ताऊ की चोपाल मे : दिमागी कसरत - 28

ताऊ की चौपाल मे आपका स्वागत है. ताऊ की चौपाल मे सांस्कृतिक, राजनैतिक और ऐतिहासिक विषयों पर सवाल पूछे जायेंगे. आशा है आपको हमारा यह प्रयास अवश्य पसंद आयेगा.

सवाल के विषय मे आप तथ्यपुर्ण जानकारी हिंदी भाषा मे, टिप्पणी द्वारा दे सकें तो यह सराहनीय प्रयास होगा.


आज का सवाल नीचे दिया है. इसका जवाव और विजेताओं के नाम अगला सवाल आने के साथ साथ, इसी पोस्ट मे अपडेट कर दिया जायेगा.


आज का सवाल :-

विक्रम और बेताल की कहानी मे बेताल बार बार क्यों वापस पेड पर जाकर लटक जाता था?

अब ताऊ की रामराम.



Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

5 comments:

  seema gupta

26 December 2009 at 08:23

बेताल विकर्म को कहानियाँ सुनाता था और एक शर्त कहता था की अगर तुम कुछ भी बोले तो मै वापस पेड़ पर चड़ जाउंगा और जेसे ही कहानी खत्म होती थी विक्रम बोल पडता था और वेताल फिर से पेड़ पर चला जाता था.
regards

  seema gupta

26 December 2009 at 08:24

बैताल पचीसी (वेताल पचीसी या बेताल पच्चीसी (संस्कृत में वेताल पंचविंशति) पच्चीस कथाओं से युक्त एक ग्रन्थ है। इसके रचयिता बेतालभट्ट बताये जाते हैं जो न्याय के लिये प्रसिद्ध राजा विक्रम के नौ रत्नों में से एक थे। ये कथायें राजा विक्रम की न्याय-शक्ति का बोध कराती हैं। बेताल प्रतिदिन एक कहानी सुनाता है और अन्त में राजा से ऐसा प्रश्न कर देता है कि राजा को उसका उत्तर देना ही पड़ता है। उसने शर्त लगा रखी है कि अगर राजा बोलेगा तो वह उससे रूठकर फिर से पेड़ पर जा लटकेगा। लेकिन यह जानते हुए भी सवाल सामने आने पर राजा से चुप नहीं रहा जाता।
regards

  Murari Pareek

26 December 2009 at 08:31

seemaji lajwaab!!! jawaab!!!

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

26 December 2009 at 09:44

सीमा गुप्ता सही कह रहीं हैं।।

  निर्मला कपिला

26 December 2009 at 09:47

सीमा जी को अग्रिम बधाई ।धन्यवाद्

Followers