फ़र्रुखाबादी विजेता ( 172) : श्री ललित शर्मा

नमस्कार बहनों और भाईयो. रामप्यारी पहेली कमेटी की तरफ़ से मैं समीरलाल "समीर" यानि कि "उडनतश्तरी" फ़र्रुखाबादी सवाल का जवाब देने के लिये आचार्यश्री यानि कि हीरामन "अंकशाश्त्री" जी को निमंत्रित करता हूं कि वो आये और रिजल्ट बतायें.

प्यारे साथियों, मैं आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" आपका हार्दिक स्वागत करता हूं और रामप्यारी पहेली कमेटी का भी शुक्रिया अदा करता हूं कि उन्होने मुझे इस काबिल समझा और यह सौभाग्य मुझे प्रदान किया. इससे पहले की मैं आपको रिजल्ट बताऊं आप सवाल का मूल चित्र नीचे देख लिजिये जिससे की यह सवाल का चित्र लिया गया था.



और आज की इस पहेली के विजेता हैं : श्री ललित शर्मा,
बधाई !



ललित शर्मा said...

बीच व्हालीबाल

14 January 2010 18:11


और रिकार्ड के मुताबिक सुश्री सुनीता शानु,
श्री विवेक रस्तोगी
श्री विशाल
श्री देवेंद्र जी, और
श्री M VERMA ने भी बिल्कुल सही जवाब दिया.

सभी प्रतिभागियों को उत्साह वर्धन के लिये धन्यवाद!

अगला फ़र्रुखाबादी सवाल आज शाम को ठीक ६ बजे और अब आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" को इजाजत दिजिये! नमस्ते.


Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

7 comments:

  Sulabh Jaiswal "सुलभ"

15 January 2010 at 10:14

ललित शर्मा जी को बधाई. बाकी सभी जवाब देनेवालों को भी बधाई.

  Sulabh Jaiswal "सुलभ"

15 January 2010 at 10:41

आज का ताजा शे'र ....

जब से समंदर में नहा के आया हूँ
तमाम मीठी यादे नमकीन हो गयी


वाह वाह...

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

15 January 2010 at 10:42

वाह ललित जी, हमें बातो में उलझाए रखा और खुद ट्रॉफी पे हाथ साफ़ कर दिया :) लख-लख बधाई जी !

  संगीता पुरी

15 January 2010 at 11:30

ललित शर्मा जी को बधाई .. पर विजेताओं की सूची में मेरा नाम नहीं है .. मैने कहा था ...
संगीता पुरी said...
ललित शर्मा जी सही कह रहे हैं .. ऐसा लगता है !!
आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" जी इस छोटे से संकेत को नहीं समझ सकें .. कैसे आचार्य हैं ??

  Anonymous

15 January 2010 at 12:09

ललित शर्मा जी को बधाई!

  ब्लॉ.ललित शर्मा

15 January 2010 at 12:29

भैया ललित शर्मा आपको बहुत बहुत बधाई।

असल मे "एलियन जी" नही आए बधाई देने
तो उनकी तरफ़ से हमने ही दे डाली
अब तो दो यार ताली।
हा हा हा हा

  ब्लॉ.ललित शर्मा

15 January 2010 at 12:31

सभी विजेताओं को राम-राम

Followers