खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी (179) : आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका आयोजक के बतौर हार्दिक स्वागत करता हूं.

आपका इस खेल को संचालित करने मे मुझे पुर्ण सहयोग मिलता आया है और उम्मीद करता हूं कि अब आने वाले दिनों में भी मिलता रहेगा. और मुझे आपका सहयोग लगेगा ही, क्योंकि मेरी सजा पूरी होने के पहले ही आप लोग मुझे नई सजा दिलवा देते हैं. लगता है अब मुझे आयोजक की भूमिका मे ही आप लोग ज्यादा पसंद करते हैं. जैसी आपकी इच्छा.

इस खेल मे आप लोगो के सहयोग से रोचकता बरकरार है. सभी इसका आनंद ले रहें हैं. आगे भी लेते रहें. तो आईये अब आज का बहुत ही आसान सवाल आपको बताते हैं :-

कल रामप्यारी मैम का ताऊ डाट इन पर ब्लाग हिट कराऊ और टिप्पणी खींचू तेल बेचते चेचते दिमाग खराब होगया. ग्राहकों की जबरदस्त भीड लग गई. तो इस पहेली का चित्र कुछ का कुछ बन गया, आप जरा नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि रामप्यारी मैम ने ये किस किस की आंख और थोबडों उपयोग कर डाला?



तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. इसका जवाब कल शाम को 4:00 तक आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" देंगे. आज मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.

"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"

टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.


Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

60 comments:

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:09

एक चेहरे पे कई चेहरे लगा लेते है लोग..

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:09

आने वाले सभी बैण भाइयों को मेरी राम राम !

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:11

Reenaa roy, shabaanaa azmi, kapil dev, anil kapoor

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:12

raam ji sabhi ko raam

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:13

सबाना आज्मी सही नहीं पारिख जी

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:14

फिर से देख कर बतावो !

  makrand

22 January 2010 at 18:15

सभी को नमस्तेm

  makrand

22 January 2010 at 18:15

संकल मैं बताऊं क्या?

  makrand

22 January 2010 at 18:16

मैं एक अंकल और एक आंटी को तो बिल्कुल पहचान गया हूं.

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:17

phir se deklhtaa hun!!! godiyaalji!!!

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:19

मकरंद जी को राम-राम

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:19

मकरंद आपने कहाँ देखा था, नाम बताओ मैं अभी खबर लेता हूँ :)

  makrand

22 January 2010 at 18:20

गोदियाल अंकल नाम्स्ते. अंकलाज मुझे जितवाईये. दो को पहचान गया मैं. बाकी दो आप बताईये

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:21

मकरंद भाई साहब आप पहले उन दो का नाम तो बताओ

  makrand

22 January 2010 at 18:21

एक आंटी को तो फ़िल्म मे देखा था और एक अंकल को क्रिकेट खेलते देखा था.

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:21

ye koi megaa paheli hai kyaa jo itnaa hard question bachhon se karte ho!!

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:22

हे भगवान् ! अरे मकरंद जी नाम क्या है उनका ?

  makrand

22 January 2010 at 18:22

एक तो कपिल देव अंकल है और दूसरी नीतूआंटी है.यानि नीतू सिंह (कपूर)

बाकी दो आप बताईये.

  Unknown

22 January 2010 at 18:22

shabana azmi
neetu singh
kapil dev
Anil Kapoor

  makrand

22 January 2010 at 18:23

मेगा तो नही पर मुरारी अंकल आप फ़टाक से जवाब दे देते हैं इसीलिये शायद डाक्टर झटका ने कोई तोड निकाला होगा.

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:23

कोहरे का कारण जरा देर हो गई आने में..नमस्कार उपस्थितों को.

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:23

हाँ, बाकी दो के नाम पारिख अंकल के पहले जबाब में से ( शबाना को छोड़कर ) पकड़ लो

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:24

और मकरंद...क्या नई बदमाशी??

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:24

हा-हा-हा समीर जी राम- राम . क्या गोली दी आपने !

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:27

कैसी गोली भाई...शरीफ सज्जन भद्र पुरुष हूँ...गोली कैसी. :)

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:28

कोहरे वाली !

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:29

कहने को तो आज धरा को
कोहरे ने आकर घेरा है..
पर खिड़की से जितना दिखता है
उतना सा कोहरा मेरा है...

:)

  makrand

22 January 2010 at 18:29

समीर अंकल नमस्ते, कोहरे के कारण देर होगई तो ताऊ का कोहरा भगाऊ तेल क्युं नही लेते. आज ही लिखा है वहां.

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:30

क्या बात है , बहुत सुन्दर समीर जी !

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:30

ताऊ की दुकान का माल....पुराना रिकार्ड ठीक नहीं है. :)

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:31

मकरंद बेटा ताऊ का तेल अभी पेटेंट नहीं हुआ !:)

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:33

nitu singh, shbanaa aazmi, anil kapoor, kapil dev

  पी.सी.गोदियाल "परचेत"

22 January 2010 at 18:33

और आप तो जानते ही होंगे कि इस देश में अगर बिना पेटेंट किये माल चांदनी चौक पहुचा दिया तो उस सरकारी इन्स्पेक्टर को भी तेल लगाना पडेगा :)

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:35

सब सेटिंग का जमाना हओ भईये और ताऊ तो सेटिंग का मास्टरशुरु से है...कैसा एक बार कुँए में जा छिपा था. :)

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:35

dactar saab thodi sahayataa kijiye!!aaj jaldi jaanaa hai !!!

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:36

nitu singh, shbanaa aazmi, nagarjuna, kapil dev

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:39

कहने को तो आज धरा को
कोहरे ने आकर घेरा है..
पर खिड़की से जितना दिखता है
उतना सा कोहरा मेरा है...

भूखे नंगे और गरीबी
कितनी जग में फैली है
जिस पर भी जा नजर पड़े
उसकी ही चादर मैली है

खुद की गुजर करुँ मैं इसमें
ये मँहगाई का डेरा है...
खिड़की से जितना दिखता है
उतना सा कोहरा मेरा है...

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:40

डॉक्टर साहब कह रहे हैं कि अभी तक आधा ही जबाब लोग दे पा रहे हैं याने चार में दो....


ये हिंट दी है उनने!!

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:41

ha..ha.. sameerji !! aap to banaane me lage hain !!!

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 18:44

सच में...डॉक्टर झटका मिले थे, वो कह रहे थे.

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:45

ha..ha.. sameerji kahin aaj phir dand naa lag jaaye !!!

  दिनेशराय द्विवेदी

22 January 2010 at 18:45

सबरा भाई बैण्याँ कै ताँईँ दिनेसराई दुबेदी को राम!राम!
अब आपण तो पूरो म्हूंडो देख कै पछाण ल्याँ तो गनीमत छे।

  Murari Pareek

22 January 2010 at 18:49

ठीक है दिनेश जी काल मुंडो भी दिखा देसीं !!

  दिनेशराय द्विवेदी

22 January 2010 at 18:54

पाँच बरस की उमर में किसी की शादी में अम्माँ ने अपनी साड़ी दूसरे को पहना दी। मैं ने उस महिला को जा पकड़ा। अब यही घटना बीस पच्चीस साल बाद घट जाती और अम्माँ के बजाय यह काम श्रीमती ने किया होता तो अपनी तो तभी बारह बज गई होती ना?

  डाँ. झटका..

22 January 2010 at 19:00

जरुरी सूचना:

जल्द ही हिंट दिया जाने वाला है.

धन्यवाद

  डाँ. झटका..

22 January 2010 at 19:02

हिंट :-

आज की पहेली मे एक प्रसिद्ध बालीवुड हिरोइन है.

दूसरा एक प्रसिद्ध इंडियन खिलाडी है.

तीसरी एक पति पत्नि की जोडी है पर विदेशी है.

हिंट समाप्त.

  ब्लॉ.ललित शर्मा

22 January 2010 at 19:10

सभी को राम-राम

आज पहेली नही पहेला है
यह बवाल नही बवेला है

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 19:17

पति पत्नी का जोड़ा....वो भी विदेशी...हम्म!!!

  देवेन्द्र पाण्डेय

22 January 2010 at 19:18

neetu singh
kapil dev
Udit Narayan and his wife.

  Udan Tashtari

22 January 2010 at 19:20

देवेन्द्र भाई

उदित नारायण विदेशी???

  देवेन्द्र पाण्डेय

22 January 2010 at 19:21

सभी को नमस्कार. आने में देर हो ही जाती है आज मौका देखा तो तुक्का लगा दिया. बहुत कठिन पहेली जान पड़ती है.

  डाँ. झटका..

22 January 2010 at 19:28

जरुरी सूचना :-

जल्द ही दूसरा और अंतिम हिंट दिया जारहा है.

धन्यवाद

  डाँ. झटका..

22 January 2010 at 19:29

हिंट :-

पति पत्नि मे से अब एक ही जिंदा है.

अब अन्य कोई हिंट नही दिया जायेगा.

धन्यवाद

  Anonymous

22 January 2010 at 19:32

Benazir aur zardari
neetu singh
kapil dev

sabko ram ram

  Murari Pareek

22 January 2010 at 19:37

Benazir aur zardari
neetu singh
kapil dev
sahi hai!!!

  देवेन्द्र पाण्डेय

22 January 2010 at 19:51

मैंने गूगल में हिंदी में 'मूछों' टाईप किया तो M.Verma जी, 'मूछों वाला' टाइप किया तो समीर जी की फोटो आ रही है ..मैं क्या करूँ?

  देवेन्द्र पाण्डेय

22 January 2010 at 20:00

ओह, सही जवाब आ गया. सर दुखाऊ पहेली से पाला पड़ा था.

  स्वप्न मञ्जूषा

22 January 2010 at 21:09

नीतू सिंह, कपिल देव, उदित नारायण

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

22 January 2010 at 21:27

ताऊ राम-राम!

  Unknown

22 January 2010 at 22:18

नीतू सिंह , कपिल देव ,
आसिफ अली जरदारी और बेनजीर भुट्टो ।

गूगल में सर्च करने पर जरदारी की मूँछो वाला फोटो दिख जाता है। और बाकी डॊ.झटका ने तो हिंट दे ही दी है।

Followers