खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (135) : आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका हार्दिक स्वागत करता हूं.

जैसा कि आप मुझसे भी ज्यादा अच्छी तरह से जानते हैं कि मैं क्यों ५ सप्ताह तक इस खेल का आयोजक रहूंगा. इस खेल के सारे नियम कायदे सब कुछ पहले की तरह ही रहेंगे. सिर्फ़ मैं आपके साथ प्रतिभागी की बजाय आयोजक के रुप मे रहुंगा. डाक्टर झटका भी पुर्ववत मेरे साथ ही रहेंगे.

आशा करता हूं कि आपका इस खेल को संचालित करने मे मुझे पुर्ण सहयोग मिलता रहेगा क्योंकि अबकी बार आयोजकी एक दिन की नही बल्कि ५ सप्ताह की है. और इस खेल मे हम रोचकता बनाये रखें और आनंद लेते रहें. यही इसका उद्देष्य है. तो अब आज का सवाल :-

नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि यह चिडिया कौन सा खेल देख रही है?





तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 बजे दिया जायेगा, मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.


"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"


.टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.


Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

62 comments:

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 18:01

क्या सभी को फॉण्ट गड़बड़ दिख रहे हैं या सिर्फ मुझे???

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

6 December 2009 at 18:04

"eÉæxÉÉ ÌMü AÉmÉ qÉÑfÉxÉå pÉÏ erÉÉSÉ AcNûÏ iÉUWû xÉå eÉÉlÉiÉå WæÇû ÌMü qÉæÇ YrÉÉåÇ 5 xÉmiÉÉWû iÉMü CxÉ ZÉåsÉ MüÉ AÉrÉÉåeÉMü UWÕÇûaÉÉ. CxÉ ZÉåsÉ Måü xÉÉUå ÌlÉrÉqÉ MüÉrÉSå xÉoÉ MÑüNû mÉWûsÉå MüÐ iÉUWû WûÏ UWåÇûaÉå. ÍxÉÄTïü qÉæÇ AÉmÉMåü xÉÉjÉ mÉëÌiÉpÉÉaÉÏ MüÐ oÉeÉÉrÉ AÉrÉÉåeÉMü Måü ÂmÉ qÉå UWÒÇûaÉÉ. QûÉYOûU fÉOûMüÉ pÉÏ mÉÑuÉïuÉiÉ qÉåUå xÉÉ"

रामप्यारी आज यो कौन सी भाषा इस्तेमाल कर रही है...हमने अभी ये भाषा नहीं सीखी :)
सीधे सीधे हिन्दी में ही पूछ ले.....

  M VERMA

6 December 2009 at 18:09

कुछ किसी न किसी भाषा में लिखा जरूर है

क्या फोंट पहचानना है?
ÉæÇ YrÉÉåÇ 5 xÉmiÉÉWû iÉMü CxÉ ZÉåsÉ MüÉ AÉrÉÉåeÉMü UWÕÇûaÉÉ. CxÉ ZÉås

  डाँ. झटका..

6 December 2009 at 18:10

सूचना


वायरस का अटैक हुआ है. कुछ विदेशी ताकतों का हाथ लगता है.


जल्द उपाय किये जा रहे हैं.


धैर्य बनाये रखिये.


आपके सहयोग का अग्रिम आभार.

  डाँ. झटका..

6 December 2009 at 18:11

सावधान


बाहरी लोगों से सावधान रहें. कोई भी चपेट में आ सकता है.

सावधानी हटी, दुर्घटना घटी.

  डाँ. झटका..

6 December 2009 at 18:12

यह दुश्मनों का अटेक था जिन्होने हमारी स्क्रिप्ट बिगाडने की कोशीश की थी. उनका हमला विफ़ल कर दिया गया है. अब आप आराम से अपना खेल जारी रख सकते हैं. घबराने की कोई बात नही है।

  डाँ. झटका..

6 December 2009 at 18:13

खतरा दूर होगया है. सब कुछ सामान्य हो गया है।

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

6 December 2009 at 18:14

भक्तों को बाबा का बहुत आशीष.

हमने मंत्र साधना से वायरस के अटैक को खत्म कर दिया है. वायरस हटवाने के लिए विशेष यज्ञ की व्यवस्था है आश्रम में सस्ते दामों पर. पीड़ित संपर्क करें

बाबा के आश्रम पधार कर आशीर्वाद ले लो और लॉकेट खरीद कर सर्वमनोकामना पूरी करो.

नोट:

१.पहेली में भी जीतने के लिए आश्रम में हवन करवाया जाता है.

२. हमारी कोई ब्रान्च नहीं है.

३. नकलचियों से सावधान.

४. ब्लॉगजगत के एकमात्र सर्टीफाईड बाबा.


-सबका कल्याण हो!!

  संगीता पुरी

6 December 2009 at 18:14

pole vault.

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 18:15

अब फान्ट ठीक दिख रहे हैं. शुरु हो जाओ वीरों.

  makrand

6 December 2009 at 18:17

बाबाजी को परणाम.

  makrand

6 December 2009 at 18:18

ये वो डंडा कूद है क्या?

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

6 December 2009 at 18:19

कैसे हो बाल भक्त मकरंद


पढ़ाई कैसी चल रही है. आश्रम आ कर परीक्षा पासक लॉकेट ले जाना. सस्ते दामों पर लगा है. कुंभ की भारी छूट लगी है दामों पर. बाई वन गेट वन फ्री अऑफर भी है.

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 18:20

सभी को मेरा प्रणाम!!

  makrand

6 December 2009 at 18:22

नही ये हाई जंप high jump है। लोक किया जाये

  makrand

6 December 2009 at 18:24

बाबा पढाई की वाट लग रही है। लाकेट फ़्री मे देना हो तो देदिजिये. जबसे ब्लागिंग ब्लागिंग खेलने लगा हूं मम्मी ने जेब्खर्च बंद कर दिया है. बडा होकर कमा कर दे दूंगा.

  makrand

6 December 2009 at 18:29

संगीता आंटी नमस्ते. कहां हैं आप? आपने शायद गलत जवाब दिया है. पोल वाल्ट मे हाथ मे डंडा होता है. यह हाई जंप है.

मेरे को लिंक मिल चुका है.

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

6 December 2009 at 18:32

बाल भक्त मकरंद


यह खर्च नहीं, निवेश है. इसमें कभी कटौती नहीं करना चाहिये.

फ्री के माल का असर तो तुम जानते ही हो.


मम्मी पापा को समझाओ. आज का निवेश, कल सफलता का फल देगा, बच्चा!!

दामों मे कुंभ की भारी छूट अब १२ साल बाद लगेगी जो चूक गये तो.

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 18:38

आज सारे लोग कहाँ हैं??

  संगीता पुरी

6 December 2009 at 18:43

मकरंद कहीं मुझे बकरा तो नहीं बना रहे ??

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 18:46

संडे का नमस्कार स्वीकार हो..

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 18:47

मकरंद बहुत शैतान बच्चा है. दिखता सीधा है. जरा संभल कर, संगीता जी. कईयों को दंड दिलवा चुका है पहले भी और दूध बार्नविटा पीता है. :)

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 18:47

ये चिड़िया हवा में स्विमिंग देख रही है...

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 18:47

अरे वाह!! आशीष भी यहाँ..नमस्कार!!!

  makrand

6 December 2009 at 18:49

सही कह रहा हूं आंटी. झूंठ बोलना तो मैं कभी का छॊड चुका.

  makrand

6 December 2009 at 18:50

आशीष जी नमस्कार, आजकल किधर रहते हैं?

  makrand

6 December 2009 at 18:50

आज लगता है पब्लिक गायब है कहीं? कोई सा बाबा भी नही दिख रहा?

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 18:51

हां उड़नतश्तरी जी,
हमने तो कल यहां चिट्ठाचर्चा पर इस ब्लॉग का प्रचार देखा तो जायजा लेने चले आए.. यहां तो बहुत अच्छे एंटरटेनमेंट का जुगाड़ है.. डॉ. झटका को भी हमारा प्रणाम पहुंचाइए

  makrand

6 December 2009 at 18:51

बाबा समीरानंद जी महाराज की जय हो.

  makrand

6 December 2009 at 18:52

आज प.वत्स जी नही दिखाई दिये? कहीं कर्फ़्यु मे तो नही फ़ंस गये?

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

6 December 2009 at 18:53

जय हो...जय हो...

से तो लॉकेट नहीं मिलता. रकम का इन्तजाम हुआ क्या !! बाल भक्त मकरंद!!

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 18:53

यहां तो एक बार रिफ्रेश करते ही नई वाली दस बीस टिप्पणियां दिखाई देने लगती है. यहां नींबू मिर्ची वाला कोई जंतर या ताबीज लगाइए.. किसी की नज़र न लग जाए कहीं

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 18:55

सुना है रामप्यारी गई है बाबा समीरानन्द के आश्रम ताबीज लेने.

  संगीता पुरी

6 December 2009 at 18:55

लिंक मिल गया तो दो ना प्‍लीज !

  संगीता पुरी

6 December 2009 at 18:56

आज इतनी कम टिप्‍पणी आ रही है तो आशीष जी नींबू मिर्च टांगने की बात कर रहे हैं .. पहले आते तो संतरे टंगवाते !!

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 18:57

संगीता जी नमस्कार... कौनसा लिंक देना है.. मुझे बताइए मैं देता हूं

  महफूज़ अली

6 December 2009 at 18:57

आदरणीय समीरजी, नमस्कार,
ललित जी राम राम
गोदियाल जी राम राम
संगीता जी नमस्कार
पंडित जी नमस्कार
गगन जी नमस्कार
रेखा जी नमस्कार
सुनीता दी नमस्कार
श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज जी राम राम
मुरारी जी जय हिंद....


रामप्यारी I Love you......

  महफूज़ अली

6 December 2009 at 18:58

श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी नमस्कार

  महफूज़ अली

6 December 2009 at 18:58

आशीष खण्डेलवाल ji नमस्कार

  संगीता पुरी

6 December 2009 at 18:59

आशीष जी नमस्‍कार .. इस पिक्‍चर की लिंक मांग रही हूं !!

  महफूज़ अली

6 December 2009 at 18:59

यह लम्बी कूद का खेल देख रही है......

  makrand

6 December 2009 at 19:00

समीर अंकल, कहा ना मैने...मम्मी ने जेब खरची देना बंद कर दी ्है.

  अल्पना वर्मा

6 December 2009 at 19:00

Sabhi ko Pranaam..jawab hai--

women's Pole Jump hai.

--------------

Shubh ratri...:)

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 19:00

अच्छा संगीता जी, तो ये बात है.. मैं तो अभी वाली टिप्पणियों को ही नहीं पढ़ पा रहा हूं और आप कह रही हैं कि टिप्पणियां कम है..

  makrand

6 December 2009 at 19:00

आशीष अंकल आप लिंक दे दिजिये संगीता आंटी को प्लिज अंकल..

  makrand

6 December 2009 at 19:02

महफ़ूज अंकल ये लंबी कूद नही हाई जंफ देख रही है. और ये चिडिया अन्ही है..समीरानंद बाबा से ताबीज लेके रामप्यारी आजकल चिडिया बन गई है..इसीलिये आजकल ताऊ डाट इन से भी फ़ुर्र हो गई है.

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 19:03

अभी देता हूं... संगीता जी, कृपया अपना मेल आईडी दे दीजिए.. यहां बताया तो कहीं चीटिंग का केस न लगा दे
:)

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 19:04

अरे महफ़ूज़ भाई भी यहां हैं.. नमस्कार

कैसे हैं? long time no see

  महफूज़ अली

6 December 2009 at 19:04

हां! मकरंद बेटा ...सही कह रहे हो.......यह हाई जम्प ही है..

  महफूज़ अली

6 December 2009 at 19:05

आशीष जी....आप ही नज़र नहीं अआते हैं...... हम तो रामप्यारी के फैन हैं.........

रामप्यारी ........ आई लव यू...

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 19:06

महफूज भाई को नमस्कार!!!!

  Udan Tashtari

6 December 2009 at 19:07

मकरंद के चक्कर में समीरानन्द जी निकल लिए लगता है. :)

  महफूज़ अली

6 December 2009 at 19:07

आदरणीय समीरजी, नमस्कार

  महफूज़ अली

6 December 2009 at 19:07

आज मुरारी जी गायब हैं.........

  आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)

6 December 2009 at 19:11

bbye
take care
khuda hahiz
shabba khair
nice game.. keep it up.. really it was a great treat for me to be here..

thanks to everyone

enjoy..

Happy Blogging

  Purnima

6 December 2009 at 19:35

jawab hai :

women pole vault

  M VERMA

6 December 2009 at 19:40

high jump

  Gagan Sharma, Kuchh Alag sa

6 December 2009 at 19:43

महफूज जी,
रामप्यारी के प्रशंसकों की संख्या जिस गति से बढ रही है कहीं ऐसा ना हो कि कुछ दिनों बाद हम 'कौन' हो जायें। :)

  Gagan Sharma, Kuchh Alag sa

6 December 2009 at 19:46

चिड़िया बेचारी तो जग का खेल देख रही है।

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

6 December 2009 at 21:19

ਰਾਮਪ੍ਯਾਰੀ ਅਸੀ ਤਾਂ ਸੋਚਦੇ ਸਿਗੇ ਕਿ ਅਜ ਦੀ ਪਹੇਲੀ ਕੈਣਸਲ ਹੋ ਗਇ ਹੋਨੀ.
ਇਹ ਕੁਡੀ ਹਾਈ ਜ੍ਮ੍ਪ ਖੇਡ ਰਇ ਜੇ .....

  अजय कुमार झा

6 December 2009 at 21:29

यो चिडी बदमाश है जी ,....लटकी हुई लडकी .....वा भी टेढी ....घूर रही है .....बच्चे बिगड रहे हैं .....अब हर कोई हमारी तरह शरीफ़ थोडे है ....उडन जी ...बिल्लन को आने दीजिये ...मैं सब पोल खोल दूंगा ....वैसे जवाब है....
ये चिडिया ....हौकी के एक इंटरनेशलन मैच में ....खिलाडियों का उत्साह बढाती एक ..चीयर गर्ल को देख रही है ....यार ....हौकी में चीयर गर्ल ऐसी ही होती है ...लो आप मानते ही नहीं हो .....मगर जीत तो पक्की हो गई अपनी

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

7 December 2009 at 07:16

दूसरी चिड़िया का चेहरा भी तो दिखा दो यार!
केवल एक ही चिड़िया पूरी दिखाई दे रही है हमें तो!

Followers