खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (136) : आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका हार्दिक स्वागत करता हूं.

जैसा कि आप मुझसे भी ज्यादा अच्छी तरह से जानते हैं कि मैं क्यों ५ सप्ताह तक इस खेल का आयोजक रहूंगा. इस खेल के सारे नियम कायदे सब कुछ पहले की तरह ही रहेंगे. सिर्फ़ मैं आपके साथ प्रतिभागी की बजाय आयोजक के रुप मे रहुंगा. डाक्टर झटका भी पुर्ववत मेरे साथ ही रहेंगे.

आशा करता हूं कि आपका इस खेल को संचालित करने मे मुझे पुर्ण सहयोग मिलता रहेगा क्योंकि अबकी बार आयोजकी एक दिन की नही बल्कि ५ सप्ताह की है. और इस खेल मे हम रोचकता बनाये रखें और आनंद लेते रहें. यही इसका उद्देष्य है. तो अब आज का सवाल :-

नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि ये क्या है?





तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 बजे दिया जायेगा, मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.


"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"


.टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.


Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

48 comments:

  Murari Pareek

7 December 2009 at 18:01

bandar ka muh

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

7 December 2009 at 18:02

कुत्ते क मुँह

  Murari Pareek

7 December 2009 at 18:02

chimpaaji ka mukh

  जी.के. अवधिया

7 December 2009 at 18:03

दो कुत्ते हैं।

  Rekhaa Prahalad

7 December 2009 at 18:04

Bandar ka muh

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

7 December 2009 at 18:04

रामप्यारी का मुँह!

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 18:05

महामहिम मुरारी लाल जी हैं, सिर्फ़ टोपी नही पहने है।

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 18:07

मुरारी जी, पंडित जी, रेखा जी को राम-राम, अवधियाजी, शास्त्री जी, को प्रणाम

  Vivek Rastogi

7 December 2009 at 18:07

मांसाहारी प्राणी है।

  Murari Pareek

7 December 2009 at 18:08

topi kahaan nahi pahni lalit ji

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

7 December 2009 at 18:09

भई ललित जी...गर टोपी नहीं पहने हैं तो वो आप पहना देना :)

  shikha varshney

7 December 2009 at 18:13

अरे इंसान के पूर्वज में से ही किसी का मूंह लग रहा है और क्या ....चिपेंजी की कोई प्रजाति है.

  पी.सी.गोदियाल

7 December 2009 at 18:16

Mangoose or nevla !

  पी.सी.गोदियाल

7 December 2009 at 18:17

Baboon !

  पी.सी.गोदियाल

7 December 2009 at 18:17

sabko meree raam-raam !

  पी.सी.गोदियाल

7 December 2009 at 18:22

मेरी शक्ल देखते ही भाग गए सबके-सब ! अपने ये बाबा लोग कहाँ है ?

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 18:24

गोदियाल जी राम-राम

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 18:24

मुरारी जी, टोपी हा हा हा हा हा

  अजय कुमार झा

7 December 2009 at 18:24

अरे रे आप लोग भी न कितना मासूम चेहरा और इतने साफ़ क्लोर मिंट से चमकाए हुए दांतो को देख भी ...नहीं पहिचान पा रहे हैं ....ई बिग बौस हैं ....जी एक दम ठीक ...उपर से लेकर नीचे तक ...लिजीये आप लोग उनका आवाज देखें हैं न खाली ...और लिंक उंक नहीं बताईयेगा हमें ..काहे से कि अमित जी ..अपने बिग बी कहे हैं ..झा जी अबके आप ही जीत गए ..बिग बास हैं ई ...

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 18:30

गोदियाल जी, आज कल रजिस्टर्ड बाबा ही चल रहे हैं, हमने तो मंहती की अरजी लगा दी है।

  अल्पना वर्मा

7 December 2009 at 18:31

vampire

:)

  अल्पना वर्मा

7 December 2009 at 18:32

agar tasveer ko ulta kar den to vampire hai!:)

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

7 December 2009 at 18:34

भक्तों को बाबा का बहुत आशीष.



बाबा के आश्रम पधार कर आशीर्वाद ले लो और लॉकेट खरीद कर सर्वमनोकामना पूरी करो. कुंभ की भारी छूट लगी है. बाई वन गेट वन फ्री ऑफर है.

नोट:

१.पहेली में भी जीतने के लिए आश्रम में हवन करवाया जाता है.

२. हमारी कोई ब्रान्च नहीं है.

३. नकलचियों से सावधान.

४. ब्लॉगजगत के एकमात्र सर्टीफाईड बाबा.


-सबका कल्याण हो!!

  शरद कोकास

7 December 2009 at 18:37

आदमी का तो नहीं है ..पक्का ।

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 18:39

महाराज पाय लागी, कल्याण करो बालक का? हमने अपनी अर्जी लगा रखी है आपके दरबार मे, बो पेडींग है, कृपया उसका निपटारा करो? जय बाबा की

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 18:41

शरद भैया, नमस्ते, ये कुछ इतिहास की खुदाई से सम्बन्धित लगता है।

  पी.सी.गोदियाल

7 December 2009 at 18:45

ललित जी राम -राम मुझे तो ई वो कुतिया दीख रै, जिसकी कहने आपने आज सुबह ही सुनाई थी !:)

  Udan Tashtari

7 December 2009 at 18:48

अभी बाबा के आश्रम से आया हूँ. ललित भाई आपकी अर्जी कमेटी में जाने को तैयार रखी है. वजन रख आओ उस पर. :)

  Udan Tashtari

7 December 2009 at 18:50

सभी लोगों को मेरी राम राम.


महफूज भाई कहाँ गये??


मुरारी बाबू, मिष्टी महफिल में अपनी कविता देख आनन्द आ गया. बहुत धन्यवाद!!


पूरे सिक्किम में नाम गूंज गया. :)

  संगीता पुरी

7 December 2009 at 18:55

pug dog ka muh .

  संगीता पुरी

7 December 2009 at 18:58

sameerji , agla election sikkim me lad lijiega . murari bhai jogar fit kar chuke hain.

  संगीता पुरी

7 December 2009 at 18:59

mera comp kharab ho gaya hai .. bete ke laptop se jawab de rahi hoon .. so roman me likh rahi hoon.

  Udan Tashtari

7 December 2009 at 19:06

संगीता जी को प्रणाम...क्या लगता है चुनाव निकाल लेंगे..जरा कुण्डली ग्रह नक्षत्र भी तो देख दिजिये.. :)

  संगीता पुरी

7 December 2009 at 19:08

bull dog ka face hai

  Purnima

7 December 2009 at 19:42

kya sangita puri ji jotish hain ?

  Udan Tashtari

7 December 2009 at 19:46

ये लो पूर्णिमा जी...अरे संगीता जी और हमारे पं वत्स...दोनों ही जबरदस्त ज्योतिष हैं...


और बाबा समीरानन्द भी पहुँचे हुये बाबा है. सब यहाँ आते हैं.

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 19:47

संगीता जी प्रणाम-ईतना सन्नाटा क्युं है भाई, कहां गये सब रामगढ़ वाले?

  अल्पना वर्मा

7 December 2009 at 19:50

bull dog ka face hi hai..

  Vivek Rastogi

7 December 2009 at 19:51

लाल मुँह का बंदर लगता है...

  Purnima

7 December 2009 at 19:55

sangita puri ji please aap yah bataayen ki :

1- course kee kitabon se mera peechha kab chhootega ?

2- bhaarat men nithallapan kab khatm hoga ?

3- Laaden jinda hai ki mar gaya ?

4- bajaar kee mahngaayi kab khatm hogi ?

  दिगम्बर नासवा

7 December 2009 at 19:59

भाई कुत्ते का मुँह लग रहा है ...........

  ललित शर्मा

7 December 2009 at 20:02

हा हा हा यो तो "बंदर" ही सै राम प्यारी लाक किया जाए।

  डाँ. झटका..

7 December 2009 at 20:38

सूचना


कोशिश करते रहिये सही जबाब तक पहुँचने की.

मेहनत का फल मीठा होता है.

  Vivek Rastogi

7 December 2009 at 21:51

विश्व का सबसे बदसूरत कुत्ते का खिताब जीत चुका है यह नाम है पाबस्ट (pabst)

  हरकीरत ' हीर'

7 December 2009 at 22:26

चिम्पैंजी का लग रहा है ......!!

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

7 December 2009 at 22:39

भक्तों को बाबा का आशीर्वाद!!

बाबा के आश्रम पधार कर आशीर्वाद ले लो और लॉकेट खरीद कर सर्वमनोकामना पूरी करो.

कुंभ की भारी छूट लगी है. बाई वन गेट वन फ्री ऑफर है.

नोट:

१.पहेली में भी जीतने के लिए आश्रम में हवन करवाया जाता है.

२. हमारी कोई ब्रान्च नहीं है.

३. नकलचियों से सावधान.

४. ब्लॉगजगत के एकमात्र सर्टीफाईड बाबा.


-सबका कल्याण हो!!

  संगीता पुरी

8 December 2009 at 00:01

face of Pabst - offically the world’s ugliest dog.

  संगीता पुरी

8 December 2009 at 00:08

mera purana jawab bulldog hi lock kiya jaye.

Followers