खुल्ला खेल फ़र्रुखाबादी : 189 आयोजक उडनतश्तरी

बहनों और भाईयों, मैं उडनतश्तरी इस फ़र्रुखाबादी खेल में आप सबका आयोजक के बतौर हार्दिक स्वागत करता हूं.

जैसा कि आप जानते हैं कि अब से इस खेल के दिन मंगलवार और शुक्रवार निर्धारित कर दिये गये हैं. समय शाम 4:44 PM. रहेगा. आईये अब खेल शुरु करते हैं.

नीचे का चित्र देखिये और बताईये कि यहां ये ताऊ क्या कर रहे हैं है?



तो अब फ़टाफ़ट जवाब दिजिये. आज मैं और डाक्टर झटका खेल दौरान आपके साथ रहेंगे.

"बकरा बनाओ और बकरा मेकर बनो"

टिप्पणियों मे लिंक देना कतई मना है..इससे फ़र्रुखाबादी खेल खराब हो जाता है. लिंक देने वाले पर कम से कम २१ टिप्पणियों का दंड है..अधिकतम की कोई सीमा नही है. इसलिये लिंक मत दिजिये.

12 comments:

  shikha varshney

2 February 2010 at 18:27

khaat par bethe gyaan de rahe hain...

  पी.सी.गोदियाल

2 February 2010 at 18:32

जाहिर सी बात है की आगे बैल है तो खेत पर हल लगा रहे है या फिल हल लगने और बीज बोने के बाद जो मिटटी को समतल करने के लिए चलाया जाता है उस पर पैर रखे है !

  Murari Pareek

2 February 2010 at 18:43

KOLHU CHALAA RAHE HAIN !

  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

2 February 2010 at 21:19

बैलों को पानी दिखाने ले जा रहे हैं!

  Udan Tashtari

2 February 2010 at 21:43

ताऊ हैं जो करें सो कम!

  संगीता पुरी

2 February 2010 at 23:37

बैलगाडी में बैठे हैं !!

  संगीता पुरी

2 February 2010 at 23:37

आज बहुत कम टिप्‍पणी ???

  डाँ. झटका..

3 February 2010 at 00:32

सूचना : अभी तक सही जवाब नही आया है. अपना जवाब देना चालू रख सकते हैं. इस पहेली का जवाब गुरुवार सुबह दिया जायेगा. तब तक आप जवाब दे सकते हैं.

धन्यवाद

  K. D. Kash

3 February 2010 at 10:17

doodh nilkal rahe hai

  K. D. Kash

3 February 2010 at 10:21

दूध निकाल रहे है

  seema gupta

3 February 2010 at 15:52

taau ji ki maaya hai ye kuein yani well se pani nikalne kaa kaam kr rhe hain. Regards

  किरण राजपुरोहित नितिला

3 February 2010 at 23:03

जमीन को समतल कर रहे है।

Followers