ताऊ की चौपाल मे : दिमागी कसरत - 60


नमस्कार दोस्तों. मैं आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" आज सुबह की दिमागी कसरत की कक्षा मे आपका स्वागत करता हूं. आप अगर मेरी क्लास में नियमित आते रहे तो आपका दिमाग बिल्कुल मेरी तरह यानि तेज कैंची की तरह चलने लगेगा. तो आज हम आपको एक बिल्कुल सीधा सा सवाल पूछ रहे हैं. इसका जवाब दिजिये. फ़िर हम आपकी कापी चेक करके बतायेंगे कि आपके दिमाग की कसरत कितनी हुई?

सवाल यह रहा :-


पहले क्या आया: मुर्गी या अंडा?


तो फ़टाफ़ट जवाब दिजिये!

13 comments:

  मोहसिन

28 January 2010 at 08:01

pehle anda aaya kyunki murgi se pehle dinosaur anda deta tha:)

  Sadhana Vaid

28 January 2010 at 08:16

कायदे से तो पहले मुर्गी ही आयी | लेकिन वैज्ञानिक तथ्यों के अनुसार सभी प्राणियों का विकास लंबे काल में अतराल में क्रमिक रूप से पहले अमीबा और फिर वनस्पतियों से हुआ है |

  seema gupta

28 January 2010 at 08:36

ना मुर्गी ना अंडा पहले मुर्गा आया
ha ha ha ha

regards

  seema gupta

28 January 2010 at 08:36

ना मुर्गी ना अंडा पहले मुर्गा आया

regards

  Vivek Rastogi

28 January 2010 at 08:43

पहले जरुर मुर्गी आई होगी

  निर्मला कपिला

28 January 2010 at 08:54

जो सही जवाब हो वही मेरा जवाब है हा हा हा

  Udan Tashtari

28 January 2010 at 09:07

ये प्रश्न बहुत झकझोरता है. विशिष्ट चिन्तन का विषय है, :)

  vishal

28 January 2010 at 11:04

Murgi Ya Anda , Dono Mein se
Jiska Order Pahle Doge Vo Pahle Aayega.

  पी.सी.गोदियाल

28 January 2010 at 11:38

पहले "अ" से अंडा आया
फिर "म" से मुर्गी आयी !

  Sadhana Vaid

28 January 2010 at 16:19

अगर यह सवाल मुर्गी के अंडे से जुड़ा नहीं है तब तो निश्चित रूप से अंडा ही पहले आया है | क्योंकि जानवरों की उत्पत्ती प्रारम्भ में अण्डों से ही होती थी |

  Sadhana Vaid

28 January 2010 at 16:19

अगर यह सवाल मुर्गी के अंडे से जुड़ा नहीं है तब तो निश्चित रूप से अंडा ही पहले आया है | क्योंकि जानवरों की उत्पत्ती प्रारम्भ में अण्डों से ही होती थी |

  दिगम्बर नासवा

28 January 2010 at 18:29

Ye khilaane waale par nirbhar katra hai .... jo pahle le aye ....

  Rekhaa Prahalad

28 January 2010 at 18:34

Main sameer ji se sahmat hu ye to विशिष्ट चिन्तन का विषय है;) Ye ek unsuljhi paheli hai. Ab Aristotle kya kahete hai iske baare me :

Aristotle (384-322 BC) was puzzled by the idea that there could be a first bird or egg and concluded that both the bird and egg must have always existed:
If there has been a first man he must have been born without father or mother – which is repugnant to nature. For there could not have been a first egg to give a beginning to birds, or there should have been a first bird which gave a beginning to eggs; for a bird comes from an egg. http://en.wikipedia.org/wiki/Chicken_or_the_egg
hufffffff
hahahahaha :)

Followers