ताऊ की चोपाल मे : दिमागी कसरत - 26

ताऊ की चौपाल मे आपका स्वागत है. ताऊ की चौपाल मे सांस्कृतिक, राजनैतिक और ऐतिहासिक विषयों पर सवाल पूछे जायेंगे. लेकिन किसी भी तरह के विद्वेष फ़ैलाने वाले सवाल जवाब नही होंगे. आशा है आपको हमारा यह प्रयास अवश्य पसंद आयेगा.

सवाल के विषय मे आप तथ्यपुर्ण जानकारी हिंदी भाषा मे, टिप्पणी द्वारा दे सकें तो यह सराहनीय प्रयास होगा.


आज का सवाल नीचे दिया है. इसका जवाव और विजेताओं के नाम अगला सवाल आने के साथ साथ, इसी पोस्ट मे अपडेट कर दिया जायेगा.


आज का सवाल :-

शिखंडी कौन था?



अब ताऊ की रामराम.



Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

11 comments:

  seema gupta

24 December 2009 at 08:22

शिखंडी महाभारत का एक पात्र है। महाभारत कथा के अनुसार भीष्म द्वारा अपहृता काशीराज की ज्येष्ठ पुत्री अम्बा का ही दूसरा अवतार शिखंडी के रूप में हुआ था। प्रतिशोध की भावना से उसने शंकर की घोर तपस्या की और उनसे वरदान पाकर महाराज द्रुपद के यहाँ जन्म लिया उसने महाभारत के युद्ध में अपने पिता द्रुपद और भाई धृष्टद्युम्न के साथ पाण्डवों की ओर से युद्ध किया।
regards

  seema gupta

24 December 2009 at 08:23

शिखण्डी का जन्म पंचाल नरेश द्रुपद के घर मूल रुप से एक कन्या के रुप में हुआ था। उसके जन्म के समय एक आकशवाणी हुई की उसका लालन एक पुत्री नहीं वरन एक पुत्र के रुप मे किया जाए। इसलिए शिखंडी का लालन-पालन पुरुष के समान किया गया। उसे युद्धकला का प्रक्षिक्षण दिया गया और कालंतर में उसका विवाह भी कर दिया गया। उसकी विवाह रात्री के दिन उसकी पत्नी ने सत्य का ज्ञान होने पर उसका अपमान किया। आहत शिखंडी ने आत्महत्या का विचार लेकर वह पंचाल से भाग गई। तब एक यक्ष ने उसे बचाया, और अपना लिंग परिवर्तन कर अपना पुरुषत्व उसे दे दिया। इस प्रकार शिखंडी एक पुरुष बनकर पंचाल वापस लौट गया और अपनी पत्नी और बच्चों के साथ सुखी वैवाहिक जीवन बिताया। उसकी मृत्यु के पश्चात उसका पुरुषत्व यक्ष को वापस मिल गया।

regards

  M VERMA

24 December 2009 at 08:26

शिखंडी पांचाल देश के राजा द्रुपद का संतान था. वह पांडवो के खिलाफ युद्ध में शामिल था.

  Udan Tashtari

24 December 2009 at 08:34

Shikhandi (Sanskrit: शिखंडी, Śikhaṇḍī) is a character in the Hindu epic, the Mahābhārata. He was originally born as a girl child named 'Shikhandini' to Drupada, the king of Panchala. Shikhandi fought in the Kurukshetra war on the side of the Pandavas, along with his father Drupada and brother Dhristadyumna.

He had been born in an earlier lifetime as a woman named Amba, who was rejected by Bhishma for marriage due to his oath of lifelong celibacy. Feeling deeply humiliated and wanting revenge, Amba carried out great prayers and penance with the desire to be the cause of Bhishma's death. Amba was then reborn as Shikhandini.

From her birth, a Divine voice told her father to raise her as a son. So Shikhandini was raised like a man, trained in warfare and eventually married. On her wedding night, her wife insulted her on finding out the truth. Contemplating suicide, she fled Panchala, but was saved by a Yaksha who exchanged his sex with her. Shikhandini went back to Panchala a man with the name 'Shikhandi' and led a happy married life with his wife and children. After his death, his masculinity was transferred back to the Yaksha.

In the battle of Kurukshetra, Bhishma recognised him as Amba reborn, and not wanting to fight 'a woman', lowered his weapons. Knowing that Bhishma would react thus to Shikhandi, Arjuna hid behind Shikhandi and attacked Bhishma with a devastating volley of arrows. Thus, only with Shikhandi's help could Arjuna deal a death blow to Bhishma, who had been virtually invincible until then.

Shikhandi was finally killed by Ashwatthama on the 18th day of battle.

In the Javanese telling, 'Srikandi' (as she is known) never becomes a man, but is a woman equal to men.

  Udan Tashtari

24 December 2009 at 08:35

शिखंडी महाभारत का एक पात्र है। महाभारत कथा के अनुसार भीष्म द्वारा अपहृता काशीराज की ज्येष्ठ पुत्री अम्बा का ही दूसरा अवतार शिखंडी के रूप में हुआ था। प्रतिशोध की भावना से उसने शंकर की घोर तपस्या की और उनसे वरदान पाकर महाराज द्रुपद के यहाँ जन्म लिया उसने महाभारत के युद्ध में अपने पिता द्रुपद और भाई धृष्टद्युम्न के साथ पाण्डवों की ओर से युद्ध किया।

  Udan Tashtari

24 December 2009 at 08:36

शिखंडी महाभारत का एक पात्र है। महाभारत कथा के अनुसार भीष्म द्वारा अपहृता काशीराज की ज्येष्ठ पुत्री अम्बा का ही दूसरा अवतार शिखंडी के रूप में हुआ था। प्रतिशोध की भावना से उसने शंकर की घोर तपस्या की और उनसे वरदान पाकर महाराज द्रुपद के यहाँ जन्म लिया उसने महाभारत के युद्ध में अपने पिता द्रुपद और भाई धृष्टद्युम्न के साथ पाण्डवों की ओर से युद्ध किया।


पूर्व जन्म की कथा

शिखंडी के रूप में अंबा का पुनर्जन्म हुआ था। अम्बा काशीराज की पुत्री थी। उसकी दो और बहने थी जिनका नाम अम्बिका और अम्बालिका था। । विवाह योग्य होने पर उसके पिता ने अपनी तीनो पुत्रियों का स्वयंवर रचाया। हस्तिनापुर के संरक्षक भीष्म ने अपने भाइ विचित्रवीर्य के लिए जो हस्तिनापुर का राजा भी था, काशीराज की तीनों पुत्रियों का स्वयंवर से हरण कर लिया। उन तीनों को वे हस्तिनापुर ले गए। वहाँ उन्हें अंबा के किसी और के प्रति आसक्त होने का पता चला। भीष्म ने अम्बा को उसके प्रेमी के पास पहुँचाने का प्रबंध कर दिया किंतु वहां से अंबा तिरस्कृत होकर लौट आ। अम्बा ने इसका उत्तरदायित्व भीष्म पर डाला और उनसे विवाह करने पर जोर दिया। भीष्म द्वारा आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन करने की प्रतिज्ञा से बंधे होने का तर्क दिए जाने पर भी वह अपने निश्चय से विचलित नहीं हुई। अंततः अंबा ने प्रतिज्ञा की कि वह एक दिन भीष्म की मृत्यु का कारण बनेगी। इसके लिए उसने घोर तपस्या की। उसका जन्म पुनः एक राजा की पुत्री के रूप में हुआ। पुर्वजन्म की स्मृतियों के कारण अंबा ने पुनः अपने लक्ष्य की पूर्ति के लिए तपस्या आरंभ कर दी। भगवान शंकर ने प्रसन्न होकर उसकी मनोकामना पूर्ण होने का वरदान दिया तब अंबा ने शिखंडी के रुप में महाराज द्रुपद की पुत्री के रुप में जन्म लिया।

जीवन वृत

शिखण्डी का जन्म पंचाल नरेश द्रुपद के घर मूल रुप से एक कन्या के रुप में हुआ था। उसके जन्म के समय एक आकशवाणी हुई की उसका लालन एक पुत्री नहीं वरन एक पुत्र के रुप मे किया जाए। इसलिए शिखंडी का लालन-पालन पुरुष के समान किया गया। उसे युद्धकला का प्रक्षिक्षण दिया गया और कालंतर में उसका विवाह भी कर दिया गया। उसकी विवाह रात्री के दिन उसकी पत्नी ने सत्य का ज्ञान होने पर उसका अपमान किया। आहत शिखंडी ने आत्महत्या का विचार लेकर वह पंचाल से भाग गई। तब एक यक्ष ने उसे बचाया, और अपना लिंग परिवर्तन कर अपना पुरुषत्व उसे दे दिया। इस प्रकार शिखंडी एक पुरुष बनकर पंचाल वापस लौट गया और अपनी पत्नी और बच्चों के साथ सुखी वैवाहिक जीवन बिताया। उसकी मृत्यु के पश्चात उसका पुरुषत्व यक्ष को वापस मिल गया।

प्रतिज्ञान पूर्ति और भीष्म का अंत

कुरुक्षेत्र के युद्ध में १० वें दिन वह भीष्म के सामने आ गया, लेकिन भीष्म ने उसके रूप में अंबा को पहचान लिया और अपने हथियार रख दिए। और तब अर्जुन ने अंबा के पीछे से उनपर बाणों की बौछर लगा दी और उन्हें बाण शय्या पर लिटा दिया। इस प्रकार अर्जुन द्वारा भीष्म को परास्त किया गया, जिन्हें किसी भी अन्य विधि से परास्त नहीं किया जा सकता था।

मृत्यु

महाभारत में पांडवों की विजय के पश्चात अश्वत्थामा द्वारा पांडवों के शिविर पर रात्री में आक्रमण के दौरान शिखंडी का भी वध कर दिया गया।

  वाणी गीत

24 December 2009 at 08:43

भीष्म द्वारा विचित्रवीर्य के विवाह के लिए अगवा की गयी तीन कन्याओं ...अम्बा , अम्बिका और अम्बालिका में से एक ...अम्बा जिसका अपने प्रतिशोध के लिए तपस्या कर शिखंडी के रूप में पुनर्जन्म हुआ ....!!

  जी.के. अवधिया

24 December 2009 at 09:17

महाभारत कथा के अनुसार भीष्म द्वारा अपहृता काशीराज की ज्येष्ठ पुत्री अम्बा का ही दूसरा अवतार शिखंडी के रूप में हुआ था। प्रतिशोध की भावना से उसने शंकर की घोर तपस्या की और उनसे वरदान पाकर महाराज द्रुपद के यहाँ जन्म लिया उसने महाभारत के युद्ध में अपने पिता द्रुपद और भाई धृष्टद्युम्न के साथ पाण्डवों की ओर से युद्ध किया।

  संजय बेंगाणी

24 December 2009 at 10:42

शिखंडी भारत के वर्तमान कर्णधार है.

  प्रकाश गोविन्द

24 December 2009 at 13:08

संजय बेंगाणी साहब शिखंडी का अपमान न कीजिये !

  संजय बेंगाणी

24 December 2009 at 17:00

प्रकाश गोविन्द सा'ब क्षमा करें.

Followers