खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (151) : आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका हार्दिक स्वागत करता हूं.

जैसा कि आप मुझसे भी ज्यादा अच्छी तरह से जानते हैं कि मैं क्यों ५ सप्ताह तक इस खेल का आयोजक रहूंगा. इस खेल के सारे नियम कायदे सब कुछ पहले की तरह ही रहेंगे. सिर्फ़ मैं आपके साथ प्रतिभागी की बजाय आयोजक के रुप मे रहुंगा. डाक्टर झटका भी पुर्ववत मेरे साथ ही रहेंगे.

आशा करता हूं कि आपका इस खेल को संचालित करने मे मुझे पुर्ण सहयोग मिलता रहेगा क्योंकि अबकी बार आयोजकी एक दिन की नही बल्कि ५ सप्ताह की है. और इस खेल मे हम रोचकता बनाये रखें और आनंद लेते रहें. यही इसका उद्देष्य है. तो अब आज का सवाल :-

नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि ये कौनसा खिलाडी अपनी बैटिंग आने का इंतजार कर रहा हैं?




तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 बजे तक दिया जायेगा, मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.


"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"


.टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.


Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

158 comments:

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:02

allen border

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:04

binny rojer

  Pt. D.K. Sharma "Vatsa"

22 December 2009 at 18:09

आज की पहेली का जवाब हमें पता है...लेकिन हम देना नहीं चाहते ।
अब रोज रोज हम ही जीतते रहें...कुछ अच्छा नहीं लगता आखिर किसी ओर को भी तो मौका मिलना चाहिए....इसलिए हमने कुछ दिनों के लिए पहेली से सन्यास लेने का मन बना लिया है :)

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:10

आज ये कैसी पहेली आ गई...लगता है मुरारी बाबू तो हैट्रिक लगाने शुरु से जुट गये...शुभकामनाएँ..लगे रहो.


मकरंद कहीं खेलता दिखे तो जरा पकड़ के लाओ उसको!!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:11

पंडित जी

मुरारी बाबू को लिंक दे दो ताकि वो जीत कर कल हैट्रिक बना ले.

  ब्लॉ.ललित शर्मा

22 December 2009 at 18:14

पंडित जी को आयोजक बना देना चाहिए, एक माह का सन्यास ही सही, रोज रोज जीतना भी हाजमा भी खराब करता है, हा हा हा

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:14

पंडितजी कितना उंचा सोचते हैं कहीं छत पे तो नहीं बैठे लेपटोप ले कर !!!ha..ha..

  ब्लॉ.ललित शर्मा

22 December 2009 at 18:15

समीर भाई, पंडित जी, मुरारी जी, सांडनाथ महाराज राम-राम

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:17

छत पर नहीं..सिग्नल नहीं मिल रहे थे तो एयरटेल की टावर पर बैठे हैं. :)


हा हा!!


हमारे बाद उनको वनवास पर भेजा जायेगा.

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:18

ललित भाई, पंडित जी सज्ज्नों को प्रणाम. और यहाँ तक कि मुरारी बाबू को भी प्रणाम.

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:22

कहाँ भाग गये सब??????

  Anonymous

22 December 2009 at 18:22

sabhi सज्ज्नों को प्रणाम!

  Pt. D.K. Sharma "Vatsa"

22 December 2009 at 18:23

यहाँ तक कि मुरारी बाबू को भी प्रणाम. :)

  Anonymous

22 December 2009 at 18:23

pandit ji krupya hint deejiyega plz.

  sangita puri

22 December 2009 at 18:23

सबको राम राम !!

  sangita puri

22 December 2009 at 18:24

आज मैं भी आ गयी !!

  sangita puri

22 December 2009 at 18:24

पर जीतने की उम्‍मीद कम दिखती है !!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:25

संगीता जी और रेखा जी को शत शत नमन!!

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:25

यहाँ तक ?? क्या मैं बहुत दूर हूँ?? समीरजी आपके हाथ नहीं पहुंचाते क्या!!! हा..हा..

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:25

एक नई कविता सुनाऊँ???

:)

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:26

यहाँ तक से मेरा मतलब था कि आपसे तो बात चल ही रही है...बीच में एकाएक नमस्ते किया इसलिए..आप बहुत संवेदनशील हो शब्दों को लेकर. :)

  ब्लॉ.ललित शर्मा

22 December 2009 at 18:26

संगीता जी प्रणाम स्वागत है
रेखा जी प्रणाम स्वागत है।

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:27

ललित जी राम राम आपकी ऑडियो क्लिप लगा दी http://radiomistysikkim95fm.blogspot.com/ par

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:27

हा..हां. मेरी संवेदनाओं का सम्मान करने के लिए आभार !!! समीरजी!!!

  ब्लॉ.ललित शर्मा

22 December 2009 at 18:28

कृ्पया ध्यान दिया जाय पंडित जी को आयोजक बना देना चाहिए, एक माह का सन्यास ही सही, रोज रोज जीतना भी हाजमा भी खराब करता है, हा हा हा आपकी क्या राय है?

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:28

संगीताजी उम्मीद का दमन थामे रहिये उम्मीद पर दुनिया कायम है !!!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:29

बिल्कुल...मेरी सजा खत्म होने को ही है बस..दो तीन दिन में..फिर पंडित जी का नम्बर!!

  Anonymous

22 December 2009 at 18:29

veteran cricketer lagte hai.

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:29

सही कहा !!! अगर आयोजक नहीं बनाया गया तो इनकी रोज रोज जित कर आदत खराब होगी!! ha..ha..

  Anonymous

22 December 2009 at 18:29

sangita ji namaskar:)

  ब्लॉ.ललित शर्मा

22 December 2009 at 18:29

मुरारी भाई सु्न ली और मोबाईल मे भी डाउन लोड कर ली। कुलवंत हैप्पी सुन के मेल पे लिंक लगा गये थे। धन्यवाद

  sangita puri

22 December 2009 at 18:30

क्‍या उम्‍मीद रखूं .. कल आपलोगों ने सारे सर्टिफिकेट्स हथिया लिए .. मेरे हिस्‍से एक भी नहीं आया !!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:30

सब बात ही करते रहेंगे कि कोई जबाब भी देगा. फोटू ध्यान से देखिये

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:31

संगीता जी



आपके लिए सर्टिफिकेट बनवा रहे हैं..१५०वीं पहेली में अनुपस्थित रहने का. :)

  sangita puri

22 December 2009 at 18:32

पहले से अनाउंस किया था क्‍या आपलोगों ने .. कि 150 वीं में सर्टिफिकेट्स मिलेंगे !!

  डाँ. झटका..

22 December 2009 at 18:32

माननिया रेखा प्रहलाद और माननिया गोदियाल साहब से निवेदन है कि आप दोनों का इमेल का पता रामप्यारी मैम के पास नही मिल रहा है.

आपसे विनम्र निवेदन है कि आपका इमेल का पता rampyari@taau.in पर भेजने का कष्ट करें जिससे आपके ई-प्रमाणपत्र भिजवाये जा सकें.

धन्यवाद.

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:34

एनाउन्समेन्ट




कल पहेली जीतने वाले को सर्टीफिकेट दिया जायेगा.

  डाँ. झटका..

22 December 2009 at 18:34

माननिया संगीता पुरी जी

यह पहले से ही घोषित है कि हर २५ वीं पहेली के विजेताओं को प्रमाणपत्र दिये जायेंगे. कृपया आगे से ध्यान रखियेगा

  Anonymous

22 December 2009 at 18:35

baalo se to Advani ji lagte hai:)

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:35

कौन सी फोटो समीरजी!!

  Anonymous

22 December 2009 at 18:35

Dhoti hai ya patloon?

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:36

डॉ झटका...


हर २५ वीं पहेली वाली बात याद न रखने के लिए कोई दंड का प्रवाधान है क्या..११ टिप्पणी ही हों..तो भी याद रहने के लिए काफी है.


मात्र सुझाव है. :)

  डाँ. झटका..

22 December 2009 at 18:36

वैसे उडनतश्तरी को आयोजक के नाते यह अधिकार है कि वो कोई विषिष्ट दिन भी अलग से प्रमाणपत्र देने की घोषणा कर सकते हैं.

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:36

विकेट की फोटो तो लगाई नहीं..फिर अडवाणी जी क्या काम!! :)

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:37

पहेली वाली फोटो..और नहीं तो क्या हमारी फोटो देख कर जबाब दोगे..मुरारी बाबू...



मकरंद कहाँ गया???

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:39

अच्छा वो फोटू वो हमने देख ली सफ़ेद बाल है पर ये बुजुर्ग महाशय !!! याद नहीं आ रहे !!!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:40

सोचो सोचो..क्रिकेट बुजुर्ग भी खेलते हैं मौके मौके पर. :)

  makrand

22 December 2009 at 18:40

नमस्ते सभी को, आदाब मुरारी भैया को

  makrand

22 December 2009 at 18:41

मैं बताऊ क्या? ये कौन है?

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:42

50 वीं

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:42

एक बात क्लीयर करें क्या ये क्रिकेटर भारतीय हैं??

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:43

आदाब !!!आ दाब !! क्या दबा रहे हो मकरंद गला!!! हां.हा.. आपकी टिप्पणियाँ कहाँ है मकरंद भैया !

  makrand

22 December 2009 at 18:43

नहीं ये लार्ड माऊंटबेटन दिख रहे हैं मेरे को तो. अभी मम्मी ने देख कर बताया है.

  sangita puri

22 December 2009 at 18:43

मुझे तो लग रहा है कि ये क्रिकेटर नहीं हैं !!

  makrand

22 December 2009 at 18:43

कौन सी टिप्पणीयां?

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:44

मकरंद भाई आपकी फोटो देख कर मुझे अपना बचपन याद आ जता है !!!

  sangita puri

22 December 2009 at 18:44

समीर जी , एक तो सर्टिफिकेट्स नहीं मिलने से मैं दुखी हूं .. फिर इस भूल के लिए दंड कैसा ??

  Murari Pareek

22 December 2009 at 18:46

क्या ये कोई कुख्यात क्रिकेटर थे?? मतलब प्रख्यात !!!

  ब्लॉ.ललित शर्मा

22 December 2009 at 18:46

चंदु बोर्डे सीनियर क्रिकेट हो रहा है। उसमे खेल रहे हैं। लिंक चाहिए तो मिल जाएगा।

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:46

संगीता जी


आपके लिए नहीं कहा...बस, एक जिज्ञासा थी मन में उसी का निराकरण करते सुझाव स्लिप कर गया. :)

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:46

संगीता जी


आपके लिए नहीं कहा...बस, एक जिज्ञासा थी मन में उसी का निराकरण करते सुझाव स्लिप कर गया. :)

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:47

मकरंद





नमस्ते बच्चे.


कल दंड में २१ टिप्पणी भरनी थी, वो कहाँ गायब हो गई.. :)

  दिगंबर नासवा

22 December 2009 at 18:47

कोई लगान फिल्म वाला खिलाड़ी लग रहा है ...........

  डाँ. झटका..

22 December 2009 at 18:49

सूचना


-फोटो में भारतीय ही है.



-गोदियाल जी और रेखा जी अपना ईमेल पता भेजें. ताकि सर्टीफिकेट मेल किया जा सके.

  Anonymous

22 December 2009 at 18:50

makaranda aa gaye:) aaj der kaise ho gayi? kya mummy ne maara:)

  sangita puri

22 December 2009 at 18:50

डूंगरपुर तो नहीं ??

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:50

दिगम्बर भाई प्रणाम स्वीकार करें.

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:51

मकरंद के लिए मम्मी ने मारा तो रोज का प्रश्न है..कितना मारा ये पूछिये. :)

  sangita puri

22 December 2009 at 18:51

राज सिंह डुंगरपुर ही लग रहे हैं !

  Anonymous

22 December 2009 at 18:52

डाँ. झटका, mail check kariye; maine to kab ka bhej diya:)

  makrand

22 December 2009 at 18:53

अरे आंटी बस पूछिये मत. मम्मी ने भौत मारा उस रोज

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:53

डॉ झटका नहाने चले गये हैं. आकर चैक करेंगे मेल..ऐसा पता चला है. :)

  makrand

22 December 2009 at 18:54

्वो बोली कि एक तो खेलता है ट्युशन के समय और दंड उपर से देता है. कहां से आयेगा इतना दंड भरने का पैसा?

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:55

मैने उपर पूछा था कि कविता सुनाऊँ..सब टाल गये...




आज कल श्रोता ही नहीं मिल रहे हैं

  sangita puri

22 December 2009 at 18:55

पूछने की जरूरत ही नहीं .. मौका मिलते ही कविता सुना देनी चाहिए !!

  डाँ. झटका..

22 December 2009 at 18:56

घोषणा



रेखा जी को प्रमाण पत्र भेज दिया गया है.



-अभी तक सही जबाब नहीं आया है.

  स्वामी ललितानंद महाराज

22 December 2009 at 18:57

बच्चा लोगो को आशीर्वाद,
आज सुबह से आश्रम मे प्रवचन चल रहा है, आप लोग श्रवण लाभ लेने नही आए? थोड़ा आश्रम तरफ़ भी ध्यान दे दिया करो।

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 18:58

नई कविता


मार्मिक है, कृप्या आंसू बहायें:





कुछ अश्रु गिरे, और कुछ मुस्कानें,
कुछ अवसादों ने आ फिर घेरा है...
कुछ यहाँ की हैं, कुछ वहाँ की है..
जाने किस किस का यह डेरा है...

जाने कितने झेल गया मैं, कैसे कैसे वार
दरवाजे पर आया है, आज का ये अखबार

  Anonymous

22 December 2009 at 18:58

डाँ. झटका, aaj to aapko hint dena hoga; mushkil swal jo hai.

  श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी

22 December 2009 at 19:00

सूचना





कृप्या आश्रम पधार कर Followers बटन पर घंटी बजा बाबा समीरानन्द के भक्त बन कर पुण्य कमायें एवं बाबाश्री का आशीर्वाद पायें.

-आश्रम मेनेजमेन्ट

  रंजन (Ranjan)

22 December 2009 at 19:01

लार्ड माउंट बेटन..

नहीं तो सचिन के बराबर से जीनियस..
अरे वो आस्ट्रेलिअई..

अरे क्या नाम उनका..
१०० की एवरेज वाले..

ब्रेडमेन जी..

  ब्लॉ.ललित शर्मा

22 December 2009 at 19:01

वाह वाह!दो आसुं हमारे भी गिरे
यहां भी गिर और वहां भी गिरे

आंसु दिखें तो बताना।

  makrand

22 December 2009 at 19:01

स्वामी ललितानंद महाराज की जय हो! बाबाजी मुझे परिक्षा मे बिना अपीयर हुये पास होने का वरदान दिजिये.

  sangita puri

22 December 2009 at 19:01

वो तो बहने शुरू हो गए
.. अश्रु बहने से रोकने के भी उपाय कीजिए !!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:02

रंजन भाई को प्रणाम....



खेलने तो मिल नहीं रहा...


जो आता है सबको फर्सी सलाम बजाता हूँ, बस एक ही काम रह गया है. :)

  Murari Pareek

22 December 2009 at 19:03

Partab Ramchand

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:03

आंसू रुक ही नहीं रहे..अखबार से ही पोंछ रहा हूँ..संगीता जी!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:04

Blogger संगीता पुरी said...

डूंगरपुर तो नहीं ??

22 December 2009 18:50


-आप पहेली पूछ रहीं हैं कि बूझ रही हैं???

  Murari Pareek

22 December 2009 at 19:04

समीरजी अखबार ना आये तो चिंता आये तो चिंता इस चिंता का निवारण क्या है !!!

  Murari Pareek

22 December 2009 at 19:10

पंडित जी हमने पढ़ भी लिया और गुण भी लिया !!!

  sangita puri

22 December 2009 at 19:13

आपलोग चेहरा दिखाते नहीं .. अब डुंगरपुर हो या अडवानी जी या कोई भी .. साइड तो बहुतो के मिलते हैं .. कन्‍फर्म करने के लिए पूछना ही तो पडेगा।

  sangita puri

22 December 2009 at 19:15

एक सज्‍जन इधर से गुजर रहे थे .. साइड से बिल्‍कुल आपकी तरह .. मैने सोंचा कि आज उडनतश्‍तरी इधर ही उतर गयी .. अब बात करने से पहले कन्‍फर्म करना चाहिए या नहीं ??
आपलोग भी समझते नहीं है !!

  makrand

22 December 2009 at 19:16

जिसको भी हिंट चाहिये वो मेरे साथ आम्दोलन करें...

  makrand

22 December 2009 at 19:16

डाक्टर झटका हिंट दिजिये..नही तो आंदोलन होगा...

  sangita puri

22 December 2009 at 19:17

मार्कण्‍ड जी .. आंदोलन करेंगे तो साथ देंगे .. आम्‍दोलन का अर्थ मुझे नहीं पता !!

  makrand

22 December 2009 at 19:21

आंटी मैं आंदोलन ही लिख रहा था, गल्ती आम्दोलन छप गया...आंदोलन शुरु हो.

  makrand

22 December 2009 at 19:24

डाक्टर झटका हाय हाय...

  makrand

22 December 2009 at 19:25

डाक्टर झटका हाय हाय...हिंट देना पडेगा...देना पडेगा...देना पडेगा...डाक्टर झटका हाय हाय.....

  makrand

22 December 2009 at 19:25

डाक्टर झटका हाय हाय...हिंट देना पडेगा...देना पडेगा...देना पडेगा...डाक्टर झटका हाय हाय.....

  Murari Pareek

22 December 2009 at 19:25

ये तो भाई विजय मर्चेंट जी है !!!

  makrand

22 December 2009 at 19:25

डाक्टर झटका हाय हाय...हिंट देना पडेगा...देना पडेगा...देना पडेगा...डाक्टर झटका हाय हाय.....

  makrand

22 December 2009 at 19:25

मुरारी अंकल...जोर से बोलो और आम्दोलन मे साथ दो...

डाक्टर झटका हाय हाय...हिंट देना पडेगा...देना पडेगा...देना पडेगा...डाक्टर झटका हाय हाय.....

  डाँ. झटका..

22 December 2009 at 19:25

हिन्ट




यह एक विख्यात भारतीय की तस्वीर है.

  Murari Pareek

22 December 2009 at 19:26

इनकी शारीरिक बनावट तो ऐसी ही लगती है!!! बाकि मकरंद का saath देंगे आन्दोलन में!!!

  makrand

22 December 2009 at 19:27

मुरारी अंकल जिंदाबाद जिंदाबाद

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:27

एक हिंट और दूं क्या मैं भी...

  makrand

22 December 2009 at 19:27

जोर से बोलो मुरारी अंकल जिंदाबाद जिंदाबाद

  makrand

22 December 2009 at 19:28

प्रेम से बोलो... जोर से बोलो... मुरारी अंकल जिंदाबाद जिंदाबाद

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:28

फिर से न चिपके मकरंद कहीं आंदोलन के चक्कर में... :)

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:29

सब प्रम व्रेम धरा रहा जायेगा...


प्रेम सो बोलो/////

  makrand

22 December 2009 at 19:29

हां दिजिये समीर अंकल, वैसे तो आपको मालूम होगा...आप तो आज लिंक ही दे दिजिये...

प्रेम से बोलो... जोर से बोलो... समीर अंकल जिंदाबाद जिंदाबाद

  Murari Pareek

22 December 2009 at 19:30

मकरंद मरवाएगा!!!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:30

आयोजक का हिंट




यह नॉन क्रिकेटर हैं और पहेली में पहले इनकी तस्वीर आ चुकी है.

  sangita puri

22 December 2009 at 19:32

मैं जीत गयी .. मैने कहा था कि ये क्रिकेटर नहीं है .. इसके लिए विशेष सर्टिफिकेट्स बनवाए जाएं !!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:37

नाम बताया जाये इस विख्यात व्यक्ति का.

  sangita puri

22 December 2009 at 19:42

प्रभु चावला

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:48

इतना नामी भारतीय....पहचानिये भई.

  Anonymous

22 December 2009 at 19:50

Sameer ji kis field me vikhyat hai voh bhi bata dijiye plz:)

  Anonymous

22 December 2009 at 19:52

nehruji???????

  Anonymous

22 December 2009 at 19:53

unki ghadi kuch alag si hai!!!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 19:58

rekhaji




भारत में विख्यात होने के लिए, कुख्यात होने के लिए-दोनों के लिए एक ही तो फील्ड है. :)

  Anonymous

22 December 2009 at 20:01

Nehru ji:)

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:02

आदरणीय समीरजी, नमस्कार,
ललित जी राम राम
गोदियाल जी राम राम
संगीता जी नमस्कार
पंडित जी नमस्कार
गगन जी नमस्कार
रेखा जी नमस्कार
सीमा जी नमस्कार...
अल्पना जी नमस्कार...
दिगम्बर जी नमस्कार...
महक जी नमस्कार..
सुनीता दी नमस्कार
श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज जी राम राम
श्री श्री १००८ बाबा समीरानन्द जी राम राम
मुरारी जी जय हिंद....
मकरंद को प्यार...

रामप्यारी I Love you......

  makrand

22 December 2009 at 20:02

रेखा आंटी जिंदाबाद...यह सही जवाब है, मेरा जवाब भी श्री जवाहरलाल नेहरू जो कि बच्चों के चाचा हैं. लाक कर दिया जाये.

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:02

ज़रा देख के बताइए..... कोई नाम छूटा तो नहीं है?

  makrand

22 December 2009 at 20:03

अरे महफ़ूज अंकल नाम्स्ते...कैसे हैं आप?

  Anonymous

22 December 2009 at 20:03

makrand tere muh me ghee shakkar, kash yahi ho:)

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:05

यह क्रिकेट जगत के ग्रांड ओल्ड मैन ...दिनकर बलवंत देवधर हैं.....

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:06

मकरंद बेटा ..... नमस्कार.........

  makrand

22 December 2009 at 20:06

रेखा आंटी यही है. मेरी मम्मी ने यही बताया था. मुझे गल्ती से लार्ड माऊंटबैटन याद रह गया वर्ना आज मैं प्रथम विजेता हो जाता. मुझे तो लिंक भी मिल गया.

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:07

कोई बकरा मत बनना ....मनेर आंसर सही है....

  makrand

22 December 2009 at 20:07

आंटी जवाब मत बदलना.

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 20:08

महफूज भाई को नमस्ते.


बड़ी देर से आये.

  makrand

22 December 2009 at 20:08

महफ़ूज अंकल बकरा मेकर बनने के चक्कर मे हैं.

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:09

जी .... आज ट्रैफिक जैम था.....

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:09

उसी में फंस गया था,......

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:11

पीछे तीनों लड़कियों कि फोटो अच्छे से अलग से मेल कर दीजिये... साफ़ नज़र नहीं आ रही है......

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 20:11

घोषणा


आज पंडित वत्स जी ने बिना शुल्क भरे अपनी पोस्ट का विज्ञापन लगाया है.


कमेटी सब देख रही है.


कमेटी के नियम के अनुसार पंडित वत्स जी को ११ टिप्पणी शुल्क के तौर पर और ११ टिप्पणी बिना बताये विज्ञापन लगाने के दंड के तौर पर भरने का निर्णय देती है.


वो चाहें तो आज भर दें या फिर कल की पहेली पर २२ टिप्पणियाँ करके रसीद प्राप्त करें.

  sangita puri

22 December 2009 at 20:11

यशवंत सिंह

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:12

योग कर रहीं हैं...... या फिर ashram में हमारे प्रवचन सुन रही हैं.....

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:13

लो! आज तो पंडित जी गए.....

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 20:14

उपरोक्त घोषणा डॉ झटका ने ईमेल द्वारा मुझे भिजवाई है, मैं मात्र प्रतिनिधि की भूमिका में हूँ.

  makrand

22 December 2009 at 20:15

संगीता आंटी, ये नेहरूजी हैं , जवाब बदल लिजिये, मेरी मम्मी झूंठ नही बोलती. वो राजनिती शाश्त्र की प्रोफ़्र्सर है. मान जाईये

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:16

जी... अच्छा .... अच्छा...

  sangita puri

22 December 2009 at 20:20

मार्कण्‍ड बकरे बनाने के फेर में हैं

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:21

आज मैं बहुत लेट आया हूँ.... कोई है ही नहीं साथ में बदमाशी करने को..... मुरारी जी भी गायब हैं..... मकरंद को टूशन जाना है....

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 20:22

मकरंद की मम्मी झूठ नहीं बोलती मगर मकरंद?? वो तो बोलता है न!!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 20:24

महफूज भाई


ये उपर वाली लड़कियों की तस्वीर कल की पहेली पूछी जाना है, इसलिए आज ज्यादा बताना मना है उसके बारे में. :)

  makrand

22 December 2009 at 20:24

संगीता आंटी अगर आपको नही मानना होतो मत मानिये..फ़िर कल आप मुझे दोष मत देना. और आपने तो उस रोज मेरी सिफ़ारिश की थी. फ़िर आपको क्यों बकरा बनाऊंगा?

मैं शरीफ़ बच्चा हूं. पढने मे मन नही लगता पर आवारा नही हूं.

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:24

हां! यह बात आपने सही बोली....

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 20:24

१५० वी

  sangita puri

22 December 2009 at 20:24

एक समस्‍या आ गयी है .. किसी पिक्‍चर में जसवंत सिंह चश्‍मा पहने नहीं दिख रहे !!

  डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali)

22 December 2009 at 20:24

ओह! अच्छा ...अच्छा...

  Murari Pareek

22 December 2009 at 20:38

Guljari lal nanda!!

  Murari Pareek

22 December 2009 at 20:38

mahfuj bhai adab!!!

  Udan Tashtari

22 December 2009 at 22:28

आज का चैप्टर क्लोज!!


पंडित जी कल शुल्क और दंड भरेंगे :)

  Anonymous

23 December 2009 at 12:24

@Udan Tashtari (आयोजक)said..
एनाउन्समेन्ट




कल पहेली जीतने वाले को सर्टीफिकेट दिया जायेगा.

22 DECEMBER 2009 18:34
Ye आयोजकji ne announce kiya tha uprokta time par krupya ispe dhyan deejiyega, rampyari ji. आयोजक shriman ne kya kaha, kya hum ise majak samajhe?

Followers