दिमागी कसरत - 50 : विजेता : श्री रवि सिंह


"दिमागी कसरत - 50 के जवाब"


प्यारे साथियों, मैं आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" आपका हार्दिक स्वागत करता हूं और अब मैं आपको दिमागी कसरत - 50 के जवाब बताता हूं.


सवाल था : आपके सामने १० बैग हैं. हर बैग में १० सोने के सिक्के है. एक को छोड़ कर सभी बैग के सिक्के १० ग्राम के है, बस एक बैग के सिक्के ९ ग्राम वाले है. आपके पास एक तराजू में तौलने का एक मौका है. कैसे पता करेंगे कि किस बैग में ९ ग्राम के सिक्के हैं?

सही जवाब में हम आज के प्रथम विजेता श्री raveesingh की टिप्पणी छाप रहे हैं जो कि बिल्कुल सही जवाब है:- बधाई श्री रविसिंह जी को.

raveesingh said...
पहले बैग से एक, दूसरे बैग से दो, तीसरे बैग से तीन, चौथे बैग से चार, पांचवे बैग से पाच, छठवे बैग से छह, सांतवे बैग से सात, आठवे बैग से आठ, नवें बैग से नौ, और दसवे बैग से दस सिक्के लेकर एक साथ तौलें

यदि वजन 549 ग्राम है तो पहले बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 548 ग्राम है तो दूसरे बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 547 ग्राम है तो तीसरे बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 546 ग्राम है तो चौथे बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 545 ग्राम है तो पांचवे बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 544 ग्राम है तो छठवे बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 543 ग्राम है तो सातवे बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 542 ग्राम है तो आंठवे बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 541 ग्राम है तो नवे बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं
यदि वजन 540 ग्राम है तो दसवें बैग में 9 ग्राम के सिक्के हैं

18 January 2010 08:24


और इसके बाद सुश्री संगीता पुरी, सुश्री अल्पना वर्मा श्री मुरारी पारीक श्री संजय बेंगाणी और सुश्री रेखा प्रहलाद ने भी श्री रविसिंह के जवाब का समर्थन किया और विजेताओं की सूची मे नाम लिखा लिया.

सभी विजेताओं को बधाई और शुभकामनाएं.

अगला सवाल कल सुबह ८:०० बजे. तब तक के लिये नमस्ते!



Powered By..
stc2

Promoted By : ताऊ और भतीजाएवम कोटिश:धन्यवाद

3 comments:

  sangita puri

18 January 2010 at 21:23

दिमागी कसरत की इन पहेलियों से बहुत जानकारी बढ रही है .. रवि सिंह जी को बधाई !!

  Anonymous

18 January 2010 at 21:43

रवि सिंह जी को बधाई.

दिमागी कसरत बहुत बढ रही है इन पहेलियों को सुलझाते सुलझाते ;-)

  दिनेशराय द्विवेदी

18 January 2010 at 21:47

रविसिंह जी को बधाई!

Followers