खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (140) : आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका हार्दिक स्वागत करता हूं.

जैसा कि आप मुझसे भी ज्यादा अच्छी तरह से जानते हैं कि मैं क्यों ५ सप्ताह तक इस खेल का आयोजक रहूंगा. इस खेल के सारे नियम कायदे सब कुछ पहले की तरह ही रहेंगे. सिर्फ़ मैं आपके साथ प्रतिभागी की बजाय आयोजक के रुप मे रहुंगा. डाक्टर झटका भी पुर्ववत मेरे साथ ही रहेंगे.

आशा करता हूं कि आपका इस खेल को संचालित करने मे मुझे पुर्ण सहयोग मिलता रहेगा क्योंकि अबकी बार आयोजकी एक दिन की नही बल्कि ५ सप्ताह की है. और इस खेल मे हम रोचकता बनाये रखें और आनंद लेते रहें. यही इसका उद्देष्य है. तो अब आज का सवाल :-

नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि इसमे कौन कौन हैं??





तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 बजे दिया जायेगा, मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.


"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"


.टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.


Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

79 comments:

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

11 December 2009 at 18:03

जय हो.




भक्तों को बाबा का बहुत आशीष.

बाबा के आश्रम पधार कर आशीर्वाद ले लो...

नोट:

. पहेली में भी जीतने के लिए आश्रम में हवन करवाया जाता है.

. हमारी कोई ब्रान्च नहीं है.

. नकलचियों से सावधान.

. ब्लॉगजगत के एकमात्र सर्टीफाईड एवं रिक्गनाईज्ड बाबा.

-सबका कल्याण हो!!


सूचना:

-बाबा प्रॉडक्टस के लिए आश्रम पधारें-

कुंभ की विशेष छूट

बेहद सस्ते दामों पर

महा सेल-महा सेल-महा सेल

नोट:

ऐसा मौका फिर १२ साल बाद आयेगा.

  ज़ाकिर अली ‘रजनीश’

11 December 2009 at 18:09

बाबा समीरानन्द जी, चित्र में कुछ दिखे तो तो पहचाना जाए।
------------------
सलीम खान का हृदय परिवर्तन हो चुका है।
नारी मुक्ति, अंध विश्वास, धर्म और विज्ञान।

  जी.के. अवधिया

11 December 2009 at 18:11

आदमी और घोड़ा

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 18:14

ज़ाकिर भाई

जरा डूब कर देखिये...कुछ तो नजर आयेगा. :)

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

11 December 2009 at 18:16

आदमी और गधा

  रंजन

11 December 2009 at 18:18

गधे का बच्चा...

  makrand

11 December 2009 at 18:18

सबको नमस्ते, बाबा समीरानंदजी को दंडवत

  रंजन

11 December 2009 at 18:20

पंडित जी.. आदमी और गधा... एक चिज को दो दो बार क्यों लिखा है...:)

  संगीता पुरी

11 December 2009 at 18:20

श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी से एक हवन करवा ही लेना चाहिए !!

  सर्किट

11 December 2009 at 18:21

सर्किट भाई का सबकू नमस्ते।

  makrand

11 December 2009 at 18:22

आवो आवो सर्किट अंकल आप्की कमी थी. कब आये दिल्ली की तिहाड जेल से?

  makrand

11 December 2009 at 18:22

आवो आवो सर्किट अंकल आप्की कमी थी. कब आये दिल्ली की तिहाड जेल से?

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:22

सबको राम -राम !

  makrand

11 December 2009 at 18:22

मुन्नी मेंटेन से मुलाकात हो गयेली थी या नही?

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:23

एक महिला, एक पुरुष और एक खच्चर !

  makrand

11 December 2009 at 18:23

गोदियाल अंकल नमस्ते

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:24

"ब्लॉगजगत के एकमात्र सर्टीफाईड एवं रिक्गनाईज्ड बाबा" ha-ha-ha-ha-ha

  संगीता पुरी

11 December 2009 at 18:24

गोदियाल जी की नजर बहुत तेज है !!

  सर्किट

11 December 2009 at 18:24

मकरंद अपुन को मुन्नी भाभी से मलने का परमिशनईच नी मिला रे..आज मुरारी भाई किदर कू गयेला है बाप?

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:24

नमस्ते मकरंद जी

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:25

संगीता जी को भी राम-राम

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:26

संगीता जी, मैं चश्मे + ४ के पहनता हूँ !
:)

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:27

sarkit bhai ko bhee ram-ram !

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:27

Vats sahaab ko bhee ram-ram !

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:28

chalo ye Quarter pooraa ho gaya

  पी.सी.गोदियाल

11 December 2009 at 18:28

Achchaaa ram-ram !

  Tarkeshwar Giri

11 December 2009 at 18:29

अरे बाप रे बाप, इ त ताऊ जी के साथे गदहा बैठल बा।

  Murari Pareek

11 December 2009 at 18:30

upasthit sabhi sajjno evam sajniyon ko pranaam

  Murari Pareek

11 December 2009 at 18:30

hathi par admi

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

11 December 2009 at 18:34

जय हो!!

सभी भक्तों को बाबा का आशीष!!


सूचना

कृप्या आश्रम पधार कर Followers बटन पर घंटी बजा बाबा समीरानन्द के भक्त बन कर पुण्य कमायें एवं बाबाश्री का आशीर्वाद पायें.

-आश्रम मेनेजमेन्ट

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 18:36

आज तो संगीता जी का प्रयास होगा कि हैट्रिक के और नजदीक पहुँचे.


मेरी ढ़ेर सारी शुभकामनाएँ जो कल मुरारी बाबू के साथ थी, आज आपको ट्रांसफर की जाती हैं कृप्या स्वीकारें.

  महेन्द्र मिश्र

11 December 2009 at 18:36

सौ टेक की सच्ची बात ये है की एक आदमी के साथ गधा है .....

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 18:36

बालक मकरंद,

खूब खिलाड़ी बने हो...किसी ने लिंक नहीं दिया क्या आज?? :)

  Murari Pareek

11 December 2009 at 18:38

saand ke sath admi lad rahaa hai

  makrand

11 December 2009 at 18:40

समीर अंकल ये तो बताईये सही जवाब आया या नही?

  makrand

11 December 2009 at 18:41

मुरारी भैया नमस्ते

  makrand

11 December 2009 at 18:41

मुरारी अंकल आज तो लिंक देही दो

  makrand

11 December 2009 at 18:41

सांड के साथ आदमी वाला

  Murari Pareek

11 December 2009 at 18:43

link kal sameerji de denge makrand

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 18:44

मुरारी बाबू

क्यूँ बच्चे का दिल तोड़ते हो. कितने प्यार से मांग रहा लिंक...दे क्यूँ नहीं देते मकरंद को.

  makrand

11 December 2009 at 18:45

आप ही दो ना आज ही..हमने भी तो आपको चाय समोसे खिलाये थे..आप लिंक भी नही दे सकते क्या?

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 18:45

अभी देखा...क्यूँ मकरंद...

पढ़ाई लिखाई छोड़ कर मुन्नी मेंटेन से मुलाकात की चिंता खाये जाये रही है तुमको...मम्मी को बताऊँ???

  संगीता पुरी

11 December 2009 at 18:47

शुभकामनाओं के लिए धन्‍यवाद समीर जी .. पर जिसे शुभकामनाएं दें .. उसपर दो दिन तो कायम रहे .. इतनी जल्‍दी पलटी मार लेते हैं !!

  makrand

11 December 2009 at 18:50

समीर अंकल मम्मी को मत बताना..मैं तो बस युंही मुन्नी मेंटेन, सर्किट अंकल की भाभी बनी या नही ..ये जानना था...:)

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 18:50

अरे, जिससे उम्मीद बंधती है उस तरफ चल पड़ते हैं शुभकामनाओं की पोटली उठाये..

पहले राजनिति में थे न!! :)

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 18:51

मकरंद



तुम्हारे नाचे बिना कैसे बरात जायेगी सर्किट अंकल की. खुद ही पता चल जायेगा. :)

  makrand

11 December 2009 at 18:51

समीर अंकल बस आप भी मजाक करते हैं बच्चे से.:)

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 18:53

तुम तो मुरारी अंकल के पीछे लग जाओ लिंक के लिए..थोड़ा मना करेंगे लिकिन कब तक?? दे देंगे..

  makrand

11 December 2009 at 18:55

तीन दिन होगये मुरारी अंकल के पीछे लगे हुये, एक दिन तो मुझसे १७० रुपये के चाय समोसे भी खा लिये पर लिंक नही दिया.

  संगीता पुरी

11 December 2009 at 18:56

170 के चाय समोसे .. क्‍या थे उसमें !!

  makrand

11 December 2009 at 18:56

वैसे समीर अंकल आज आप लिंक दे सकते हैं मुझे. आज मुझे जितवाने मे सहायत किजिये ना..

  makrand

11 December 2009 at 18:58

यहां कुल ७ लोग थे उस रोज..सबने चाय समोसे खाये और बिल देने के नाम पर भग गये सब...उस रोज होटल वाला घर पहुंच गया पैसे मांगने..मम्मी ने मेरे को उस दिन भौत मारा,,भौत मारा..

  makrand

11 December 2009 at 18:58

यहां कुल ७ लोग थे उस रोज..सबने चाय समोसे खाये और बिल देने के नाम पर भग गये सब...उस रोज होटल वाला घर पहुंच गया पैसे मांगने..मम्मी ने मेरे को उस दिन भौत मारा,,भौत मारा..

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 19:08

इत्ती मार खाने के बाद भी उन्हीं बच्चों के साथ खेल रहे हो..:)

  makrand

11 December 2009 at 19:14

अंकल अब क्या करुं? खेलना भी तो जरुरी है ना? पर अम्म्मी समझती ही नही..बस पढो..पढो..इसलिये मैं तो बिना बताये ही सटक लेता हूं.

  makrand

11 December 2009 at 19:14

अंकल अब क्या करुं? खेलना भी तो जरुरी है ना? पर अम्म्मी समझती ही नही..बस पढो..पढो..इसलिये मैं तो बिना बताये ही सटक लेता हूं.

  डाँ. झटका..

11 December 2009 at 19:24

सूचना


अभी तक पूरा सही जबाब नहीं आया है. प्रयास जारी रखिये.

डॉक्टर झटका से कोई मदद चाहिये तो हमेशा की हाजिर हैं.

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 19:28

बताओ, हम तो सोच रहे थे कि अब तक किसी ने सही बता ही दिया होगा.

  महफूज़ अली

11 December 2009 at 19:49

आदरणीय समीरजी, नमस्कार,
ललित जी राम राम
गोदियाल जी राम राम
संगीता जी नमस्कार
पंडित जी नमस्कार
गगन जी नमस्कार
रेखा जी नमस्कार
सुनीता दी नमस्कार
श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज जी राम राम
श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी राम राम
मुरारी जी जय हिंद....

रामप्यारी I Love you....

  महफूज़ अली

11 December 2009 at 19:49

हम आ गया हूँ.....

  महफूज़ अली

11 December 2009 at 19:50

जवाब देने...

  महफूज़ अली

11 December 2009 at 19:50

एक औरत ओरंगउटांग को दूध पिला रही है.....

  रंजन

11 December 2009 at 19:51

गधे के दोस्त घोडे़ का बच्चा है क्या?

  महफूज़ अली

11 December 2009 at 19:51

.एक मिनट रुकिए ....ज़रा फोटुवा दोबारा देख लें.....

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 19:52

आपकी लिस्ट से मकरंद गायब..महफूज भाई??



नमस्कार!!

  महफूज़ अली

11 December 2009 at 19:52

गधा है .... देखिये केतना भोला लग रहा है... केतना मासूमियत से खडा है....

  महफूज़ अली

11 December 2009 at 19:53

अरे! मकरंद बेटा को ढेर सारा प्यार....

  संगीता पुरी

11 December 2009 at 19:54

ढूंढते हुए थक गयी .. हिंट चाहिए !!

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

11 December 2009 at 19:54

जय हो-भक्तों का कल्याण हो.






ब्लॉगजगत के एकमात्र सर्टीफाईड एवं रिक्गनाईज्ड बाबा.



सूचना:

-बाबा प्रॉडक्टस के लिए आश्रम पधारें-

कुंभ की विशेष छूट

बेहद सस्ते दामों पर

महा सेल-महा सेल-महा सेल

नोट:

ऐसा मौका फिर १२ साल बाद आयेगा.

  परमजीत बाली

11 December 2009 at 19:55

घोड़ा और महिला......

  संगीता पुरी

11 December 2009 at 19:57

सभी बाबा अपने नाम पते इस लिंकपर टिप्‍पणी के रूप में जमा कर दें .. उसकी जांच की जाएगी .. इनमें से कोई अपराधी तो नहीं .. जो ब्‍लॉग जगत के पाठकों की आस्‍था से फायदा उठा रहे हैं !!

  महफूज़ अली

11 December 2009 at 19:58

आते हैं....ज़रा एक फोन आ गया है......

  संगीता पुरी

11 December 2009 at 19:59

महफूज भाई .. बहुत देर से आते हैं !!

  Udan Tashtari

11 December 2009 at 20:00

कोई कमेटी बनी है क्या जाँच के लिए बाबाओं की...पकड़ो सब को... :)

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

11 December 2009 at 20:26

मुन्नी और पिल्ला!

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

11 December 2009 at 21:03

डॉक्टर झटका मदद के लिए हाजिर हों....भई इतना तो बता दो कि अभी तक कोई जवाब आया कि नहीं ।

  डाँ. झटका..

11 December 2009 at 21:41

अभी तक पूरा सही जबाब नहीं आया है.

  संगीता पुरी

11 December 2009 at 23:23

ऊन का गोला और ऊन से बना कोई सामान भी दिख रहा है !!

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

12 December 2009 at 00:52

यो कोई लुगाई और गधा है....

Followers