चलो तब ठीक है !! मैं तो डर गया था की ये मुन्छ्धारी मानव आज सांकल ले कर आ रहा है

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:23

ललित जी आज सांड को बाँध लो मौक़ा है !!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:24

daagdharrrrrrrrrrr saaaaaaaab aa gaye GK awadhiyaaji swagat kijiye!!!!!!!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:24

committeeeeeeeeeee?????? kahaa ho !!!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:24

अवधिया जी

आते ही आपके केस कमेटी को भेज दिया गया है. तैयार हो जाईये दंड के लिए...


वैसे, स्वागत है, प्रणाम!!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:26

आज तो दो दो केश हैं अगर इमानदारी से सुनवाई हो तो !!!

  जी.के. अवधिया

3 December 2009 at 19:26

अब हमें क्या पता कि यहाँ कोई कमेटी भी है। हम तो भटकती आत्मा जैसे भटकते भटकते यहाँ आ गये।

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:27

सूचना

डॉ झटका का डिसिजन आ रहा है.इन्तजार करिये.

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 19:29

हा हा हा फ़ंसा जय हो, ये सांड क्या बोल रहा है?

  जी.के. अवधिया

3 December 2009 at 19:29

आपने प्रश्न पूछा और हमने जवाब दे दिया। इसमें दंड किस बात की? सही जवाब पर इनाम न देना हो न दो पर दंड तो मत दो भइया।

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:29

अवधिया जी,

पहेली में लिंक देने की साफ मनाहि हर बार लिखी रहती है. हम तो भूल ही नहीं सकते. ५१ टिप्पणी का दंड भर चुके हैं. वत्स जी, मुरारी बाबू, मकरंद सभी सजा काट चुके हैं अपने अपने समय. आप नये टीम मेम्बर कहलाये. :)

  खुला सांड

3 December 2009 at 19:30

भैये ललित देखो हमें मत बांधो कोई दुधारू गाय ढूंढो उसको बांधो!!

  जी.के. अवधिया

3 December 2009 at 19:31

चलो भाई गलती हो गई। माफ कर देंगे तो ठीक नहीं तो भुगत लेंगे सजा भी।

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:31

अवधिया जी


मकरंद ज्यादा बेहतर बता पायेगा. वो सबसे ज्यादा अनुभवी है. बच्चा है तो क्या हुआ!!

  खुला सांड

3 December 2009 at 19:32

अं !!! ये दंड ??? किस्कू हो रिएला है ?? काहे को ?? अरे प्रा ललित तैनू पैल्या नै धस्या कोई दंड का प्रावधान भी है!!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:33

ललित जी मैं मोटी रस्सी लाइए!!!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 19:33

हम क्या करेंगे सांड का? वो तो शठाधीश महाराज को चाहिए सांड, देखा नही का क्या कह रहे हैं, सांड को बैल बनाना है, ये काम मोड़े ही कर सकते है। हमारे बस का नही।

  खुला सांड

3 December 2009 at 19:34

काहे कु मुरारी भैये मैंने कोंसी आपके खेत में उजाड़ किया था!!!

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 19:35

अवधिया जी प्रणाम लिंक देना मना है। अब आपको दंड लग गया। 51 टिप्पणी का, ओले पड़ गये।

  खुला सांड

3 December 2009 at 19:36

ओये भैये ललित देख बाबाजी को पीले सवारी करना तो सिखा दे!!! ही..ही..ही..

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:37

देख सांड तू बाबाजी के पास रहेगा तो सवारी करनी अपने आप सिख लेंगे!!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:38

bhai kaun kitni roti khaayegaa bataa dijiye khana banaane ja raha hun !! majaa to bahut aa raha tha par papi pet ka swaal hai!!!

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:39

makrand ab bola nahi jab link mil gayaa to!!!!!!

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 19:39

मुरारी बच्चा डाल इसके गले मै भी एक रस्सी डालता हुं, अपने आश्रम मे बैल की जरुरत है। ये ऐसे ही फ़ालतु घु्मता रहा तो मुंशीपाल्टी वाले पकड के ले जाये्गे। अलख निरंजन

  श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज

3 December 2009 at 19:41

बच्चा लोग हम तो गौ धन सेवक है। हमको तो से्वा करनी है।

  डाँ. झटका..

3 December 2009 at 19:41

डॉ झटका कमेटी का निर्णय

अल्पना जी और मुरारी जी क्को चेतावनी देकर माफ किया जाता है, आगे से ख्याल रखें.


अवधिया जी पहली बार खेल रहे हैं. अतः उन्हें मात्र ११ टिप्पणी का दंड दिया जाता है. तुरंत जमा करायें.

  makrand

3 December 2009 at 19:42

अरे डाक्टर झटका जी जल्दी आवो...आप कल हमको तो चिपका गये दो दो बार और मम्मी से मार खिलाई वो अलग से. अब ये अवधिया अंकल को भी तो दंड देकर न्याय करो.

क्या बच्चों पर ही बस चलता है?

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:43

ये लो अवधिया जी


हमने आपकी रिकमेन्डेशन करा कर सजा कम ही करवा डाली. वरना यहाँ तो २१ से कम की बात ही नहीं होती..हमें तो ५१ की पड़ी थी.

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 19:43

आज अवधियां जी भी फंसे .. कहां आ गए !!

  संगीता पुरी

3 December 2009 at 19:45

बाल्मिकी रामायण लिख रहे है न ब्‍लॉग पर .. इसलिए सजा कम मिली .. मार्कण्‍ड को भी धर्म कमर् करना चाहिए !!

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

3 December 2009 at 19:46

आखिर बुजुर्गियत का ख्याल तो रखना ही पडता है :)

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:47

अवधिया जी


शुरु हो जाईये फटाफट!!!!

  Udan Tashtari

3 December 2009 at 19:47

संगीता जी, कल का विषय बताईये, क्या रखवाया जाये??

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:49

kal ka koi link hi rakh dijiye !! ki ye link kiskaa hai!! ha..ha..

  ललित शर्मा

3 December 2009 at 19:50

अवधिया जी को पहली गलती है। और धार्मिक व्यक्ति हैं, इसलिए इनकी तरफ़ से हम निवेदन करते हैं कि इनकी सजा माफ़ की जाए और टिप्पणी करने का पुण्य कमाने का अवसर हमारे अनुज मुरारी ला्ल जी को दिया जाए, वे काफ़ी अनुभवी भी हैं दंड भरने के।

  Murari Pareek

3 December 2009 at 19:51

महाराज श्ठेश्वर नाथ जी रस्सी का इन्तेजाम करने को ललितजी को बोला था उन्हें इस सांड के गले के नाप की रस्स्सी नहीं मिल रही!!!

Followers