खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (163) : आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका हार्दिक स्वागत करता हूं.

जैसा कि आप जानते हैं कि आज मैं ये 32 वां अंक आयोजक के बतौर पेश कर रहा हूं. सिर्फ़ 3 अंक की बात और है फ़िर मैं भी आपके साथ प्रतिभागी के तौर पर शामिल रहुंगा.

आपका इस खेल को संचालित करने मे मुझे पुर्ण सहयोग मिलता आया है और उम्मीद करता हूं कि अब बाकी बचे दिनों मे भी मिलता रहेगा. इस खेल मे आप लोगो के सहयोग से रोचकता बरकरार है. सभी इसका आनंद ले रहें हैं. आगे भी लेते रहें और अब रिजल्ट पेश करने के लिये आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" भी अमेरिका से पलट आये है. तो आईये अब आज का सवाल आपको बताते हैं :-

नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि ये कौन हैं ?



तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 तक आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" देंगे. आज मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.

"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"

.टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.


Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

37 comments:

  Rekhaa Prahalad

6 January 2010 at 18:04

steffi graf

  Rekhaa Prahalad

6 January 2010 at 18:04

Namaskar, ye tennis player Steffi Graf hai.

  Rekhaa Prahalad

6 January 2010 at 18:07

Na Jaane kyu 2010 me logo ka aana yaha par kam ho gaya hai, mere khayal se sab ka man is paheli manch se OOooob gaya lagta hai:)

  makrand

6 January 2010 at 18:15

नमस्ते, आज बडी ठंड है. पहेली का जवाब है सानिया मिर्जा.

  makrand

6 January 2010 at 18:16

अब मैं जारहा हूं ट्युशन नही तो मम्मी मारेगी.

  makrand

6 January 2010 at 18:16

सबको नम्स्ते करता चलूं यही सोच कर रुक गया था यहां. लगता है अभी छुट्टी मना कर अंकल लोग लौटे नही है.

  M VERMA

6 January 2010 at 18:18

maria sharapova

  M VERMA

6 January 2010 at 18:19

steffi graf

  M VERMA

6 January 2010 at 18:20

steffi graf final
रेखा जी बधाई

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:39

स्टेफी ग्राफ सही जबाब हो सकता है !
रेखा जी को बधाई और सब को मेरी राम-राम !

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:40

वर्मा जी को राम-राम मैंने भी आपकी हाँ में हां मिला दी !

  संगीता पुरी

6 January 2010 at 18:41

सबों को नमस्‍कार .. स्‍टेफी ग्राफ ही है .. रेखा जी को बधाई !!

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:41

क्या करे आजकल ज़माना ही हां में हां मिलाने का है :)

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:41

संगीता जी को भी मेरा प्रणाम !

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:42

मकरंद जी को भी मेरा राम-राम !

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:43

ये आजकल सारे पहलवान लोग कहाँ चले गए ?

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:45

डाक्टर झटका तो आज उस्तरा तैयार करने लगे थे, लेकिन मैं निकल भागा !

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:46

टंकण की गलती कर दी थी उन्होंने

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:46

पहेली नंबर १६२ की जगह १६१ लिख दिया था !

  पी.सी.गोदियाल

6 January 2010 at 18:47

अब कोई आयेगा नहीं तो मैं अकेले-अकेले भी क्या करूंगा चलता हूँ राम-राम !

  संगीता पुरी

6 January 2010 at 18:49

राम राम गोदियाल जी !!

  संगीता पुरी

6 January 2010 at 18:50

मैं भी अब चली !!

  Udan Tashtari

6 January 2010 at 19:10

हम अभी आये और सब चले...


सभी को प्रणाम!!

  Udan Tashtari

6 January 2010 at 19:13

रेखा जी तो पहले ही कल हैट्रिक लगा चुकी हैं.


उसी की बधाई...

  Udan Tashtari

6 January 2010 at 19:13

कोई है यहाँ कि मैं अकेले ही बड़बड़ा रहा हूँ भई??????



हेल्ल्ल्ल्लो!!!!

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

6 January 2010 at 19:37

अभी अभी जन्त्री देखकर आए तो पता चला की ये तो पक्के से स्टैफी ग्राफ ही है.....

  Udan Tashtari

6 January 2010 at 19:37

जय हो पंडित जी की

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

6 January 2010 at 19:39

समीर जी, वैसे हमने बुढापे में कईं लोगों को ऎसे ही अकेले में बडबडाते देखा है :)

  Udan Tashtari

6 January 2010 at 19:43

हा हा!! लेकिन अभी बुढ़ापा आया कहाँ है..इसीलिए चिन्ता हुई!!

  anjana

6 January 2010 at 19:45

स्‍टेफी ग्राफ ही है ।रेखा जी बधाई

  पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

6 January 2010 at 19:45

हा हा हा.. यानि कि गाडी अभी जवानी ओर बुढापे के बीच के स्टेशन पर रुकी है....तब तो सचमुच बडी गडबड वाली बात है:)

  महेन्द्र मिश्र

6 January 2010 at 19:47

स्टैफी ग्राफ है अपने उम्र की है पहिचान तो लेंगे हम ...हा हा

  Udan Tashtari

6 January 2010 at 19:57

आईये, अंजना जी और मिश्र जी

प्रणाम करता हूँ.

  anjana

6 January 2010 at 20:03

सभी को राम राम ....

  anjana

6 January 2010 at 20:29

प्रणाम, समीर जी

  Udan Tashtari

6 January 2010 at 20:41

प्रणाम अंजना जी..आज देर से आना हुआ

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

6 January 2010 at 22:06

कल बतायेंगे!

Followers