ताऊ की चौपाल में : दिमागी कसरत - 33


नमस्कार दोस्तों. मैं आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" आज सुबह की दिमागी कसरत की कक्षा मे आपका स्वागत करता हूं. आप अगर मेरी क्लास में नियमित आते रहे तो आपका दिमाग बिल्कुल मेरी तरह यानि तेज कैंची की तरह चलने लगेगा. तो आज हम आपको एक बिल्कुल सीधा सा सवाल दे रहे हैं. इसे हल करके जवाब दिजिये. फ़िर हम आपकी कापी चेक करके बतायेंगे कि आपके दिमाग की कसरत कितनी हुई?

सवाल यह रहा :-


छुन्नू अपनी दादी के जन्म दिन पर कुछ टॉफी लेकर कर घर से निकला.
घर से दादी के घर के रास्ते में ७ पुल पड़ते हैं.
सातों पुलों पर टैक्स वसूलने वाले बैठे हैं.
हर पुल पर उसके पास जितनी टॉफी है, उसकी आधी टॉफी टैक्स में लग जाती हैं.
मगर सभी टैक्स अधिकारी दिल के अच्छे हैं और जब उन्हें उसकी दादी के जन्म दिन का पता चलता है तो एक टॉफी वापस कर देते हैं.
छुन्नु को घर से कितनी टॉफी लेकर निकलना पड़ेगा कि वो दादी के पास २ टॉफी लेकर पहुँचे.


है ना मजेदार सवाल? तो फ़टाफ़ट जवाब दिजिये!

Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

9 comments:

  संगीता पुरी

1 January 2010 at 09:20

वो घर से 2 टॉफी लेकर ही निकला था !!

  Murari Pareek

1 January 2010 at 09:20

256 toffe ka packet lenaa hogaa!!!

  seema gupta

1 January 2010 at 10:04

२ टॉफी

regards

  बवाल

1 January 2010 at 10:10

हा हा बहुत ही बढ़िया सवाल है ताऊ मगर बड़े असमंजस में पड़ गए हैं हम, क्योंकि हम तो जब भी अपनी बवालो (गाड़ी) से पूना जाते या आते हैं तो ई ससुरे टैक्स वाले हमसे रुपैया लेकर हमहीं को टॉफ़ी पकड़ाय देते हैं चिल्लहर के बद्दल। हा हा।

नव-वर्ष २०१० पर ढ़ेरों शुभकामनाओं के साथ
हमारा स्नेह भरा आग्रह है आप सब महानुभावों से :
कृपया वर्ष २०१० में हर माह कम-अज़-कम ७ (सात) नए सिर्फ़ और सिर्फ़ चिट्ठा-पाठक (हिंदी चिट्ठों को पढ़ने और विष्लेषण करने के लिए और उन पर उनकी राय याने टिप्पणियाँ देने के लिए) भी तैयार करवाएँ और इस प्रयास में यदि कोई नए चिट्ठे भी शुरू हो जाएँ तो सोने पर सुहागा है, मगर यदि हिंदी चिट्ठों की संख्या अभी कुछ दिन (लगभग १२०००) इतने पर ही बरकरार रखकर उनकी विविधता और गुणवत्ता बढ़ाने में योगदान करेंगे तो शायद हमारा प्यारा हिंदी ब्लॉगजगत अधिक सुन्दर, अधिक उपयोगी, अधिक उद्देश्य-परक, अधिक निपुण, अधिक ज्ञान-वर्धक, अधिक समृद्ध, अधिक वृहत, अधिक आयोजित, अधिक संगठित, अधिक आत्मावलोकित, आधिक आलोकित, अधिक .......................................................अरे अब हटाइये।

आप सबका बहुत बहुत आभार और धन्यवाद।
जय हिन्दी चिट्ठाकारी !
जय हिन्द !

  अन्तर सोहिल

1 January 2010 at 10:47

2 toffy

  उन्मुक्त

1 January 2010 at 11:20

ज्यादा टॉफी की जरूरत तो नहीं पड़नी चाहिये। दो काफी होनी चाहिये। किसी टैक्स वसूली करने वाले को दी भी तो भी वापस।
अन्तर ही क्या पड़ता है कि ७ पुल हों या अनगिनत।

  Sadhana Vaid

1 January 2010 at 12:45

छुन्नू कुल 2 टॉफी लेकर दादी के पास जायेगा और हर पुल पर पचास प्रतिशत टैक्स अर्थात एक टॉफी देने पर उसे वही टॉफी वापिस मिल जायेगी । इस तरह सातों पुल पार करने के बाद वह वही दो टॉफी लेकर दादी के पास पहुँचेगा ।

  सुलभ सतरंगी

1 January 2010 at 17:18

इस परिस्थिति में छुन्नू को घर से सिर्फ 2 टॉफी लेकर निकलना पड़ेगा

१. २/२ = १, १+१ = २
२. २/२ = १, १+१ = २
............................
...........................
७. २/२ = १, १+१ = २.


नववर्ष की बधाई एवं शुभकामनाओं सहित
- सुलभ जायसवाल 'सतरंगी'

  Udan Tashtari

1 January 2010 at 18:41

आजकल संगीता जी को क्या हो गया है??

एकाएक सभी पहेली पर उनका कब्जा!!


बहुत बधाई.

Followers