खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (173) : आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका हार्दिक स्वागत करता हूं.

जैसा कि आप जानते हैं कि आज मैं आयोजक के बतौर यह अंक पेश कर रहा हूं.

आपका इस खेल को संचालित करने मे मुझे पुर्ण सहयोग मिलता आया है और उम्मीद करता हूं कि अब आने वाले दिनों में भी मिलता रहेगा. इस खेल मे आप लोगो के सहयोग से रोचकता बरकरार है. सभी इसका आनंद ले रहें हैं. आगे भी लेते रहें और अब रिजल्ट पेश करने के लिये आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" भी अमेरिका से पलट आये है. तो आईये अब आज का बहुत ही आसान सवाल आपको बताते हैं :-

नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि ये कौन है?



तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 तक आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" देंगे. आज मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.

"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"

.टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.


Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

145 comments:

  makrand

16 January 2010 at 18:02

सबको नमस्ते, आज अपनी छुट्टि है तो सबसे पहले आगये. सलाम नमस्ते.

  makrand

16 January 2010 at 18:02

सबको नमस्ते, आज अपनी छुट्टि है तो सबसे पहले आगये. सलाम नमस्ते.

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:02

ye mahilaa hai !!

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:02

namste makranD!!

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:06

ई तो हमार भौजी सुखमणी है।

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:06

koun hai re mahilaa tu???

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:07

aaj jhtkaaji ki madad chahiye

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:08

मुरारी जी राम-राम


मकरंद को आशीष
कैडबरी के साथ
लेकिन कम खाना
इसमे कीडे होते हैं

  makrand

16 January 2010 at 18:08

नमस्ते ललित अंकल, मुरारी अंकल

  makrand

16 January 2010 at 18:08

्ललित अंकल ये सुखमणी आंटी कौन है?

  makrand

16 January 2010 at 18:09

मुरारी अंकल डाक्टर झटका तो आज मुझे 3 idiots देखते हुये मिले थे inox cinema hall मे.

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:11

makrand dactar jhtkaa film kyon dekhenge!!

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:11

aaj baaki sab khaan gayab ho gaye!!!

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:15

Angelina Jolie

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:15

नमस्कार सभी शाब लोगों को....आ गया हूँ मैं भी ड्यूटी पर.

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:16

समीर भाई नमस्कार्।

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:17

please do not search in google in name of Angelina Jolie

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:17

namskaar sameerji!!!

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:18

नमस्कार ललित भाई, बालक मकरंद और मुरारी बाबू भी...सर्च के लिए क्यूँ मना कर रहे हैं??? :)

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:20

समीरजी मैं नहीं चाहता मेरी वजह से बच्चा गलत चीज देखे @मकरंद!!!

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:20

ha..ha..

  दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

16 January 2010 at 18:21

सब कै ताईँ घणी घणी राम राम!
एंजेलिना का तो पता नहीं पर जौली तो लग रही है।

  makrand

16 January 2010 at 18:21

मुरारी अंकल बधाई हो...आप तो जीत गये आज

  makrand

16 January 2010 at 18:21

समीर अंकल नम्स्ते

  makrand

16 January 2010 at 18:22

वकील साहब को सलाम नम्स्ते

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:23

मकरंद को आप मना कर रहे हो और वो पक्का लिंक लायेगा....थोड़ा सा शैतान सा बच्चा है.



कोई किसी को बधाई न दे, जब तक सही जबाब न आ जाये..भ्रम की स्थिति पैदा करने वालों को दंड टिप्पणियाँ लग सकती हैं.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:24

द्विवेदी जी को नमन!!

  makrand

16 January 2010 at 18:25

हमारा जवाब एंजलिना जोली. लाक करे

  makrand

16 January 2010 at 18:26

मुरारी अंकल आज ताऊ डाट इन का जवाब मिला क्या? बताओ ना जरा सा

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:27

बच्चे, दूसरों के बहकावे में नहीं आते...अपनी मेहनत करते हैं. :)

  संगीता पुरी

16 January 2010 at 18:27

सबों को राम राम !!

  makrand

16 January 2010 at 18:27

संगीता आंटी नमस्ते

  संगीता पुरी

16 January 2010 at 18:27

डॉ झटका 15 मिनट देर से आने की सजा समीर जी को नहीं देते हैं क्‍या ??

  संगीता पुरी

16 January 2010 at 18:28

सरकारी कार्यालय है कि जब मन हो तब ड्यूटी पर आओ !!

  Murari Pareek

16 January 2010 at 18:29

makrand taftish jaari hai!!

  संगीता पुरी

16 January 2010 at 18:29

मुझे तो सारी विदेशी महिलाएं एक जैसी ही लगती है .. कैसे पहचानूं ??

  makrand

16 January 2010 at 18:31

मुरारी अंकल मुझे भी बताना वहां का जवाब.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:32

संगीता जी

वैसे ही सजा काट काट कर दुबला हो गया हूँ..और सजा दिलवायेंगी क्या??

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:33

कुछ तो रहम की दृष्टि रखी जाये गरीब गोरखा पर. पहले पंडित वत्स नें भी शिकायत लगाई थी.


बाकी लोग अच्छे हैं. :)

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:33

संगीता जी प्रणाम्।

  संगीता पुरी

16 January 2010 at 18:33

प्रोफाइल में दुबले होने के बाद की फोटो लगाएं .. तभी किसी को दया आ सकती है !!

  संगीता पुरी

16 January 2010 at 18:34

चिट्ठा चर्चा बहुत शानदार रहती है आपकी ललित जी !!

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:35

समीर भाई-इतने दिन मे तो आपको अब पहेली खिलाने मे ही मजा आ रहा होगा। "खेलने की बजाय"
फ़ालतु अब फ़िर आदत बिगड़ जाएगी।

  makrand

16 January 2010 at 18:35

समीर अंकल कबःई आवो जावो...डाकटर खटका तो फ़िल्म देखने गये हैं. अभी...मैं भी किसी को चाहे तो लिंक दे सकता हूं.

  Hiral

16 January 2010 at 18:38

probably Martina novaratilova without eye glasses ?

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:38

हाँ ललित भाई


वैसे भी यह सरकारी काम जैसा ही है..देखिये न, आपका इनाम भी कल इन लोगों ने गड़बड़ कर दियी और कोई सुनवाई नहीं हुई.


हमारी जब मरजी होगी, आयेंगे...जब मरजी होगी जायेंगे...वरना प्राईवेट में न नौकरी कर लेते...कम से कम तन्खवाह तो अच्छी मिलती... :)

  Rekhaa Prahalad

16 January 2010 at 18:38

उपस्थित सभी सज्जनों, देविओं को राम राम और बालक मकरंदा को आसिस.

बिना कुछ हिंट के सुलझाना तो मुश्किल है, पहले ये तो पता चल कि फिरंगी है या यहाँ कि ही कोई बॉलीवुड सितारा है?

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:38

@संगीता जी- जर्रानवाजिस के लिए शुक्रिया।

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:39

हीरल जी बड़े दिन बाद आईं आज...नमस्कार!!

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:39

रेखा जी-हिरल जी, नमस्कार

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:39

रेखा जी आईये ...नमस्ते...


संगीता जी ने मेरी शिकायत लगा दी है...आप कुछ समझाईये!!

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:40

संगीता जी- आज मैने भी एक भवि्ष्यवाणी कर दी।
पढी क्या आपने?

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:40

अभी आते हैं...चाय पीकर और पान खाकर...ललित भाई...चाय पिलवा दो भई.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:41

क्या भविष्यवाणी की ललित भाई.. :)

  makrand

16 January 2010 at 18:41

डाक्टर झटका ...देखिये आपको और पहेली कमेटी को समीर अंकल सरकारी कह कर अपमान कर रहे हैं...आजकल ताला बःई ठीक से नही लगाते और ड्युटी मे भी लापरवाही है...मेरी यह तीसरी शिकायत है...इस बात का नोटीस लिया जाकर उचित कार्यवाही खी जानी चाहिये...वर्ना आंदोलन होगा...यलगार हो........

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:42

जो आज्ञा गुरुदेव,
सादी वाली है-चलेगी?

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:42

ओए मकरंद....कुछ चाय पानी ले ले भाई...मामला दबा...दे...चॉकलेट चलेगी क्या....सरकारी काम में सब चलता है.

  Hiral

16 January 2010 at 18:43

sameer bhai aur lalit bhai naamste.
meri exam chal rahi thi to udhar busy thi.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:43

चाय में क्या सादा??

  makrand

16 January 2010 at 18:43

हीरल आंटी नमस्ते

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:43

समीर भाई संगत का असर है।:)

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:44

हाँ, एक्जाम तो जरुरी है..बढ़िया हो गये??


अब ये वाला एक्जाम पास करिये...पहचानिये इन्हें. :)_

  Rekhaa Prahalad

16 January 2010 at 18:44

मुझे तो सोनी राजदान लगती ;-)

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:44

मकरंद आंटी नहीं...तुम्हारी दीदी हैं बच्चे!!

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:45

एक हिंट दूँ क्या सबको??

  makrand

16 January 2010 at 18:45

डाक्टर झटका..देखो बिल्कुल सरकारी काम जैसे आपकी इज्जत के कचरे कर दिये समीर अंकल ने....रिश्वत और वो बःई आपके राज में? तुरंत संज्ञान मे लिया जाना चाहिये...यलगार हो..ललैत अंकल आंदोलन शुरु...

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:46

हिंट लो, और आंदोलन में सथ न दो मकरंद का



ये डील है.

  makrand

16 January 2010 at 18:47

समीर अंकल मैं तो सबाको आंटि बोल देता हूं..एक रोज स्कूल में मैम को भी ज्योति आंटी बोल दिया और उसने मुझे तबियत से थपडिया दिया था.

  Hiral

16 January 2010 at 18:48

o Makarand tum jaise dikhate ho vaise hi ho kya?:)

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:48

यहाँ भी आज समझो बस बच ही गये थपडियाये जाने से मकरंद!!

  Hiral

16 January 2010 at 18:49

ab main jati hoon .time mila to fir ake javab dene ki koshish karungi..bye every one.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:49

बहुत बदमाश और शैतान है यह हीरल जी...इसकी बात में मत आईयेगा. :)

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:51

हिंट हिंट हिंट


यह भारत से नहीं है और हॉलीवुड से भी नहीं. :)

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:51

समीर भाई-
कुछ गरम-गरम हो जाए,

  डाँ. झटका..

16 January 2010 at 18:52

@ उडनतश्तरी

आपकी तीसरी शिकायत मिली है जिस पर ध्यान देते हुये मामला रामप्यारी मैम के सामने है...जल्द ही फ़ैसला आने की संभावना है... फ़ैसले की कापी मिलते ही फ़ैसला .सुनाया जायेग

  anjana

16 January 2010 at 18:54

सभी को राम राम

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:55

ललित भाई...अब क्या सुनाये गरम गरम...ये डॉक्टर झटका को तो देखो...


आता हूँ अंदर कुछ सेटिंग बैठा कर...आप जरा यहाँ संभालना!!

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 18:55

अंजना जी


नम आँखों और भारी दिल से राम राम!!

  anjana

16 January 2010 at 18:57

क्या बात है समीर जी क्यो उदास है आप

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 18:57

यो डाक्टर झटका भी फ़राड़ी माणस सै।

  anjana

16 January 2010 at 18:58

लगता है खिचाई हो गई आप की !!

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:00

अरे, वो संगीता जी, पंडित वत्स और मकरंद ने कम्पलेंट कर दी कि देर से ड्यूटि पर आते हैं तो सजा मिलने का चक्कर बन रहा है.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:01

मिटिंग चालू हो गई है मैडम के यहाँ..

  anjana

16 January 2010 at 19:01

यह कौन है अभी समझ नही आया ।मंकरद जरा लिंक बताना

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:02

मकरंद, अंजना आंटी कुछ पूछ रही हैं बालक!!

  anjana

16 January 2010 at 19:02

अओह समीर जी :-(

  anjana

16 January 2010 at 19:03

आज तो आप बुरे फंसे

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:03

आप जरा कह दिजिये कि चलता है देर से आने से क्या अंतर पड़ता है इस सरकारी बाड़े में..

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:04

चाय लाऊँ आपके लिए..:)

  डाँ. झटका..

16 January 2010 at 19:05

उडनतश्तरी मामले मे डायरेक्ट रामप्यारी मैं की टेबल से फ़ैसला निम्नानुसार है.

इस फ़ैसले की कहीं कोई अपील नही हो सकती.

मूल फ़ैसला इस प्रकार है:-

तीन तीन सदस्यों कि शिकायत की जांच मे मामला सही पाया गया है. इस लिये कार्यवाही करना उचित जान पड रहा है.

आज तक ताऊजी डाट काम पर एक सैकिंड भी किसी पहेली प्रकाशन मे समय इधर उधर नही हुआ तो ये नाकाबिले बर्दाश्त है कि समय का ध्यन नही रखा जाये.

बहुत ही दुखी मन से ना चाहते हुये भी तीन सप्ताह की बजाये सिर्फ़ दो सप्ताह की सजा सुनाई जाती है.
पिछली सजा आयोजक के रुप मे पूरी काटने के बाद यह सजा शुरु होगी.

कलमतोड फ़ैसला ...कोई अपील नही होगी.

सही

रामप्यारी मैम

  anjana

16 January 2010 at 19:05

व‌ाह रिश्वत :-)

  दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

16 January 2010 at 19:06

समीर भाई बड़ी कड़क पहेली है सब चक्कर खा गए हैं।

  makrand

16 January 2010 at 19:07

डाक्टर झटका जिंदाबाद...जिंदाबाद...वाकई डाक्टर के राज मे न्याय होता है.

  डाँ. झटका..

16 January 2010 at 19:09

सूचना : जल्दी ही हिंट दिया जाने वाला है. सबःई तैयार रहें.

धन्यवाद

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 19:09

कलमतोड फ़ैसला ...कोई अपील नही होगी.


यो हुई ना बात
अब सुनवाई लंदन मै भी नही हो सकती।

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:09

अरे वकील साहब आपको पहेली कमर तोड़ लग रही है और रामप्यारी मैडम का फैसला...???


ये तो सजा नहीं जमींदार की रकम हो गई..पुश्त दर पुश्त चौकीदारी ही करेगी मेरी लगता है. :)

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 19:10

वकील साब -खम्मा घणै। दाता

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:10

जो भी इस फैसले से खुश नजर आ रहे हैं...सबके नाम डायरी में लिख लिया हूँ...

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:11

वकील साब -खम्मा घणै

  डाँ. झटका..

16 January 2010 at 19:11

हिंट न.१

यह खिलाडी है और बहुत ही ऊंचे स्तर की खिलाडी रही है.

हिंट न.२ - यह भारतीय नही है इसके देश का नाम अंग्रेजी अक्षर R से शुरु होता है.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:12

मकरंद साब -खम्मा घणै

अन्जना जी साब -खम्मा घणै

  makrand

16 January 2010 at 19:12

अरे मुरारी अंकल हिंट के हिसाब से हमारे जवाब मे कहां गडबडी है?

  makrand

16 January 2010 at 19:13

समीर अंकल मजा आया कि नही?:)

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 19:15

समीर भाई-आज मिसिर जी टंकी पे है।
आपको पता नही?।:)

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:16

ललित भाई...मालूम नहीं पड़ा...अभी तो पान की दुकान पर देखा था उन्हें..

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:17

मकरंद...मजे तो दिलवाऊँगा एक दिन...फिर पूछूंगा पक्का!! ,,, :)

  ललित शर्मा

16 January 2010 at 19:25

वो समय चक्र पर है।

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:28

देख कर आते हैं...

  Rekhaa Prahalad

16 January 2010 at 19:31

अगर टेनिस खिलाडी है तो रूस या रोमानिया से हों सकती है?
अगर रूस से है तो मारिया शारपोवा हों सकती है?
;-)))

  सुनीता शानू

16 January 2010 at 19:31

मालूम नही कौन है यह मगर है रशियन खिलाड़ी।
सभी को राम-राम। अरे समीर भाई आज क्या हुआ आपको किस बात पर सजा मिल गई?

  दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

16 January 2010 at 19:33

रा्मप्यारी का फैसला काहे का कड़क है मुझे तो ईनाम लग रहा है।

  anjana

16 January 2010 at 19:34

हम जरा चले क्या गये समीर जी को क्या क्या झेलना पडा

  anjana

16 January 2010 at 19:37

रा्मप्यारी को थोडा मक्खन लगा देते तो वही बात रफ़ा दफ़ा हो जाती

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:37

अरे क्या बतायें...बस अब तो चौकीदारी.....ही जीवन का एक मात्र कम बच रहा है.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:39

अन्जना जी


बहुत कोशिश की तब जाकर तो तीन हफ्ते से घट कर बात दो हफ्ते पर आई..अभी वाली सजा जनवरी २८ को खत्म होनी थी..फिर दो हफ्ते उसके बाद!!

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:41

हिंट


यह टेनिस प्लेयर नहीं है.

  anjana

16 January 2010 at 19:41

:-( :-( :-(

  anjana

16 January 2010 at 19:44

तो कौन की प्लेयर है?

  डाँ. झटका..

16 January 2010 at 19:45

सूचना : जल्दी ही एक अहम हिंट दिया जाने वाला है. इंतजार करें.

धन्यवाद

  anjana

16 January 2010 at 19:46

हम से तो न सुलझी ये पहेली

  anjana

16 January 2010 at 19:49

आये आये जल्दी आये झटका जी ,ऎसा हिंट देना हमारे दिमाग की बत्ती जल जाएं

  anjana

16 January 2010 at 19:49

:-)

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 19:55

ये ऐसा खेल है कि हम चाह भी लें तो न खेल पायें. :)

  डाँ. झटका..

16 January 2010 at 19:55

हिंट न.३

यह ओलम्पिक खिलाडी थी और इसने ऐसा रिकार्ड बनाया था जो उससे पहले कॊई बना ही नही पाया था.

इसने प्रथम ओलंपिक मात्र १५ या सोलह साल की उम्र मे खेला था.

अब अन्य कोई हिंट नही दिया जायेगा.

सूचना समाप्त

धन्यवाद.

  makrand

16 January 2010 at 19:56

मिल गया जी जवाब मिल गया ये मोनिका सेलेस है.

  anjana

16 January 2010 at 19:57

जार जार रो दिये ।इंतजार का यह फल मिला

  anjana

16 January 2010 at 20:00

अच्छा जी राम राम ,शुभ रात्रि । मै तो चली ।

  anjana

16 January 2010 at 20:02

कल आयेगे, विजेता को बधाई देने!!!!!!!

  Rekhaa Prahalad

16 January 2010 at 20:03

Nadia Comaneci, gymnast

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 20:08

रेखा जी चुपचाप हमारी सजा देख रहीं थी...मगर हिंट मिलते ही प्रकट हो गईं...वाह जी...ये भी खूब रही...


अब मकरंद बतायेगा कि सही है कि नहीं..उसके पास तो लिंक भी होगा

  makrand

16 January 2010 at 20:09

रेखा आंटी आपका जवाब गलत है. ये मोनिका सेलेस है...मेरे पास लिंक है.

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 20:11

लिंक दे दो मकरंद आंटी को...याद है एक दिन उन्होंने चॉकलेट खिलाई थी तुमको...बहुत समय पहले...

  Rekhaa Prahalad

16 January 2010 at 20:11

This comment has been removed by the author.
  makrand

16 January 2010 at 20:13

रेखा आंटी आप जवाब बदलिये, लिंक देता हूं या आप लिंक दिजिये.

  Rekhaa Prahalad

16 January 2010 at 20:13

sameerji, mai bhi break le kar kitchen ho aayi aate hi hint paaya. oh! to aapki saja bada di gayi hai:( kanhi khushi kanhi gum;-))

(jaldi me spelling mistake ho gayi so delete kar na pada)

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 20:14

रेखा आंटी कहाँ चली गईं...मकरंद???

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 20:15

कहीं खुशी???? वो कहाँ सजा में???

  Rekhaa Prahalad

16 January 2010 at 20:15

makranda, bechcha jara Dr. ji ka hint dekhna dubara, vo tennis ki khiladi nahi hai!

  Rekhaa Prahalad

16 January 2010 at 20:16

sameer ji khushi pratibhagiyo ko ho rahi hai:)

  makrand

16 January 2010 at 20:21

हां आंटी ये बात तो आपकी सही लाग्ती है. पर आप लिंक दिजिये जरा मेरे को. मै भी देखूं कि आखिर ये नादिया आंटी ने ऐसा क्या किया था?

  makrand

16 January 2010 at 20:22

प्लिज रेखा आंटी ...जरा लिंक दिजिये ना...प्लिज

  दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

16 January 2010 at 20:25

अभी तक पहेली का जवाब नहीं आया। समीर जी ऐसी पहेली पूछते हैं कि जवाब भी नहीं औऱ सजा और मिल गई।

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 20:46

आज का भलाई का जमाना नहीं रहा, उकील साहेब!!

  Udan Tashtari

16 January 2010 at 20:52

सब चले गये क्या...सजा दिलवा कर...

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

17 January 2010 at 07:15

बाबा झूठानन्द से पूछकर बतायेंगे!

Followers